यहां श्रीबाबू को श्रद्धा के दो फूल भी मयस्सर नहीं हुए

यहां श्रीबाबू को श्रद्धा के दो फूल भी मयस्सर नहीं हुए

पटना(स्टेट हेड मुकेश कुमार)।। बिहार के प्रथम मुख्यमंत्री डॉ. श्रीकृष्ण सिंह उर्फ श्री बाबू की जयंती पर शनिवार को समूचे प्रदेश में अनेक कार्यक्रम आयोजित किए गए। श्रीबाबू को याद करने के बहाने सरकार से लेकर राजनीतिक दलों तक ने इन कार्यक्रमों में हिस्सा लिया। मगर शेखपुरा जिला मुख्यालय में स्थापित उनकी मूर्ति को श्रद्धा के दो धूल तक मयस्सर नहीं हो सके। जी हां हम बता रहे हैं गिरिहींडा अस्पताल परिसर ने लगी श्रीबाबू की प्रतिमा के बारे में। गिरिहींडा अस्पताल परिसर में आज से लगभग 44 साल पहले राज्य के तत्कालीन स्वास्थ्य मंत्री लहटन चौधरी ने 6 जनवरी 1973 को श्रीबाबू की इस प्रतिमा का अनावरण किया था। तब यहां पर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र तथा श्रीकृष्ण जनाना अस्पताल एक ही परिसर में था। पहले हर साल श्रीबाबू की जयंती तथा पुण्यतिथि पर स्वास्थ्य विभाग के स्थानीय अधिकारी तथा कर्मी यहां श्रद्धा-सुमन अर्पित करते रहे हैं। मगर शनिवार को उनकी जयंती यहां कोई नहीं आया। शाम के पांच बजे हाल यह दिखा कि मूर्ति पर धूल की चादर चढ़ी दिखी। इस बाबत यहां आस-पास में रहने वाले स्वास्थ्य विभाग के सफाई कर्मियों ने बताया कि सुबह से यहां कोई अधिकारी या कर्मी श्रीबाबू की मूर्ति का सुधि लेने तक नहीं आया है। इस बाबत सिविल सर्जन से प्रतिक्रिया नहीं मिल पाई है।

Post a Comment

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget