वाराणसी-रक्तदान कर दें कारगिल शहीदों को श्रद्धांजलि

फ़ोटो-उर्जान्चल टाइगर 
वाराणसी ब्यूरो कार्यालय।। वाराणसी के लोग इस जोश के साथ कारगिल फतह के 18वें विजय दिवस पर शहीद जांबाजों को श्रद्धांजलि स्वरूप रक्तदान के लिए जोश और उत्साह लबरेज हैं। अगर आप भी रक्तदान करना चाहते हैं तो अमर उजाला फाउंडेशन और बीएचयू के सर सुंदर लाल अस्पताल के संयुक्त तत्वावधान में 26 जुलाई को लगने वाले रक्तदान शिविर (सुबह 9.00 बजे से शाम 3.00 बजे तक) में आकर रक्तदान कर सकते हैं।
पिछली बार रक्तदान से वंचित लोगों के लिए भी सुनहरा अवसर है। इस रक्तदान से एक पंथ दो काज होगा। कारगिल शहीदों को याद करेंगे, उन्हें श्रद्धांजलि देने के साथ रक्तदान देकर किसी की जान बचा सकते हैं। रक्तदान के लिए फोन और व्हाट्सएप से पंजीयन जारी है।
रक्तदान करने से सेहत पर किसी भी तरह का विपरीत प्रभाव नहीं पड़ता है। इसे लेकर किसी प्रकार की भ्रांति या भ्रम होने पर इससे जुड़े लोगों से बात कर लेनी चाहिए। स्वस्थ मनुष्य को रक्तदान हर तीन महीने में करना चाहिए।
अक्सर अपने किसी रिश्तेदार और परिवारीजन को जरूरत पड़ने पर भी लोग रक्त देने से कतराते हैं। उन्हें मालूम होना चाहिए कि जीवन में इससे बड़ा महादान और कुछ नहीं है। ऐसे बहुत से लोग होते हैं, जिन्हें इलाज के दौरान खून की जरूरत पड़ती तो है लेकिन डोनर न होने की वजह से उन्हें समय से खून नहीं मिल पाता है और ऐसे में उनकी जान जाने का खतरा बना रहता है।

बीएचयू ब्लड बैंक के इंचार्ज डॉ. एसके सिंह ने बताया कि इसमें 18 से 65 वर्ष तक के लोग रक्तदान कर सकते हैं, जिनका वजन 45 किलोग्राम से अधिक हो। मिथक है कि शाकाहारी व्यक्ति के शरीर में लौह तत्वों की कमी होती है और वे रक्तदान नहीं कर सकते हैं।
इस बारे में सच्चाई यह है कि शाकाहारी व्यक्ति रक्तदान कर सकते हैं। लौह तत्वों की कमी एक महीने में धीरे-धीरे पूरी हो जाती है। शिविर में भागीदारी के लिए अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद और जरूरतमंदों के लिए रक्तदान करने वाले संगठन गिव ब्लड ए चांस सहित कई लोग जुड़ते जा रहे हैं।
Reactions:

Post a Comment

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget