निर्माण परियोजनाओं को युद्वस्तर पर अभियान चलाकर निर्धारित अवधि में गुणवत्ता के साथ पूरा कराये-मुख्य सचिव

निर्माण परियोजनाओं को युद्वस्तर पर अभियान चलाकर निर्धारित अवधि में गुणवत्ता के साथ पूरा कराये-मुख्य सचिव


वरूणा कॉरिडोर 31 मार्च तक पूरा न होने पर सिचाई एवं यूपीपीसीएल के अभियंताओं पर लटकी तलवार
वाराणसी।। उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव राजीव कुमार ने वरूणा कॉरिडोर निर्माण कार्य की धीमी प्रगति एवं सिचाई विभाग द्वारा 31 मार्च तक निर्धारित अवधि में कार्य पूरा कराये जाने के बाबत भ्रामक रिर्पोटिग किये जाने पर मुख्य अभियंता सिचाई विभाग की जमकर क्लास लगायी। उन्होने 31 मार्च तक निर्धारित अवधि में कॉरिडोर का निर्माण कार्य पूरा न कराये जाने पर मुख्य अभियंता को निलम्बित किये जाने की हिदायत दी। मुख्य अभियंता सिचाई द्वारा निर्धारित अवधि में कॉरिडोर का निर्माण कार्य पूरा करा लिये जाने के दावें के बीच मुख्य सचिव ने इस बाबत मुख्य अभियंता से कहॉ कि वे इस्तीफा दे, कि यदि तय समय सीमा में कार्य पूरा नही कराया जाता, तो स्वीकार कर लिया जाय। मुख्य अभियंता बगली झाकने लगे। वरूणा कॉरिडोर का कार्य करा रहे यूपीपीसीएल के प्रोजेक्ट मैनेजर को भी जमकर फटकार लगाते हुए युद्वस्तर पर अभियान चलाकर निर्धारित अवधि में कार्य को गुणवत्ता के साथ पूरा कराये जाने की हिदायत दी तथा कहॉ कि समयावधि में कार्य पूरा न होने पर उन्हे भी निलम्बित किया जायेगा। उन्होने सभी कार्यदायी संस्थाओं के अभियंताओं को कार्य संस्कृति बदलने की नसीहत देते हुए कहॉ कि परियोजनाओं को हर हालत में तय समयसीमा में ही पूरा कराया जाय। इसके लिये कोई बहानेबाजी अब नही चलेगा और लापरवाह अधिकारी बख्से नही जायेगें।

मुख्य सचिव राजीव कुमार शुक्रवार को कमिश्नरी सभाकक्ष में विकास एवं निर्माण कार्यो के प्रगति की समीक्षा कर रहे थे। उन्होने राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के अभियंता को रिंग रोड सहित अन्य सड़को के 4 लेन चौड़ीकरण के बाबत अधिग्रहण किये जाने वाले कतिपय चिन्हिंत भूमि का मुवायजा राशि जमा न किये जाने के बावजूद उन पर कब्जा प्राप्त न होने की जानकारी पर नाराजगी व्यक्त करते हुए गलत रिर्पोटिग के लिये फटकार लगायी। उन्होने अपेंक्षित धनराशि शीघ्र जमा किये जाने का निर्देश दिया। ताकि मुवायजा राशि का वितरण शीघ्र पूरा कराया जा सके। उन्होने रिंग रोड फेज-1 तथा अन्य मार्गो के चौड़ीकरण कार्य में तेजी लाने के साथ ही समयसीमा में कार्य को पूरा कराये जाने का निर्देश दिया। शहर में बिछायी जा रही गैस पाइप लाइन के कार्य को फरवरी महिने में ही पूरा कराये जाने हेतु गेल के अधिकारी को निर्देशित करते हुए कहॉ कि यदि कार्य में कोई समस्या आवें, तो जिलाधिकारी के माध्यम से उस समस्या का तुरन्त समाधान कराये। कर्मचारी राज्य बीमा निगम के निर्माणाधीन अस्पताल भवन को दिसम्बर, 2018 तक हर हालत में पूरा कराये जाने का निर्देश दिया। उन्होने आईपीडीएस के अधिकारी द्वारा बताये जाने पर कि भूमिगत वायरिंग कार्य पूरा हो चुका है। मुख्य सचिव ने 15 मार्च तक शत-प्रतिशत भूमिगत वायरिंग कार्य पूरा करा लिये जाने का निर्देश दिया। ग्रामीण विद्युतीकरण कार्य की समीक्षा के दौरान जर्जर विद्युत पोल, अनियमित विद्युत बिल व विद्युत कनेक्शन में आ रही बाधाओं को शीघ्र दूर कर कार्य को पूरा कराये जाने हेतु निर्देशित किया। सारनाथ में लाइट एण्ड साउण्ड परियोजना को चालू माह में पूरा कराये जाने हेतु राजकीय निर्माण निगम के परियोजना प्रबन्धक को निर्देशित किया। प्रधानमंत्री ग्रामीण एवं शहरी आवास योजना का निर्माण कार्य मार्च, 2018 तक पूरा कराये जाने के साथ ही जिले को निर्धारित समय से खूले में शौचमुक्त कराये जाने पर जोर दिया। चौकाघाट-लहरतारा फ्लाईओवर के निर्माण कार्य में तेजी लाते हुए प्रत्येक दशा में 30 जून तक पूरा कराये जाने हेतु सेतु निगम के अभियंता को सख्त हिदायत दी। लहरतारा-फलवरियां 4 लेन मार्ग के निर्माण की सभी प्रारम्भिक तैयारियॉ पूर्ण करके निर्माण कार्य शीघ्र शुरू कराये जाने का निर्देश दिया। उन्होने भोजूबीर-सिन्धोरा मार्ग के निर्माण कार्य को जुलाई, 2018 तक पूरा कराये जाने हेतु लोक निर्माण विभाग के अभियंता को निर्देशित किया। इसके अलावा मुख्य सचिव ने सर्किट हाउस में नगरीय विकास कार्यो की समीक्षा के दौरान सभी परियोजनाओं को निर्धारित अवधि में गुणवता के साथ पूरा कराये जाने पर जोर दिया। उन्होने जलनिगम के पेयजल परियोजनाओं की गुणवत्ता खराब होने तथा शहर के कई जगहो पर जनोपयोगी न हो पाने पर नाराजगी जताते हुए विभागीय अभियंता को व्यक्तिगत रूचि लेते हुए अधूरे कार्यो को पूरा कराकर परियोजनाओं कों शीघ्र जनोपयोगी किये जाने का निर्देश दिया। उन्होने हदय योजना, आईपीडीएस, स्वच्छ भारत मिशन एवं स्मार्ट सिटी परियोजनाओं की भी समीक्षा कर युद्वस्तर पर अभियान चलाकर कार्यो को गुणवत्ता के साथ पूरा कराये जाने का निर्देश दिया। उन्होने विभागीय अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहॉ कि वे अर्न्तविभागीय समन्वय बनाकर कार्यो को शीघ्र पूरा कराये। उन्होने अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहॉ कि यदि किसी परियोजना को पूरा कराये जाने में कोई तकनिकी अथवा अन्य परेशानी हो, तो उसे उच्चाधिकारियों के संज्ञान में तुरन्त लावे। ताकि उसका समाधान हो सके और परियोजनायें पूर्ण हो। यदि किसी परियोजना को पूर्ण कराये जाने में आर्थिक परेशानी आ रही है अथवा संशोधित इस्टीमेंट की जरूरत हो, तो उसे भी पूरी पारदर्शिता के साथ उपलब्ध कराया जाय। उन्होने निर्माण परियोजनाओं को पूरी पारदर्शिता एवं गुणवत्ता के साथ युद्वस्तर पर अभियान चलाकर दो-तीन शिफ्टो में कार्य कराते हुए पूरा कराये जाने पर विशेष जोर दिया।

बैठक में कमिश्नर नितिन रमेश गोकर्ण, जिलाधिकारी योगेश्वर राम मिश्र, नगर आयुक्त डा0नितिन बंसल, मुख्य अभियंता सिचाई, लोक निर्माण विभाग सहित अन्य विभागीय एवं कार्यदायी संस्था के अधिकारी प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।
Reactions:

Post a Comment

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget