उर्जांचल टाईगर


तीन सम्पादकीय लिखने पर तीस वर्षों की सजा।

"स्वराज" इलाहाबाद से निकलने वाला एक उर्दू साप्ताहिक समाचारपत्र था।1907 में उर्दू में निकलने वाला एक ऐसा अखबार था जिसने ढाई साल में ही आठ सम्पादक देखे। इसके सम्पादक जल्द बदलते रहे, क्योंकि अखबार ने अंग्रेजी सरकार के विरुद्ध अपनी कलम की धार कभी भोथरी नहीं होने दी। इसके एवज में सम्पादकों को कालापानी की सजा हो गई। सात सम्पादकों को कुल मिलाकर 94 साल 9 महीने की सजा हुई।काबिलेगौर वाली बात यह है,की उर्दू में छपने वाले ‘स्वराज’ के आठों सम्पादकों में से कोई भी मुसलमान नहीं था जो गंगाजमुनी तहज़ीब की जिंदा मिसाल है।

"हिंदुस्तान के हम हैं, हिंदुस्तान हमारा है'

शांति नारायण भटनागर ने उर्दू के साप्ताहिक अखबार स्वराज को 1907 में दिवाली के दिन से शुरू किए थे। शांति नारायण लाहौर से प्रयागराज आए और 8 पेज के इस अखबार का प्रकाशन शुरू किया। इस अखबार की टैग लाइन "हिंदुस्तान के हम हैं, हिंदुस्तान हमारा है' था। इस दौरान उन्होंने भारत माता सोसायटी बनाई जिसका सालाना चंदा मात्र 4 रुपए था।

स्वदेशी आंदोलन के समय 1907 में उत्तर प्रदेश में इलाहाबाद के निवासी शांति नारायण भटनागर ने अपनी जमीन-जायदाद बेचकर स्वराज नामक साप्ताहिक अखबार निकाला। स्वराज अखबार के सम्पादकों को कुल 125 वर्ष के काले पानी की सजा हुई, फिर भी डिगे नहीं। स्वराज के संस्थापक भटनागर जी 'रायजादा' कहलाते थे उन्हें भी सरकार ने नहीं छोड़ा। तीन वर्षों का सश्रम कारावास हुआ। 

कलेक्टर ने चुनौती दी कि और भी कोई है इस तख्त पर गद्दीनशीन होने के लिये।

स्वराज प्रेस जब्त कर लिया गया। नया प्रेस खुला। बलिदानी सम्पादकों ने फिर कमान संभाल ली। होती लाल वर्मा को 10 वर्ष तथा बाबू राम हरि को 11 अंकों के प्रकाशन के बाद 21 वर्षों की सजा हुयी। मुंशी राम सेवक नये सम्पादक के रूप में कलेक्टर को अपना घोषणा पत्र ही दे रहे थे कि उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। कलेक्टर ने चुनौती दी कि और भी कोई है इस तख्त पर गद्दीनशीन होने के लिये। तब आगे आये देहरादून के नन्द गोपाल चोपड़ा, जिन्हें 12 अंकों के सम्पादन के बाद 30 वर्षों की सजा दी गयी। तब एकदम से 12 नामों की सूची सम्पादक बनने के लिए आयी। सभी ने कहा हम करेंगे सम्पादन। किन्तु पंजाब के फील्ड मार्शल कहे जाने वाले लद्धा राम कपूर सम्पादक बने। उन्हें तीन सम्पादकीय लिखने पर प्रति सम्पादकीय 10 वर्ष अर्थात् कुल तीस वर्षों की सजा हुई। इसके पश्चात अमीर चन्द्र जी इसके सम्पादक बने। 
हर सम्पादक के जेल जाने के बाद स्वराज में एक विज्ञापन छपता था -  सम्पादक चाहिए- वेतन दो सूखे ठिक्कड़ (रोटी), एक गिलास ठंडा पानी, हर सम्पादकीय लिखने पर 10 वर्ष काले पानी की कैद।फिर भी लोग डरे नहीं, दमन के सम्मुख झुके नहीं। 


सिंगरौली।। नगर निगम के आयुक्त शिवेन्द्र सिंह के द्वारा गारवेज मुक्त शहर की रैकिंग के जिन पैरामीटरो में कम अंक मिले है उसके संबंध मे विंदुवार समीक्षा की गई। तथा निर्देश दिया गया कि आगामी वर्ष के लिए निर्धारित विंदुओ मे सुधार किये जाने के साथ साथ सर्वेक्षण के दौरान जो कमिया पाई गई है उन्हे दूर करने के लिए अभी कार्ययोजना तैयार की जाये। निगमायुक्त ने खुशी जाहिर करते हुये कहा हमारा शहर संभाग का एकलौता शहर जिसे गरवेज मुक्त शहरो की रैकिंग मे 3 स्टार मिला है। उन्होने कहा कि यह शहर के आम जनो मे आई जागरूकता का परिणाम है।

तो NCL की वज़ह से गारवेज मुक्त शहर की 5 स्टार रैकिंग पाने से चूक गया सिंगरौली ?
बैठक के दौरान यह बात सामने आई कि एनसीएल के द्वारा ठोस अपष्टि प्रबंधन नियम 2016 के प्रावधानो के अनुसार सिग्रीकेशन के साथ ही आन साईट कंमपोस्टिंग एवं प्राप्त कचरे को नियत स्थान पर डंप नही किया जाता है बल्कि कचरे को कही भी फेक दिया जाता है। जिसका परिणाम है कि सर्वे दल के द्वारा अवलोकन पश्चात शहर के लिए निगेटिव अंक दिया गया। जिसका परिणाम यह हुआ कि अपना शहर 5 स्टार रैकिंग से वंचित रह गया तथा इससे शहर की स्वच्छता रैकिग भी प्रभावित हुई है एनसीएल के द्वारा स्वच्छता के मापदण्डो का पालन नही किया जाना ठोस अपष्टि प्रबंधन नियम का उल्लंघन है जिसके संबंध में एनसीएल प्रबंधन को कई बार पत्राचार के माध्यम से अवगत भी कराया गया। आज भी कालोनियो का जो कचरा एनसीएल के द्वारा संग्रहण किया जा रहा है वह मापदण्डो के अनुसार नही है। जिसके संबंध मे जिला प्रशासन को अवगत कराया जाने हेतु निगमायुक्त के द्वारा निर्णय लिया गया। 

निगमायुक्त के द्वारा बैठक मे उपस्थित अधिकारियो को निर्देश दिया गया कि जिस तरह से शहर की साफ सफाई व्यवस्था मे टीम लगी हुई है आगे भी इसी तरह कार्य करती रहे। उन्होने साफ सफाई के कार्यो मे सतत निगरानी रखे का निर्देश दिया। उन्होने निर्देश दिया कि सर्वजनिक स्थानो मे थूकने वाले या बिना मास्क के घर से बाहर निकलने वालो के विरूद्ध चलानी कार्यवाही भी किया जाना सुनिष्चित करे।बैठक के दौरान नगर निगम के उपायुक्त आर.पी वैश्य, कार्यपालन यंत्री व्ही.पी उपाध्याय, सहायक यंत्री संतोष पाण्डेय, उपयंत्री अनुज सिंह स्वच्छता निरीक्षक जे.के सिंह, प्रबंधक नेचर ग्रीन टूल्स प्राईवेट लिमिटेड रावेन्द्र सिंह उपस्थित रहे।


वाराणसी से अंकुर पटेल की रिपोर्ट
वाराणसी आदमपुर थाना के समीप एक पर्स गिरा मिला पर्स में सात हजार पांच सौ रुपए,आधार कार्ड व जरूरी कागजात थे। कागजात के आधार पर मंडुआडीह की निवासी दिव्या जायसवाल को 112 डायल के सिपाही दुष्यंत यादव व राजकुमार ने सूचना देकर थाने पर बुलाकर महिला को नगद व पर्स सुपुर्द किया। महिला ने पुलिस को धन्यवाद दिया।

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget