बीएचयू हिंसा- असामाजिक तत्त्वों का पूर्व नियोजित षड्यंत्र था।-कुलपति


बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में छेड़छाड़ और कैंपस में महिला सुरक्षा को लेकर पिछले दो दिनों से छात्राओं को प्रदर्शन चल रहा था,जो शनिवार रात को  हिंसक हो गया।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ के नारे के साथ देश मे राज करने वाली पार्टी के प्रधानमंत्री वाराणसी दौरे पर रहते हुए रस्मअदायगी के लिए भी आंदोलन कर रहे इन बेटियों के सुरक्षा से जुड़े सवालों को तवज्जों नहीं दिए और चुपचाप लौट के दिल्ली चले आए।

वाराणसी से अजीत नारायण सिंह।। वाराणसी के काशी हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) के सिंहद्वार पर छेड़छाड़ के खिलाफ दो दिनों से चल रहे छात्राओं के धरना-प्रदर्शन पर पहली बार बीएचयू के कुलपति प्रोफेसर गिरिश चंद्र त्रिपाठी ने घटना को दुखद बताया और कहा कि यह असामाजिक तत्वों का पूर्व नियोजित षड्यंत्र था।
कुलपति ने कहा, "हमें पता चला है कि बड़ी मात्रा में बाहर से आए लोग इस आंदोलन को हवा देने की कोशिश कर रहे थे। उन्होंने कहा कि हमें सूचना मिली है कि कुछ असामाजिक तत्व विश्वविद्यालय के माहौल को बदनाम करने का षड्यंत्र रच रहे हैं।"

यह भी पढ़ें- तो क्या वीसी के ईगो के कारण हुआ बीएचयू में बवाल 

त्रिपाठी ने मीडिया से बातचीत में कहा, "हमारे एक विद्यार्थी के साथ दुर्भाग्यपूर्ण घटना घटी, जिसके बाद हमने सुरक्षा को और सख्त बनाना तय कर लिया और इसके लिए प्रयास भी हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि कैंपस में छात्राओं की सुरक्षा के लिए जगह-जगह सीसीटीवी कैमरे लगाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि कैंपस को सुरक्षित बनाने के लिए हरसंभव प्रयास किया जा रहा है।"

यह भी पढ़ें- उत्तर प्रदेश -  बीएचयू में शांतिपूर्ण आंदोलन कर रहे  बेटियां पर बरपा कहर 

उधर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस पूरे मामले के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की बात कही है। मुख्यमंत्री के आधिकारिक ट्विटर एकाउंट पर ट्वीट किया गया कि मुख्यमंत्री ने वाराणसी के कमिश्नर से बीएचयू के पूरे घटनाक्रम की रिपोर्ट मांगी है। साथ ही पत्रकारों के साथ हुई घटना को गंभीरता से लेते हुए कमिश्नर वाराणसी से रिपोर्ट देने को कहा गया है।
Reactions:

Post a Comment

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget