विद्युत मज़दूर पंचायत संगठन के नेताओं द्वारा अधीक्षण अभियंता, नगरीय विद्युत वितरण मंडल-द्वितीय, वाराणसी के कार्यालय पर विभिन्न मांगों के समर्थन में प्रदर्शन एवं वार्ता किया गया।

विद्युत मज़दूर पंचायत संगठन के नेताओं द्वारा अधीक्षण अभियंता, नगरीय विद्युत वितरण मंडल-द्वितीय, वाराणसी के कार्यालय पर विभिन्न मांगों के समर्थन में प्रदर्शन एवं वार्ता किया गया।

वाराणसी ।। दिनाँक 13.11.2017 को वाराणसी जहाँ आदर्श चुनाव आचार संहिता लागू कर दिया गया है वहीं बिजली विभाग के विद्युत मज़दूर पंचायत संगठन के नेताओं द्वारा अधीक्षण अभियंता, नगरीय विद्युत वितरण मंडल-द्वितीय, वाराणसी के कार्यालय पर विभिन्न मांगों के समर्थन में प्रदर्शन एवं वार्ता किया गया। जिसका प्रमाण विद्युत वितरण मंडल-द्वितीय, वाराणसी कार्यालय के CC T V फुटेज से किया जा सकता हैं वहां मुख्य मांग कज्जाकपुरा खंड के अंतर्गत मैदागिन उप खण्ड पर साकेत को ठेकेदार द्वारा न रखने एवं निविदा कर्मियों के भुगतान से संबंधित था। उप खण्डाधिकारी श्री सुमन्त कुमार द्वारा प्राप्त सूचनानुसार साकेत नामक निविदा कार्मिक पूर्व में ठेकेदार का दैनिक वेतन भोगी निविदा कर्मी था।

अधीक्षण अभियंता से वार्ता कर रहे ठेकेदार के दैनिक वेतन भोगी निविदा कार्मिकों का नेतृत्व पूर्वान्चल विधुत वितरण निगम के विधुत मजदूर पंचायत संगठन के प्रदेश उपाध्यक्ष श्री आर के वाही, मण्डल मंत्री अंकुर पांडेय,TG 2 पाण्डेपुर, जियुत लाल,GMT भेलूपुर,  कार्यालय सहायक भदैनी जिला मंत्री राघवेन्द्र गोस्वामी, TG 2 भेलपुर से एवं श्री केशव प्रसाद दुबे कर रहे थे। जानकारी के अनुसार श्री आर के वाही एवं श्री केशव प्रसाद दुबे सेवानिवृत विद्युत कार्मिक हैं तथा अन्य विद्युत वितरण निगम कार्मिक कार्यरत हैं। ठेकेदार के दैनिक वेतन भोगी निविदा कार्मिकों की मांग के समर्थन में सेवारत कर्मियों का प्रदर्शन आष्चर्यजनक है एवं विभागीय नियमानुसार सेवानिवृत कार्मिक किसी संगठन का प्रतिनिधित्व नही कर सकते, पूर्व में विद्युत विभाग की तत्कालीन प्रबंध निदेशिका महोदय ने सेवानिवृत कर्मचारी नेताओं को वार्ता हेतु आमंत्रित ना करने हेतु निर्देश जारी किया था। इस तरह से विद्युत विभाग के विभिन्न कर्मचारी संगठनों का निजी कर्मचारियों के समर्थन में किये जा रहे निरंतर प्रदर्शन कहीं न कहीं राजनीति से प्रेरित प्रतीत हो रहे हैं। प्रदेश में नगर निकाय चुनाव के दृष्टिगत आदर्श चुनाव आचार संहिता लगे होने के बावजूद इस तरह का प्रदर्शन प्रशासनिक अक्षमता का परिचायक एवं असहाय होता दिख रहा है। इससे स्पष्ट है कि विद्युत विभाग कहीं न कहीं कुप्रबंधन का शिकार है।

वहीं जहाँ स्वच्छता अभियान के तहत सभी विभागों द्वारा चलाया जा रहा है वहीं विद्युत वितरण मंडल-द्वितीय, वाराणसी के कार्यालय का शौचालय आप देख सकते हैं।

टिप्पणी पोस्ट करें

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget