चोटीकटवा की अफवाह से गाँवों की महिलाओं में खौफ,हो रहा रतजगा


शिकार लोगों में प्रौढ़ किशोरी व महिलाएं ही शामिल
वाराणसी से राजेश वर्मा।। ऐसा कहा जाता है कि अफवाहों के सिर-पैर नहीं होते हैं लेकिन, अफवाह तेजी से फैलने लगे तो बड़े तबके में खौफ जरूर पैदा कर देती है। इन दिनों ऐसी ही एक अ‍फवाह ने न सिर्फ विद्यापीठ ब्लॉक से जुड़े गांवों में बल्कि जिले के लगभग हर गाँवों में खौफ कायम कर रखा है। मूर्तियों को दूध पिलाने, समुद्र का पानी मीठा होने, मंकी मैन,मुँहनोचवा की तरह इन दिनों देश भर में 'चोटी कटवा' यानी लड़कियों, महिलाओं की चोटी काट लेने की अफवाह भी फैली हुई है।

गांवों के लोगों का दावा है कि कोई रात में चुपके से आकर सो रही महिलाओं की चोटी या बाल काट दे रहा है। सच्चाई क्या है, कौन काट रहा चोटी, यह रहस्य है, क्योंकि किसी ने चोटी काटने वाले को आजतक देखा नहीं है,कई गांवों में रतजगा हो रहा है तो कई गांवों में पुलिस का पहरा बिठा दिया गया है।क्षेत्र के लहरतारा,मडुवाडीह,महेशपुर,शिवदासपुर,भिटारी,लोहता समेत कई गांवों में इस अफवाह ने पिछड़े सोच वाले लोगों की नीदें उड़ा दी है।घटना के बाद से फैले अफवाहों से प्रभावित ग्रामीण घर के बाहर लाठी लेकर पहरा दे रहे हैं।घरों के मुख्य दरवाजे पर हाथ के थापे लगाये गये हैं और नीबू-मिर्च टंगे हैं।

मास हिस्टिरिया का हो सकता है असर -डॉक्टर,ओ.पी शुक्ला

वाराणसी।जहां कुछ लोग इसे तांत्रिक या टोना- टोटका करने वाले गिरोह का संगठित अपराध मान रहे हैं तो विद्यापीठ ब्लॉक के चिकित्साप्रभारी डॉक्टर ओ.पी शुक्ला का दावा है कि यह घटना मास हिस्टिरिया का परिणाम है।इन घटनाओं की रिपोर्ट करने वाली महिलाएं निश्चित तौर पर किसी आंतरिक मनोवैज्ञानिक द्वंद्वसे जूझ रही होंगी।जब वो इस तरह की घटनाओं के बारे में सुनती हैं तो खुद पर ऐसा होते हुए अहसास करती हैं, ऐसा कभी- कभी अवचेतनावस्था में भी होता है।डॉक्टर ओ. पी शुक्ला के अनुसार इसके जो कारण हो सकते हैं। वह है- मॉस हिस्टीरिया नाम की मानसिक समस्या। इस समस्या के तहत एक स्‍थान विशेष में रहने वाला पूरा समूह किसी अफवाह पर भरोसा कर लेता है और उसे सच मानने लगता है। और इसका परिणाम ऐसा होता है कि लोग इस तरह की हरकतें करने भी लगते हैं। डॉक्टर ओ.पी शुक्ला के अनुसार इसी तरह एक बार मुंहनोचवा की खबर फैली थी जिसे आजतक किसी ने नहीं देखा। लेकिन अफवाह पर लोगों को इतना विश्वास हो गया कि सोते वक्त उन्हें लगने लगा कि कोई उन्हें नोचकर भाग रहा है।

चोटी काटने की अफवाह पर तांत्रिक हो रहे मालामाल

वाराणसी।महिलाओं की चोटी कटने का सिलसिला खत्म होने का नाम ही नहीं ले रहा है। राजस्‍थान के एक गांव से शुरू हुए चोटी कटवा का खौफ अब हरियाणा होते हुए यूपी के बनारस तक पहुंच चुका है। कुछ लोग इसे भूत-प्रेत का साया बता रहे हैं तो कोई कह रहा है कि इसके पीछे शरारती तत्वों का हाथ हो सकता है। वहीं कुछ लोग इस घटना से छुटकारा दिलाने के नाम पर कुछ तांत्रिक धंधा करके मालामाल हो रहे है और कुछ लोग मंदिर में भीड़ लगा रहे हैं।

ये कुछ खास उपाय बता रहे हैं तांत्रिक-

वाराणसी।छोटे सोच वाले लोगों को समस्या इतनी गंभीर लग रही है कि लोग कैसे भी करके इस परेशानी से छुटकारा पाना चाहते हैं। इसके लिए वो तांत्रिक के पास जाकर तरह-तरह के उपाय कर रहे हैं। कई इलाकों में महिलाएं अपनी चोटी को पन्नी से ढककर बाहर निकल रही है। इसके साथ ही लोग दरवाजे के बाहर मेंहदी भी लगा रहे हैं। वहीं कुछ महिलाएं नीम के पत्ते लेकर घर से बाहर निकल रही हैं, ताकि चोटी काटने वालों के गिरोह से निकल सके। लोगों के मुताबिक ये सब टोटका करने से चोटी काटने वाले पास नहीं आते हैं। इसे दूर करने के लिए कई लोग डॉक्टर का सहारा ले रहे हैं तो कई लोग तांत्रिकों के पास जा रहे है और इसी वजह से तांत्रिक अच्छी-खासी रकम वसूल रहे हैं।
Reactions:

Post a Comment

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget