जनपद हुआ तिरंगामय, लोगो ने मनाया 69 वॉ जश्नें आजादी का गणतंत्र दिवस

  • देश की आन बान शान का प्रतीक राष्ट्रीय ध्वज मय हुआ जिला
  • ये देश है वीर जवानो का अलबेलों का मस्तानो का इस देश का यारो क्या कहना.


वाराणसी।। 69 वां गणतंत्र दिवस शुक्रवार को जनपद में पूरे सादगी एवं हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। जगह-जगह, चौराहा-तिराहा सहित सरकारी/अर्द्वसरकारी कार्यालय भवन व स्कूल/कालेज भवनों पर अलसुबह से ही बज रहे वीर रस से भरे राष्ट्रगान ने लोगो के रोगटें खड़े करते हुए आजादी की पहली सुबह की याद बरबस ही लोगो को करा रही थी। पुलिस लाइन में उत्तर प्रदेश के विधि, न्याय, सूचना, खेल एवं युवा कल्याण राज्य मंत्री डा0 नीलकंठ तिवारी, मण्डलीय कार्यालय में कमिश्नर नितिन रमेश गोकर्ण के अलावा कलेक्ट्रेट में जिलाधिकारी योगेश्वर राम मिश्र, विकास भवन में मुख्य विकास अधिकारी सुनील कुमार वर्मा सहित सभी सरकारी/अर्द्व सरकारी कार्यालय भवनो पर कार्यालयाध्यक्षों ने राष्ट्रीय ध्वज फहराया।

पुलिस लाइन में उत्तर प्रदेश के विधि, न्याय, सूचना, खेल एवं युवा कल्याण राज्य मंत्री डा0 नीलकंठ तिवारी ने देश की आन-बान-शान का प्रतीक राष्ट्रीय ध्वज को फहराने के बाद परेड की सलामी ली। इस अवसर पर लोगो को सम्बोधित करते हुए उन्होने देश को स्वावलंबी व विकसीत राष्ट्र बनाने के साथ ही विश्वगुरू एवं सोने की चिड़िया बनाये जाने की दिशा में अपने-अपने कर्तव्यों का योगदान किये जाने की अपील की। उन्होने कहॉ कि 26 जनवरी, 1950 के ही पावन दिवस को देश की व्यवस्था संचालन के लिये संविधान का निर्माण किया गया। स्वयं ही स्वीकृत किया और स्वयं ही अंगीकृत किया। संविधान के आत्मार्पित होने के बाद पूरे विश्व में भारत के संविधान का सराहा गया। उत्कंट भाव से इसकी प्रशंसा की गयी। संविधान सभा के सदस्य एवं भारत के प्रथम राष्ट्रपति डा0राजेन्द्र प्रसाद के विचार का उल्लेख करते हुए उन्होने बताया कि उनका कथन था कि देश का यह संविधान विश्वमान रूप से एक पुस्तक है, लेकिन इसको जीवन्तता हमारी सरकारे व सरकारो में बैठक लोगो द्वारा प्रदान की जायेगी और जीवन्तता का जो मार्ग होगा, उस मार्ग के अनुसरण हेतु यह संविधान अपना कार्य एवं जनता के हित के लिये साधन का मार्ग बनेगा। मंत्री ने कहॉ कि सरकारंे बनी और सरकार में बैठे लोग संविधान को अपने हित के साधन में उपयोग करना शुरू कर दिया। जिसका परिणाम हुआ कि देश लगातार विभिन्न प्रकार की समस्याओं से ग्रसित होता गया। लेकिन हमारा आन्तरिक लोकतंत्र लगातार मजबुत बनता गया। विभिन्न समस्यायें आयी, विकास का डगर भटक गया और जनहित के हितकारी कार्यो का भाव बदल गया। लेकिन हमारी लोकतान्त्रिक प्रणाली व संविधान की आत्मा हमारे अन्दर जीवित है। हर वर्ग, हर तबके के सुख व कल्याण की परिकल्पना के साथ संविधान निर्माताओं ने संविधान नियमावली हमे दिया था।

उन्होने कहॉ कि पिछली सरकारे विकास कार्यक्रमों को जाति व धर्म के आधार पर बनाती रही। जिसका परिणाम होता रहा कि वास्तविक रूप से सरकारी योजनाओं का लाभ वास्तविक लोगो को नही मिल पाता रहा। मंत्री डा0 नीलकंठ तिवारी ने केन्द्र एवं राज्य सरकार के जनकल्याणकारी विकास योजनाओं पर प्रकाश डालते हुए कहॉ कि सन् 2014 में केन्द्र की वर्तमान सरकार बनने के बाद पाया गया कि 125 करोड़ जनसंख्या वाले इस देया में 68 करोड़ लोगो के पास बैक खाता ही नही रहा। प्रधानमंत्री ने जन-धन योजना के माध्यम से लगभग 40 करोड़ गरीब लोगो का बैको में शून्य बैलेस के आधार पर खाता खोला गया। प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के माध्यम से 10 करोड़ लोगो को ऋण प्रदान कर उन्हे आत्मनिर्भर बनाया गया। बेरोजगारो को रोजगार प्रदान कर उन्हे आत्मनिर्भर बनाये जाने हेतु केन्द्र सरकार द्वारा बड़े पैमाने पर कौशल विकास कार्यक्रम शुरू किया गया। जिसके माध्यम से करोड़ो बेरोजगार नवयुवक आत्मनिर्भर बन चुके है। उन्होने कहॉ कि केन्द्र की नरेन्द्र मोदी एवं राज्य की योगी आदित्यनाथ की सरकार ने सबका साथ-सबका विकास के रूप में विकास की नई परिभाषा गढ़ी है। उन्होने देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एवं उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के संकल्प को आत्मसात करके देश को स्वावलंबी व विकसीत राष्ट्र बनाने के साथ ही विश्वगुरू एवं सोने की चिड़िया बनाये जाने की दिशा में अपने-अपने कर्तव्यों का योगदान किये जाने की लोगो से अपील की। इस अवसर पर मंत्री डा0 नीलकंठ तिवारी ने जहॉ स्वतन्त्रता संग्राम सेनानियो को माल्यापर्ण कर सम्मानित किया, वही उत्कृष्ठ कार्य करने वाले पुलिस निरीक्षक, उप निरीक्षक सहित पुलिस के जवानों को मेंडल एवं प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया। पुलिस लाइन में आकर्षक पुलिस परेड के साथ ही स्वच्छता, पशुपालन, उद्यान, आंगनवाड़ी सहित दर्जनो विभाग द्वारा आकर्षक विभागीय झांकी भी निकाला गया।

मण्डलीय कार्यालय पर राष्ट्रीय ध्वज फहराने के पश्चात् गणतन्त्र दिवस की बधाई देते हुए कमिश्नर नितिन रमेश गोकर्ण ने उपस्थित लोगो को सम्बोधित किया। उन्होने कहॉ कि देश की आजादी लाखो-करोड़ो देशभक्तों के बलिदान के बाद हमे मिला है। इसे अछूण्ण बनाये रखने की जिम्मेदारी देश के हम सभी नागरिको की है। उन्होने जोर देते हुए कहॉ कि राष्ट्रीय पर्वो को रस्म अदायगी स्वरूप नही, ब्लकि पूरे उत्साह, उल्लास एवं उमंग के साथ मनाया जाना चाहियें। उन्होने कहॉ कि आजादी के रूप में हमें आर्थिक एवं सामाजिक दोनो ही आजादी प्राप्त हुआ। आजादी के बाद देश ने हरेंक क्षेत्र में बेमिसाल तरक्की किया है। आज भारत की पहचान् दूनिया के चंद विकसीत एवं शक्तिशाली देशो में होता है। भारत आज दूनिया का छंठा सुपरसोनिक देश है। किन्तु विश्व चर्चा के अनुसार आगामी 20 वर्षो में चीन दूनिया का पहला व भारत दूसरा शक्तिशाली देश हो जायेगा तथा इतना ही नही आगामी 40 वर्षो में भारत दुनिया का पहला शक्तिशाली राष्ट्र हो जायेगा। इस प्रकार देश नें सामरिक, विज्ञान, खाद्यान्न आदि क्षेंत्रों में आत्मनिर्भर ही नही हुआ, बल्कि कई देश आज भारत पर निर्भर है। कमिश्नर ने भारतीय संविधान को राष्ट्र का पवित्र ग्रंथ बताते हुए कहॉ कि विविधता को एकता में समेटे विश्व बन्धुत्व का संदेश देने वाले हमारा संविधान बेमिसाल है। उन्होने जोर देते हुए कहॉ कि कहॉ कि सभी को अपने-अपने दायित्व के निर्वहन की प्रतिज्ञा भी आज के दिन लेना चाहिये। हमें जो जिम्मेदारी जनसेवा के लिए मिली है, उसे बेहत्तर बना कर अपने काम-काज में लोगो को भरोसा अर्जित करे। यही गणतन्त्र दिवस पर सच्चा संकल्प होगा। उन्होने विशेष रूप से जोर देते हुए कहॉ कि जब तक सभ्यता रहेगी, तब तक समस्यायें भी रहेगी। किन्तु छोटे-मोटे एवं व्यक्तिगत समस्याओं से ऊपर उठकर हमें दूसरी के समस्याओं के दिक्कतों एवं परेशानियों के निराकरण हेतु तत्पर रहना चाहिये। उन्होने गणतन्त्र का मायनें समझाते हुए कहॉ कि गण का तंत्र अर्थात् सरकारी संसाधनों से प्रत्येक नागरिकों को जोड़ा जाना। उन्होने मंडल के सभी लोगो को गणतन्त्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं दी तथा राष्ट्र विकास में निष्ठावान् होकर सहयोग करने की अपील की। 


कलेक्ट्रेट में राष्ट्रीय ध्वज फहराने के बाद मौके पर उपस्थित अधिकारी/कर्मचारियों को सम्बोधित करते हुए जिलाधिकारी योगेश्वर राम मिश्र ने राष्ट्रीय एकता, अखण्डता, धर्म-निरपेक्षता और साम्प्रदायिक सद्भाव की भावना को बलवती बनाने पर बल देते हुए कहॉ कि हम सभी को भारतीय होने में गर्व है। उन्होने कहॉ कि असंख्य देशभक्तो ने विदेशी ताकत से काफी जद्दोजहद करके देश को आजादी दिलायी है तथा अपने सत्ता की अनुभूति को प्राप्त किया व स्वयं के तन्त्र को स्थापित किया। उन्होने बताया कि लोकतन्त्र का वरण इसलिये किया गया कि आम आदमी को भी देश के सर्वोच्च पद के व्यक्ति के समान अधिकार प्राप्त हो। उन्होने जोर देते हुए कहॉ कि निश्चित रूप से आजादी के इन 69 वर्षो में देश ने प्रत्येक क्षेत्र में तरक्की की है और आज पूरा विश्व भारत की ओर आशा भरी निगाहों से देख रहा है। आज के परिवेंश में उन्होने प्रत्येक व्यक्ति को नैतिक मूल्यों एवं सद्गुणों को विकसीत करने की जरूरत बतायी। इस अवसर पर उन्होने स्वतन्त्रता संग्राम सेनानियों का माल्यापर्ण एवं नारियल व शाल भेंट कर स्वागत किया। 

गणतंत्र दिवस के अवसर पर आहूॅत संविधान सभा में कमिश्नर नितिन रमेश गोकर्ण, आईजी दीपक रतन, जिलाधिकारी योगेश्वर राम मिश्र, एसएसपी आर0के0भारद्वाज एवं मुख्य विकास अधिकारी सुनील कुमार वर्मा सहित सभी अधिकारियों/कर्मचारियों ने ‘‘भारत को एक सम्पूर्ण प्रभुत्व सम्पन्न, समाजवादी, धर्म निरपेंक्ष, लोकतंत्रात्मक गणराज्य बनाने के लिये तथा उसके समस्त नागरिको को सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक न्याय, विचार, अभिव्यक्ति विश्वास, धर्म और उपासना की स्वतंत्रता, प्रतिष्ठा और अवसर की समता प्राप्त करने के लिये तथा उन सब में व्यक्ति की गरिमा और राष्ट्र की एकता तथा अखण्डता सुनिश्चित कराने वाली बन्धुता बढ़ाने के लिये, दृढ संकल्प होकर अपनी इस संविधान सभा में एतद्द्वारा इस संविधान को अंगीकृत अधिनियमित और आत्मार्पित करते है’’ का संकल्प लिया।
Reactions:

Post a Comment

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget