निर्मल-अविरल गंगा के लिए सरकार कटिबद्ध- अनिल राजभर



होमगार्ड विभाग द्वारा नमामि गंगे जागृति यात्रा का चन्दौली में हुआ आगाज।

एम अफसर खाँ सागर@चन्दौली (उ.प्र.)। नमामि गंगा जागृति पदयात्रा का शुभारम्भ बुधवार को चंदौली जनपद के ग्रामसभा रौना से उत्तर प्रदेश सरकार के सैनिक कल्याण राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) अनिल राजभर ने हरी झंडी दिखाकर की गई । पतित पावनी मोक्ष दायिनी मां गंगा को स्वच्छ और निर्मल अविरल जल में व्यवधान उत्पन्न ना हो इसकी लोगों को शपथ भी दिलाई गई । सर्व प्रथम पदयात्रा के पूर्व सभा को संबोधित करते हुए अनिल राजभर ने कहा कि भारत के यशश्वी प्रधानमंत्री मोदी जी की स्वप्निल योजनाओं में से एक नमामि गंगे परियोजना को आगे बढ़ाने हेतु अपने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के मार्गदर्शन पर उत्तर प्रदेश होमगार्ड के कमांडेंट जनरल के सहयोग से एवं अपने सभी होमगार्ड के जवानों के परम सहयोग से नमामि जागृति यात्रा का शुभारम्भ मुख्यमंत्री जी द्वारा उनके आवास 5 कालिदास से झंडी दिखाकर 9 अगस्त 2017 को प्रारंभ किया गया, जो कि हरिद्वार से लेकर बलिया तक गंगा तट के समस्त जनपदों में जागृति यात्रा के माध्यम से स्थानीय नागरिकों एवं स्थानीय समाजसेवी संस्थाओं को मां गंगा के प्रति उनके दायित्वों का बोध कराने के लिए एवं सरकार द्वारा चलाए जा रहे गंगा के स्वच्छता के प्रति अभियान को चलाने के लिए भव्य आयोजन किया जा रहा है, जो कि जनपद चंदौली में 2 सितंबर 2017 को मां जनव्ही के पश्चिमी वाहिनी तट बलुआ में बाल्मीकि इंटर कॉलेज में एक भव्य आयोजन किया जा रहा है और आज हमें बहुत ही खुशी हुई कि इस आयोजन के पूर्व जनपद चंदौली के युवा साथियों ने एक पद यात्रा का शुभारंभ किया क्योंकि हमारे कार्यक्रम से 3 दिन पूर्व है जो आज रौना गांव से चलकर गंगा तट के किनारे किनारे 21 गांव से होते हुए 1 तारीख को बलुआ पहुंचेगी । मैं कार्यक्रम के संयोजक अरविंद पाण्डेय एवं कार्यक्रम के सह संयोजक बृजेश पान्डेय (सचिव भारत सेवा ट्रस्ट) के साथ-साथ समस्त संचालन समितियों की तहे दिल से हार्दिक स्वागत अभिनंदन करता हूं । जिन्होंने इतनी अच्छी योजनाओं को सोचा और लोगों को जागरुक करने के लिए एक मुहिम चलाई ।माँ गंगा भारत की सर्वाधिक महिमामयी नदी है । इन्हें देवनदी ,मंदाकिनी ,भागीरथी, विष्णुपगा, देव नदी आदि नामों से भी जाना जाता है । गंगा का हमारे देश के लिए बहुत अधिक महत्व है । गंगा नदी भारत के 4 राज्यों में से होकर गुजरती है। इन राज्यों में से एक उत्तर प्रदेश भी है जहां कृषि उपज से संबंधित तथा किसी कृषि पर आधारित अनेक उद्योग धंधे भी फैले हुए हैं। जिन से लाखों लोगों की जीविका भी चलती है वहीं कुछ ऐसे भी व्यापारी है जो केवल अपने लाभ के लिए कुछ ऐसे उद्योग धंधे लगा बैठे हैं जिसका केमिकल,पानी, एवं कचरा मां गंगा में प्रवाहित करते थे उनको हमारे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने अभी कुछ ही महीनों पहले ऐसे गोरखधंधों वालों को पहले नोटिस दिया था उसके बाद उसे पूर्णतया बंद कराने का कार्य किया । हमें सोचना चाहिए कि आज पूरे विश्व में प्राकृतिक की दो ही ऐसी मिशाल हैं । चाहे वह किसी भी धर्म जात-पात का हो जो हमें दिखता है। एक भगवान सूर्य और एक मां गंगा और उसी मां गंगा को हम दूषित करें ऐसा कभी संभव नहीं हो सकता । आज हम सभी जनपद वासियों इस आशा से शपथ लेंगे कि ना गंगा को हम प्रदूषित करेंगे और ना ही किसी करने देंगे । ना आप अशुद्धता फैलाएंगे ना किसी को फैलाने देंगे ।


इस अवसर पर देवेंद्र सिंह, सूर्यमुनि तिवारी, नागरिक सुरक्षा कोर सचिव राजीव गुप्ता, शैलेन्द्र पाण्डेय, अखंड प्रताप सिंह, तौफीक अहमद, सुधीर चौहान, निखिल राज, राम दयाल यादव, अमित सिंह, अशोक सिद्धार्थ, संपूर्णानंद पाण्डेय,नित्यानंद सिंह, शौरभ मिश्रा, प्रतीक पाण्डेय, पुनीत चतुर्वेदी, पवन पाण्डेय, सौरभ चंद्रा, अभिषेक पोद्दार, अभिजीत यादव, विपुल सिंह दिव्यांशु द्विवेदी, संतोष चौहान सहित हज़ारों लोग उपस्थित रहे।

"उर्जांचल टाइगर" की निष्पक्ष पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिकमदद करें।


Reactions:

Post a Comment

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget