64 जनसभाओं के बाद भी शिवराज नहीं दिला सके जीत

भोपाल।।मध्य प्रदेश में सतना ज़िले के चित्रकूट विधानसभा उपचुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी नीलांशु चतुर्वेदी ने बीजेपी के शंकरलाल त्रिपाठी को 14133 मतों से हरा दिया है। 

इससे पहले भी चित्रकूट विधानसभा सीट कांग्रेस के ही पास थी। कांग्रेस विधायक प्रेम सिंह की मौत के बाद यहां उपचुनाव कराया गया।

चित्रकूट कांग्रेस की परांपरागत सीट है, लेकिन इसे सत्तारूढ़ दल की बड़ी हार के तौर पर देखा जा रहा है।कांग्रेस पहले राउंड में बीजेपी से पिछड़ गई थी, लेकिन बाद में वो आख़िर तक आगे रही।

इस उपचुनाव में बीजेपी ने कांग्रेस के गढ़ में शिकस्त देने के लिए एड़ी-चोटी का ज़ोर लगा दिया था। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने यहां एक रात एक आदिवासी के घर पर गुज़ारी थी।

उस रात के लिए प्रशासन ने घर पर हर तरह के इंतज़ाम किए थे और दूसरे दिन सारे सामान वापस ले लिए थे।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने क्षेत्र में तीन दिन प्रचार में दिए। उन्होंने क्षेत्र में 64 सभाएं और रोड शो किए। वहीं सरकार के 12 मंत्री और संगठन के नेताओं ने भी जीत के लिए पूरी कोशिश की।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने परिणाम के बाद ट्विटर पर कहा, "चित्रकूट उपचुनाव में जनता के निर्णय को शिरोधार्य करता हूं. जनमत ही लोकतंत्र का असली आधार है। जनता के सहयोग के लिए आभार व्यक्त करता हूं. चित्रकूट के विकास में किसी तरह की कमी नही होगी।"

उत्तर प्रदेश से लगे चित्रकूट में जीत बीजेपी के लिए झटका है. पार्टी ने उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य को भी प्रचार के लिए लाया था.

बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष नंदकुमार चौहान ने कहा, "प्रदेश में कांग्रेस की कुछ परंपरागत सीटें है, जहां से वह जीतती है और आगे भी जीतेगी। चित्रकूट के नतीजों का 2018 के चुनाव में कोई असर नही पड़ेगा।"

वही नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने पार्टी की जीत के बाद कहा कि कांग्रेस की जीत कार्यकर्ताओं की जीत है।

उन्होंने कहा, "चित्रकूट की जनता ने कांग्रेस पर जो भरोसा व्यक्त किया है उसे इस क्षेत्र का सर्वांगीण विकास करके पूरा किया जाएगा।"कांग्रेस प्रत्याशी की जीत से पार्टी में जश्न का माहौल है

Labels:
Reactions:

Post a Comment

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget