पटना विश्वविद्यालय – संघर्ष अभी बाक़ी है.

उर्जांचल टाइगर (जो दिखेगा,वो छपेगा)


अब्दुल रशीद।। इसे नई राजनीती का चमत्कार नहीं तो और क्या कहेगें,के सौगात बटने की सुर्ख़ियां भी बटोर लिए और दिया भी कुछ नहीं। शताब्दी समारोह मना रहे पटना विश्वविद्यालय में कुछ ऐसा ही हुआ सरस्वती का आशिर्वाद प्राप्त पटना विश्वविद्यालय को केन्द्रीय विश्वविद्यालय का दर्जा देने के लिए मंच से मुख्यमंत्री द्वारा किएगए अनुरोध को दरकिनार कर लक्ष्मी के आशीर्वाद लिए प्रतिस्पर्धा के दौर में विश्वविद्यालय को खड़ा कर दिया गया। 
पटना विश्वविद्यालय के शताब्दी समारोह में सिरकत करने आए प्रधानमंत्री मोदी ने अपने भाषण में पटना विश्वविद्यालय कि तारीफ करते हुए कहा की देश का कोई राज्य ऐसा नहीं होगा जहां के टॉप पांच सिविल सर्विसेज के अधिकारी बिहार के इस विश्वविद्यालय के न हों। उन्होंने आगे कहा कि बिहार को विद्या की देवी सरस्वती का आशीर्वाद प्राप्त है। लेकिन अब (संपत्ति व समृद्धि की देवी) लक्ष्मी को खुश करने और राज्य को विकास की नई ऊंचाई तक ले जाने का वक्त आ गया है। 
सभा को संबोधित करते हुए नीतीश ने कहा कि यह बड़े सम्मान का दिन है कि पटना विश्वविद्यालय के शताब्दी समारोह में प्रधानमंत्री मौजूद हैं। उन्होंने मोदी से करबद्ध विनती की कि पटना विश्वविद्यालय को केंद्रीय विश्वविद्यालय का दर्जा दिया जाए। 
जिसका जवाब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन में यह कह कर दिया कि केंद्रीय दर्जा देने जैसे कदम तो गुजरे जमाने की चीज है, उनकी सरकार 10 निजी यूनिवर्सिटी और 10 सरकारी यूनिवर्सिटी को विश्वस्तरीय बनाने की दिशा में एक कदम बढ़ाया है। जिसके लिए 10 हजार करोड़ की राशि की व्यवस्था केंद्र सरकार करेगी। हाँ,लक्ष्मी के आशीर्वाद के लिए जो शर्तें है वो ऐसी है जिसको पूरा कर पाना दाल-भात का कौर जैसा नहीं कहा जा सकता है। 
प्रधानमंत्री के भाषण से यह बात तो सपष्ट है की केन्द्रीय विश्वविद्यालय का दर्जा पटना विश्वविद्यालय को अपनी क़ाबिलियत के दम पर ही मिलेगा जिसके लिए खुद विश्वविद्यालय परिवार को प्रयास करना होगा। रही बात लक्ष्मी के आशीर्वाद का तो उसके लिए प्रधानमंत्री द्वारा खींचे गए चुनौती की लकीर को पार करना होगा। कुल मिलाकर यह कह सकते हैं के प्यास लगी है तो खुद कुआँ खोदिए और पानी पी लीजिए।
Reactions:

Post a Comment

डिजिटल मध्य प्रदेश

डिजिटल मध्य प्रदेश

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget