राजब्बर के सहारे 2019 कैसे फतेह करेगी कांग्रेस


प्रदेश कांग्रेस पार्टी में सामाजिक भाईचारे को साथ लेकर चलने वाले नेताओं मे बनारस से राजेश मिश्र, सीतापुर, अम्मार रिजवी, पीएल पुनियाँ, शाहजहांपुर जतिन प्रसाद, लोक पति त्रिपाठी के पौत्र राजेश पति त्रिपाठी, व लखीमपुर से जफर अली नकीवी जैसे और भी नेता प्रदेश अध्यक्ष की दौड़ में फिट बैठते है

दीप शंकर मिश्र"दीप"विशेष संवाददाता
लखनऊ।। पार्टी कार्यालय की मीटिंगों में भले ही प्रदेश कांग्रेस पार्टी के मुखिया राजब्बर द्वारा लोक सभा चुनाव में जुटने का निर्देश दिया जाते रहे हों परन्तु अभी तक प्रदेश में कांग्रेस पार्टी को मजबूती प्रदान करने के लिये पार्टी हित में राजब्बर जी द्वारा कोई ठोस कदम नही उठाया गया होगा । हाँ प्रदेश अध्यक्ष बनने के बाद पार्टी कार्यकर्ताओं को ही नही ग्राम स्तर तक यह हवा जरूर पहुँची थी की अब पार्टी में कुछ सांगठनिक कार्य होंगे , परन्तु अभी तक प्रदेश अध्यक्ष बनने के बाद राजब्बर की तरफ से कोई पार्टी को मजबूती प्रदान करने वाला कोई सफल प्रयास नही किया गया और न ही अभी तक पार्टी के फायदे के लिये किसी बाहर के अच्छे नेता या सामाजिक ब्यक्ति को ही पार्टी से जोड़ने का ही कार्य नही किया गया होगा । दिल्ली से लखनऊ के पार्टी कार्यालय तक के हवाई सफर सय पार्टी को कोई मजबूती नही मिलने वाली इसके लिये प्रदेश के मुखिया को गाँव शहर जाकर पसीना बहाना पड़ता है। जिसे पार्टी हित में राहुल गांधी गाँव की गलियों में पसीना पोंछते देखे गये है । परन्तु क्या प्रदेश अध्यक्ष बनने के बाद राजब्बर जी द्वारा किसी शहर के गांव गलियों को देखा है लखीमपुर के एक वरिष्ठ कांग्रेस के नेता ने बताया की प्रदेश अध्यक्ष के नाते उन्हें जो करना चाहिये उससे वह अभी बहुत दूर है । फिल्मी दुनियां के सफल नायक राजब्बर प्रदेश अध्यक्ष होने के बाद आज तक पार्टी के आम कार्यकर्ता को यदि छोड़ दिया जाय तो भी मेंन और पार्टी के जुझारू कार्यकर्ता से भी दूर है ।

एक राजनीतिज्ञ ने बताया कि कार्यकर्ता तो पार्टी की मजबूत जड़ है। जिस प्रकार पेंड़ की जड़ को मजबूत करने के लिये खाद और पानी की जरूरत होती है ठीक उसी प्रकार किसी पार्टी के कार्य करता को मजबूत करने के लिये प्यार स्नेह कार्यकर्ता के सुख दुख में खड़े रहने की जरूरत होती है । औऱ सर्ब प्रथम यह सब कार्य पार्टी के मुखिया को करना होता है । जैसे भारत देश की आन बान शान रही स्व प्रधान मंत्री इंदिरा गांधी के पौत्र औऱ कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी जो कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ता ही नही एक आम आम आदमी के दुख में सरीख होते देखे गये है । उदाहरन स्वरूप जनपद लखीमपुर के निघासन थाने मे हुए सोनम हत्याकांड में निघासन एक गरीब के घर जाकर ढांढस बंधाया था । राहुल गांधी की यह एक विशेषता रही है की वह पार्टी हित के लिये अपने नींद भूंख प्यास सब त्याग कर पार्टी की प्रगति के लिये समर्पित होते रहे है ओर आज भी है । परन्तु विड़म्बना यह है कि- राजब्बर जी ने टी अभी तक 

पार्टी कार्यकर्ता से दूरी बनाये रखने के अतिरिक्त कोई सामाजिक समरसता का कार्य जैसे कार्यकर्ता के नजदीक जाने उनके सुख दुख मे सरीख होने इत्यादि महत्व कार्य करते कभी किसी कैमरे ने नही देखा होगा । कांग्रेस पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष बनने व सामाजिकता भाईचारे को साथ लेकर चलने वाले नेताओ में बनारस के पूर्व सांसद राजेश मिश्र, सीतापुर के अम्मार रिजवी , पी एल पुनियाँ, राजेश पति त्रिपाठी, जितिन प्रसाद, लखीमपुर के जफर अली नकवी जैसे नेता जो प्रदेश अध्यक्ष की दौड़ में फिट बैठते है । प्रदेश अध्यक्ष होने के नाते राजब्बर जी ने अभी तक संगठन को मजबूती देने के लिये उक्त महत्च पूर्ण नेताओं से भी कोई बिचार विमर्श नही किया होगा । औऱ न ही कार्यकर्ताओं के मजबूत गठन की ओर कोई महतत्व पूर्ण रूप रेखा तैयार कीै होगी यह राजनीतिज्ञयों का मानना है । राजब्बर जी की बाम्बे , दिल्ली लखनऊ की हवाई यात्रा ही प्रदेश कांग्रेस की मजबूती नही वरदान करने वाली है । बाकी बहुत कुछ समय के गर्भ में है ।
Reactions:

Post a Comment

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget