आदिवासी-किसानो के अधिकारों के लिए विशाल रैली



रोजगार मूलक विकास नीति बनाने की मांग


नई दिल्ली।। जनता दल (यूनाईटेड) एवं गोडवाना गणतंत्र पार्टी द्वारा देश के प्रथम स्वतंत्रता आंदोलन के नायक अमर शहीद राजा शंकरशाह–रधुनाथशाह के बलिदान दिवस 18 सितम्बर को जंतर-मंतर पर आदिवासी-किसानों ने हजारो की संख्या में पहुंचकर प्रातः 10 बजे से विशाल रैली एवं आम सभा की। रैली एवं आम सभा को जनता दल (यू0) के राष्ट्रीय अध्यक्ष शरद यादव एवं गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष हीरा सिंह मरकाम ने सम्बोधित किया।

आम सभा में देश के विभिन्न प्रांतो से आये आदिवासी-किसानों ने केन्द्र सरकार की नीतियों के संदर्भ में 27 सूत्री मॉग पत्र पारित किया, जिसे शरद यादव सहित हीरा सिंह मरकाम, छोटू भाई वसावा एम0एल0ए, अनिल भगत, महेश भाई वसावा, भैरो सिंह दामोर शाम 6 बजे महामहिम राष्ट्रपति श्री प्रणव मुखर्जी को सौपेगे । मॉग पत्र में आजादी के बाद आदिवासी-किसानों के जमीन अधिग्रहण, विस्थापन, पुर्नवास, रोजगार की स्थिति पर ष्वेत पत्र लाने, शहरीकरण औद्योगीकरण के नाम पर जमीन अधिग्रहण पर रोक लगाने, गोड़ी भाषा को संविधान की आठवीं अनुसूची में शामिल करने, वनाधिकार कानून लागू करने, परमाणु बिजली परियोजनाएं निरस्त करने, नर्मदा, माही सहित प्रमुख नदियो के किनारे औद्योगीकरण बंद करने कुटेष्वर लाईम स्टोन, कटनी , मध्य-प्रदेश के मजदूरो को न्यूनतम वेतन देने, ठेका प्रथा बंद करने, विशेष  आर्थिक क्षेत्र कानून रद्द करने, इलेक्ट्रानिक वोटिग मशिन पर प्रतिबंध लगाने, 73, 74 संविधान संशोधन के अनुसार स्थानीय निकाय एवं पंचायतो को अधिकार देने, समान शिक्षा प्रणाली लागू करने, रोजगार मूलक आर्थिक-विकास नीति बनाने, महॅगाई पर नियंत्रण लगाने, भ्रष्टाचार के खात्मा के लिए विधायिका, कार्यपालिका न्यायपालिका, पत्रकारिता से जुड़े लोगों की सम्पत्ति की जॉच के लिए आयोग बनाने, आदिवासी-किसानों की जमीन में लगने वाले 

उद्योगों में 25 प्रतिषत भागीदारी एवं 25 प्रतिषत क्षेत्रीय विकास पर खर्च करने एस.सी/एस.टी/पिछड़ा वर्ग के खाली पदो पर भर्ती करने, खुदरा व्यापार में विदेशी निवेश पर रोक लगाने, गांवो का विकास सहकारिता के माध्यम से करने, पानी, बिजली, शिक्षा-स्वास्थ्य-परिवहन का निजीकरण पर रोक लगाकर राष्ट्रीयकरण करने, अल्पसंख्यकों के कल्याण के लिए आबादी के अनुसार शिक्षा-स्वास्थ्य-आवास एवं रोजगार के लिए बजट उपलब्ध कराने की मॉग की है ।

आज की रैली एवं प्रदर्षन में मध्य-प्रदेष, छत्तीसगढ़, राजस्थान, गुजरात, उत्तर-प्रदेश, बिहार, झारखण्ड, दिल्ली, हरियाणा, उड़ीसा, महाराष्ट्र, आन्ध्र-प्रदेष तेलांगना सहित देष के विभिन्न प्रांतो के आदिवासी-किसानो ने हजारो की संख्या में शामिल होकर संविधान विरोधी नीतियो पर तत्काल रोक लगाने की केन्द्र सरकार से मॉग की । आंदोलन के अगले चरण की घोषणा बाद में की जायेगी ।
Labels:
Reactions:

Post a Comment

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget