विकास कार्यो के क्रियान्वयन में लापरवाही बर्दास्त नही किया जायेगा-सुरेश खन्ना



  • विकास कार्यो के क्रियान्वयन में लापरवाही बर्दास्त नही किया जायेगा-सुरेश खन्ना
  • जलनिगम के तीन अभियंताओ पर गिरी गाज किये गये निलम्बित
  • पेयजल पाइप लाइन बिछाये जाने में लापरवाही पर जलनिगम के तत्कालीन मुख्य अभियंता पर होगा एफआईआर 
वाराणसी।। उत्तर प्रदेश के संसदीय कार्य, नगर विकास, शहरी समग्र विकास तथा नगरीय रोजगार एवं गरीबी उन्मूलन विभाग एवं जनपद के प्रभारी मंत्री सुरेश खन्ना विकास योजनाओं का क्रियान्वयन युद्वस्तर पर अभियान चलाकर गुणवत्ता के साथ पूरा कराये जाने हेतु विभागीय अधिकारियों को निर्देशित किया है। ताकि योजनाओं का लाभ जनसामान्य को समय से मिलने लगे। उन्होने पेयजल योजनाओं के क्रियान्वयन में बार-बार दिये गये निर्देश के बावजूद कार्यप्रणाली में सुधार न लाने तथा योजनाओं के प्रगति में सुधार न होने पर जलनिगम के अधीशासी अभियंता ए0के0सिंह के अलावा जलनिगम के अवर एवं सहायक अभियंता सहित तीन अभियंताओं को निलम्बित कर दिया। इसके साथ ही सीस वरूणा क्षेत्र में बिछाये गये पेयजल पाइप लाइन की गुणवत्ता खराब होने तथा इस कार्य को कई ठीकेदारो के माध्यम से कराये जाने के कारण जगह-जगह गैप होने तथा गैप की जानकारी जलनिगम को न होने के कारण बिछाये गये पाइप लाइन से अब तक पेयजलापूर्ति सुनिश्चित न हो पाने को गम्भीरता से लेते हुए जिम्मेदार जलनिगम के तत्कालीन एवं सेवानिवृत्त हो चुके मुख्य अभियंता आर0के0द्धिवेदी के विरूद्व एफआईआर दर्ज कराये जाने का निर्देश दिया।

उत्तर प्रदेश के संसदीय कार्य, नगर विकास, शहरी समग्र विकास तथा नगरीय रोजगार एवं गरीबी उन्मूलन विभाग एवं जनपद के प्रभारी मंत्री सुरेश खन्ना शनिवार को कमिश्नरी सभागार में अधिकारियों के साथ बैठक कर रहे थे। उन्होने वाराणसी में नगरीय क्षेत्र के सीवरेंज सफाई का कार्य ठेकेदारी प्रथा से कराये जाने के कारण ठेकेदारो के मनमानी के कारण सीवरेंज की समस्या ज्यों का त्यों बने होने तथा जनप्रतिनिधियो सहित अधिकारियों के प्रयास के बावजूद सुधार न हो पाने की जानकारी को गम्भीरता से लेते हुए विधायक सौरभ श्रीवास्तव की पहल पर ठेकेदारी प्रथा को समाप्त कर 28 फरवरी से आउटसोर्सिग के आधार पर कर्मियो की तैनाती कर सीवरेंज सफाई कार्य नगर निगम के माध्यम से कराये जाने हेतु नगर आयुक्त को निर्देशित किया। प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) के 2300 उन लाभार्थियों जिनकी समस्त औपचारिता पूर्ण करा लिया है के बैक खातों में 50 हजार की पहली किस्त की धनराशि अब तक न भेजे जाने पर खासी नाराजगी व्यक्त करते हुए उन्होने 15 फरवरी तक हर हालत में लाभार्थियो के बैक खाते में धनराशि मुहैया कराये जाने हेतु परियोजना अधिकारी डूडा को निर्देश दिया। उन्होने विशेष रूप से हिदायत देते हुए कहॉ कि 15 फरवरी तक लाभार्थियों के बैक खाते में धनराशि भेजे जाने की जानकारी उसी दिन उन्हे ईमेंल से उपलब्ध कराया जाय। अन्यथा 16 फरवरी को कार्यवाही अवश्य किया जायेगा। इसके साथ ही शेष लाभार्थियों के भी औपचारिकता पूर्ण कराकर उनके बैक खातों में भी 50 हजार की धनराशि शीघ्र भेजे जाने का निर्देश दिया। नगर निगम द्वारा गृहकर के रूप में इस वर्ष अब तक 23 करोड़ 16 लाख की वसूली को नाकाफी बताते हुए उन्होने शत-प्रतिशत भवनों से गृहकर वसूली सुनिश्चित किये जाने पर जोर दिया। नगर आयुक्त द्वारा बताये जाने पर कि 1 लाख 82 हजार चिन्हिंत भवनो में से 1 लाख 10 हजार से ही गृहकर की वसूली हो पाती है। मंत्री सुरेश खन्ना ने नगर आयुक्त को निर्देशित किया कि चिन्हिंत भवनों से गृहकर वसूली सुनिश्चित कराये जाने हेतु मार्च के दूसरे सप्ताह में विशेष अभियान चलाया जाय। साथ ही नये भवनो के एसेसमेंट हेतु 6 अप्रैल से 15 दिनों का विशेष अभियान भी चलाया जाय। इस अभियान की रिर्पोट उन्होने 20 अप्रैल को उपलब्ध कराये जाने का निर्देश दिया। उन्होने नगर निगम में दाखिल खारिज प्रकरण लम्बित होने की जानकारी पर नाराजगी व्यक्त करते हुए 31 दिसम्बर तक के सभी लम्बित प्रकरण को निस्तारण प्रत्येक दशा में 28 फरवरी तक किये जाने का निर्देश नगर आयुक्त को दिया। उन्होने दाखिल खारिज के प्रकरणों को निर्धारित 35 दिनों के अन्दर प्रत्येक दशा में निस्तारित किये जाने का भी निर्देश दिया। नगरीय क्षेत्र के 227 पार्को को सुन्दरीकरण एवं विकसीत कराये जाने के कार्य को फरवरी तक पूरा कराये जाने का निर्देश देते हुए इसके देखरेख हेतु सभी पार्को को विधायको, जनप्रतिनिधियो एवं क्षेत्रीय संभ्रान्त लोगो को गोद दिये जाने पर विशेष जोर दिया। उन्होने विधायको से अपील किया कि वे 5-5 संभ्रान्त लोगो से वार्ता कर पार्को को गोद लिये जाने हेतु प्रेरित करे। शहरी पथ विक्रेताओं के लिये चिन्हिंत वेडिग जोन को शीघ्र बनाये जाने का निर्देश दिया। स्मार्ट सिटी योजना की समीक्षा के दौरान धीमी प्रगति पर नाराजगी जताते हुए उन्होने जिलाधिकारी को प्रत्येक तीन दिन पर इसके प्रगति की समीक्षा किये जाने का निर्देश दिया। मंत्री ने बताया कि शहर के दो-तीन स्थानों पर ऐसा मशीन लगाया जायेगा। जिसमें प्लास्टिक का खराब बोतल डालने पर संबंधित व्यक्ति को ईपेमेन्ट के माध्यम से उसके बैक खाते में प्रति बोतल एक रूपया मिलेगा। उन्होने कहॉ कि निश्चित रूप से सड़को पर सफाई में मदद मिलेगा। अमृत योजना की समीक्षा के दौरान सीस वरूणा क्षेत्र में 50628 पेयजल हेतु दिये जाने वाले घरेलू कनेक्शन के सापेंक्ष अब तक मात्र 5 हजार ही कनेक्शन किये जाने पर बिफरते हुए उन्होने मई तक शत-प्रतिशत कनेक्शन किये जाने हेतु प्रत्येक 15 दिन में दिये जाने वाले अनुपातिक कनेक्शन का लक्ष्य निर्धारित कर उपलब्ध कराये जाने हेतु जलनिगम के मुख्य अभियंता को निर्देशित किया। सीस वरूणा क्षेत्र में वर्ष 1992 में बिछाये गये पेयजल पाइप लाइन में गैफ होने के कारण पेयजलापूर्ति बाधित होने तथा इससे नागरिको को हो रही परेशानी पर ध्यानाकर्षित करते हुए विधायक सौरभ श्रीवास्तव ने मंत्री को बताया कि बिछाये गये पाइप लाइन का डेटा पिछले 9 माह से मॉगेजाने के बावजूद उन्हे अब तक उपलब्ध नही कराया गया तथा इसके लिये जिम्मेदार अधिकारियों को जलनिगम द्वारा बचाया जा रहा है। इस पर मंत्री ने बिफरते हुए जिम्मेदार जलनिगम के तत्कालीन एवं सेवानिवृत्त हो चुके मुख्य अभियंता आर0के0द्धिवेदी के विरूद्व एफआईआर दर्ज कराये जाने का निर्देश दिया। उन्होने गोइठहा एवं दीनापुर सीवरेज ट्रीटमेंट प्लान्ट के निर्माण कार्य युद्वस्तर पर अभियान चलाकर मार्च में पूरा कराये जाने का निर्देश दिया। मंत्री सुरेश खन्ना ने कचहरी चौराहा से सारनाथ एवं तेलियाबाग मरी माता तिराहा से सिगरा-रथयात्रा होते हुए बीएचयू तक सड़क पर हेरिटेज पोल लगाये जाने हेतु इस्टीमेंट उपलब्ध कराये जाने का निर्देश दिया। उन्होने 28 करोड़ की धनराशि से लक्ष्मी मंदिर कुण्ड, अवलेशपुर पंचक्रोसी, आदित्यनगर कुण्ड, पहड़िया, सोना तालाब, आल्हा काल्हा तालाब, दुधिया तालाब, कबीर प्राकट्य स्थल व तालाब, लहरतारा एवं कर्णधंटा तालाब के पुनरूद्वार व सुन्दरीकरण कार्य को शीघ्र कराये जाने पर जोर दिया। मंत्री सुरेश खन्ना ने नगर आयुक्त को निर्देशित किया नगर निगम के जमीन पर हुए अवैध अतिक्रमण को शीघ्र चिन्हिंत कर अभियान चलाकर समयसीमा निर्धारित कर अवैध अतिक्रमण से उसे मुक्त कराया जाय। शहर के यातायात व्यवस्था को सुगम बनाये जाने हेतु उन्होने सड़को पर स्थान चिन्हिंत कर वाहनों के पार्किग स्थल बनाये जाने का निर्देश देते हुए कहॉ कि मल्टीलेबल पार्किग बनाया जाय। उन्होने विशेष रूप से जोर देते हुए कहॉ कि पार्किग आवागमन का जान होता है और यदि पार्किग व्यवस्था सुनिश्चित करा लिया जाय, तो सड़को पर जाम नही लगेगे और यातायात सुगम होगा। बैठक में उत्तर प्रदेश के विधि, न्याय, सूचना, खेल एवं युवा कल्याण राज्य मंत्री डा0 नीलकंठ तिवारी ने कहॉ कि वाराणसी में 10 हजार की क्षमता वाला अर्न्तराष्ट्रीय कन्वेंशन सेन्टर बनवाया जायेगा। 

बैठक में उत्तर प्रदेश के विधि, न्याय, सूचना, खेल एवं युवा कल्याण राज्य मंत्री डा0 नीलकंठ तिवारी, महापौर मृदुला जायसवाल, विधायक पिण्डरा डा0अवधेश सिंह, अजगरा कैलाशनाथ सोनकर, सेवापुरी नीलरतन पटेल, रोहनियॉ सुरेन्द्र नारायण सिंह, एमएलसी चेतनारायण सिंह, पीएमओ के एडिशनल सेक्रेटरी समीर शर्मा, कमिश्नर नितिन रमेश गोकर्ण, जिलाधिकारी योगेश्वर राम मिश्र, नगर आयुक्त डा0नितिन बंसल के अलावा जलनिगम, जलकल, लोक निर्माण, विद्युत आदि विभागों के अधिकारी प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।
Reactions:

Post a Comment

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget