वायु प्रदूषण छोटे बच्चों के मानसिक विकास को प्रभावित कर सकता है - रिपोर्ट

वायु प्रदूषण

नई दिल्ली।। भाषा यूनिसेफ की एक रिपोर्ट में  बताया गया कि भारत सहित दक्षिण एशिया में वायु प्रदूषण से 1.2 करोड़ शिशुओं के मानसिक विकास पर असर पड़ सकता है।

रिपोर्ट ऐसे समय में आयी है जब दिल्ली और उार भारत के कई राज्य वायु प्रदूषण के गंभीर संकट से जूझा रहे हैं।

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष यूनिसेफ की भारत में संचार प्रमुख एलेक्जैंड्रा वेस्टरबीक ने कहा कि वायु प्रदूषण के संकट से लाखों भारतीयों बच्चे प्रभावित हो रहे हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक दक्षिण एशिया में वायु प्रदूषण के कारण एक साल से कम उम्र के करीब 1.22 करोड़ बच्चों का मानसिक विकास प्रभावित हो सकता है।

हवा में मौजूद खतरा

वायु प्रदूषण किस तरह छोटे बच्चों के मानसिक विकास को प्रभावित कर सकता है रिपोर्ट में कहा गया है कि प्रदूषणकारी तत्वों से दिमाग के तक क्षतिग्रस्त हो सकते हैं और संग्यानात्मक विकास कमतर हो सकता है।

इससे पता चलता है कि जन्म के 1,000 दिनों के भीतर वायु प्रदूषण, अपर्याप्त पोषण एवं उोजना और हिंसा की चपेट में आने से बच्चों के विकसित हो रहे दिमाग पर असर पड़ने के साथ उनका शुरूआती विकास प्रभावित हो सकता है।

रिपोर्ट के मुताबिक दक्षिण एशिया में बच्चों की ऐसी सबसे ज्यादा संख्या है जो प्रदूषण से सर्वाधिक प्रभावित क्षेत्रों में रहते हैं, ऐसी जगहों पर जहां वायु प्रदूषण अंतरराष्ट्रीय स्तरों से छह गुना ज्यादा है।

एलेक्जैंड्रा ने कहा कि बच्चों के साफ हवा में सांस लेने के अधिकार एवं उनके स्वास्थ्य पर वायु प्रदूषण के खतरनाक असर को लेकर जागरूकता का प्रसार करना यूनिसेफ की प्राथमिकता में शामिल है।
Reactions:

टिप्पणी पोस्ट करें

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget