पत्रकार हत्याकांड: शहाबुद्दीन को लगतार सेल में रखने के खिलाफ अर्जी दाखिल


पत्रकार राजदेव हत्याकांड में आरोपित पूर्व सांसद शहाबुद्दीन की ओर से उन्हें तिहाड़ जेल के सेल में लगातार रखने का विरोध किया गया है। चेक काटने के आदेश देने की प्रार्थना की गई है।...
मुजफ्फरपुर(बिहार)।।पत्रकार राजदेव रंजन हत्याकांड में आरोपित पूर्व सांसद शहाबुद्दीन की ओर से मंगलवार को जिला जज के कोर्ट में दो अर्जी दाखिल की गई। एक में उन्हें तिहाड़ जेल के सेल में लगातार रखने का विरोध किया गया है तो दूसरी में उन्हें आधार कार्ड बनाने व चेक काटने के आदेश देने की प्रार्थना की गई है।
मंगलवार को इस मामले में आरोप तय करने को लेकर सुनवाई हुई। जिला जज एचएन तिवारी के अवकाश में रहने के कारण प्रभारी जिला जज सह एडीजे-प्रथम जनार्दन त्रिपाठी के कोर्ट में सभी आरोपितों की पेशी हुई। तिहाड़ जेल में बंद पूर्व सांसद व सिवान जेल से अजहरुद्दीन बेग उर्फ लड्डन मियां की वीडियो कांफ्रेसिंग से पेशी हुई। पूर्व सांसद की अर्जी की सुनवाई अगली तारीख 30 जनवरी को होगी।

सीबीआइ की ओर से नहीं आया जवाब

मामले के एक आरोपित अजहरूद्दीन बेग उर्फ लड्डन मियां की ओर से पिछली तारीख को उसके विरुद्ध लगाए गए आरोपों को खारिज करने की अर्जी दाखिल की गई थी। इस अर्जी पर सीबीआइ को जवाब दाखिल करना है, जो दाखिल नहीं किया गया। वहीं एक अन्य आरोपित सोनू कुमार गुप्ता की ओर से भी आरोपों को खारिज करने के लिए अर्जी दाखिल की गई थी।
इसका सीबीआइ की ओर से जवाब दाखिल किया जा चुका है। जवाब में कहा गया कि सोनू के घर से बरामद पिस्तौल से ही पत्रकार राजदेव रंजन की हत्या की गई थी। इसकी पुष्टि एफएसएल जांच से हो चुकी है। हालांकि, इस पर कोर्ट में अभी सुनवाई होनी है। 

आरोप तय करने को लेकर चल रही सुनवाई

पत्रकार हत्याकांड में आरोपित पूर्व सांसद शहाबुद्दीन व अन्य छह आरोपितों के खिलाफ आरोप तय करने को लेकर जिला जज के कोर्ट में सुनवाई चल रही है। सीबीआइ ने 22 अगस्त को विशेष सीबीआइ कोर्ट में पूर्व सांसद शहाबुद्दीन, अजहरुद्दीन बेग उर्फ लड्डन मियां, विजय कुमार गुप्ता, रोहित कुमार सोनी, राजेश कुमार, रिशु कुमार जायसवाल व सोनू कुमार गुप्ता के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किया था। आरोप पत्र को संज्ञान में लेने के बाद विशेष सीबीआइ कोर्ट ने मामले को सत्र विचारण के लिए जिला जज के कोर्ट में भेजा था। यहां सत्र- विचारण से पहले आरोप तय करने की सुनवाई चल रही है।

यह है मामला

पिछले साल 13 मई को सिवान में पत्रकार राजदेव रंजन की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। इस मामले में उनकी पत्नी आशा यादव उर्फ आशा रंजन ने सिवान थाने में अज्ञात के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज कराई थी। बाद में इस मामले की जांच सीबीआइ को सौंपी गई। 15 सितंबर 2016 को सीबीआइ ने मामला दर्ज कर जांच शुरू की। सीबीआइ ने दूसरे पूरक चार्जशीट में पूर्व सांसद सहित अन्य छह के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किया था।
Reactions:

Post a Comment

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget