ताजमहल मंदिर नहीं मुमताज की याद में बना मकबरा है-भारतीय पुरातत्व विभाग


नई दिल्ली। ताजमहल के मंदिर और मकबरे को लेकर लंबे समय से चल रही बहस के बीच भारतीय पुरातत्व विभाग ( The Archaeological Survey of India (ASI)ने स्थानीय कोर्ट को अपनी रिपोर्ट सौंपी है। विभाग ने स्थानीय कोर्ट को सौंपी गई अपनी रिपोर्ट में लिखा है कि ताजमहल मंदिर नहीं बल्कि मुमताज की याद में बनवाया गया मकबरा ही है।
विभाग ने बीते गुरुवार को ये रिपोर्ट सौंपी है। जिसमें साफ-साफ कहा गया है कि ताजमहल मंदिर नहीं है। ASI ने इस तर्क को मानने से भी इनकार कर दिया है कि ताजमहल हिंदुओं का शिव मंदिर है।
दरअसल स्थानीय कोर्ट में इस संबंध में एक याचिका आठ अप्रैल 2015 में लखनऊ के गोमती नगर निवासी अधिवक्ता हरीशंकर जैन और उनके पांच साथियों ने दायर की थी। याचिका में कहा गया था कि ताजमहल कोई जानी चाहिए।

इतना ही नहीं वकीलों ने, ताजमहल के जिन कमरों में ताला लगा है उनके तालों को भी खुलवाने की बात कही थी। बता दें कि ताजमहल में अभी हर शुक्रवार को केवल मुस्लिमों को ही नमाज पढ़ने की परमिशन है। इस मामले में अब कोर्ट की अगली सुनवाई 11 सितंबर को होगी। 

गौरतल है कि ताजमहल को दुनिया के सात अजूबों में एक माना जाता है। मुगल बादशाह शाहजहां (1628—1658) ने अपनी बेगम अर्जुमंद बानो बेगम (मुमताज महल) की याद में इसे बनवाया था।

"उर्जांचल टाइगर" की निष्पक्ष पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें

Reactions:

Post a Comment

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget