भारतीय शहरों की हवा में प्रदुषण की मात्रा खतरनाक स्तर पर पहुंच गयी है


नई दिल्ली।। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लूएचओ) ने अपनी आज जारी रिपोर्ट में एक बार फिर इस बात पर जोर दिया है कि दिल्ली के साथ-साथ ग्वालियर, इलाहाबाद, पटना और रायपुर के अलावा दूसरे कई भारतीय शहरों की हवा में प्रदुषण की मात्रा खतरनाक स्तर पर पहुंच गयी है और इससे निपटने की तत्काल जरुरत है।

ग्रीनपीस इंडिया लगातार राष्ट्रीय स्वच्छ वायु योजना नीति को लागू करने की माँग करता रहा है और अपने रिपोर्ट्स में दिल्ली और देश के दूसरे शहरों में प्रदुषित हवा के खतरों की तरफ इशारा किया है । डब्लूएचओ द्वारा आज जारी की गयी रिपोर्ट के अनुसार भी, दिल्ली के अलावा अन्य कई भारतीय शहरों में खतरनाक होते वायु प्रदुषण से निपटने के लिये तत्काल राष्ट्रीय और क्षेत्रीय स्तर पर कार्य-योजना बनाने की जरुरत है। ग्रीनपीस इंडिया द्वारा उठाये गए मुद्दे को समय-समय पर दूसरी एजेंसी और संस्था - जैसे आईआईटी कानपुर, डब्लूएचओ और सरकार के अपने केन्द्रीय प्रदुषण नियंत्रण बोर्ड (सी॰पी॰सी॰बी॰) द्वारा जारी रिसर्च में भी दोहराया जाता रहा है।
“प्रदुषित हवा लंबी दुरियों को तय करते हुए फैलती है। जिस तरह प्रदूषित हवा राजनीतिक सीमाओं को नहीं पहचानती उसी तरह प्रदूषण से लड़ने के लिए भी एक संगठित राष्ट्रीय कार्य प्रणाली बनाना अत्यावश्यक है,” ग्रीनपीस इंडिया के कैंपेनर सुनिल दहिया ने कहा, “इस प्रक्रिया में सभी राज्यों को - और सभी संबंधित पक्षों को - शामिल करना होगा। वायु प्रदुषण आज एक राष्ट्रीय समस्या है और इससे निपटने के लिये एक राष्ट्रीय कार्ययोजना वक्त की जरुरत है”।

दूसरे कारणों के साथ-साथ भारत में जीवाश्म ईंधन की बढ़ती खपत भी वायु प्रदुषण की एक बड़ी वजह है। वायु प्रदुषण में माध्यमिक कणों एसओ2 और एनओएक्स की उल्लेखनीय वृद्धि के लिये थर्मल पावर प्लांट्स से उत्सर्जन को प्रमुख रूप से जिम्मेदार ठहराया जा सकता है।

सुनिल का कहना है, “हमें खुशी है कि सरकार ने इस समस्या से निपटने के लिये कुछ कदम उठाये हैं- जैसे कि थर्मल पावर प्लांट्स से उत्सर्जन के नये मानकों को लागू करना, या वाहनों के लिये भारत VI मानक तय करना। अब सबसे जरुरी यह है कि इन नीतियों और मानदंडों को लागू किया जाये जिससे आम लोगों पर वायु प्रदुषण का मंडरा रहा खतरा कम हो। साथ ही, पर्यावरण पर कई सकारात्मक परिणाम के लिये, सरकार को स्वच्छ, अक्षय ऊर्जा की तरफ बढ़ना चाहिए। यह एकमात्र रास्ता है जिससे हम आने वाली पीढ़ियों को एक सुरक्षित और स्वस्थ्य भविष्य दे सकते हैं”।

Post a Comment

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget