कोयला सचिव श्री सुशील कुमार एनसीएल के दौरे पर

कोयला सचिव श्री सुशील कुमार एनसीएल के दौरे पर



  • एनसीएल के आला अधिकारियों के साथ की समीक्षा बैठक, जयंत खदान का किया निरीक्षण।
  • खड़िया में 06 एमटी वार्षिक क्षमता के सीएचपी विस्तार को राष्ट्र को किया समर्पित।
  • निगाही में डीएवी स्कूल की नई इमारत का किया शुभारंभ।
उर्जांचल टाईगर सिंगरौली (विनोद सिंह/सुंदरम सिंह)
सिंगरौली।।भारत सरकार के कोयला सचिव श्री सुशील कुमार शुक्रवार देर शाम नॉर्दर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड (एनसीएल) के दौरे पर पहुंचे। एनसीएल आगमन के साथ ही उन्होंने सर्वप्रथम एनसीएल के आला अधिकारियों के साथ कंपनी के कोयला उत्पादन एवं उत्पादकता से जुड़े विषयों पर समीक्षा बैठक की और कंपनी की भावी योजनाओं से रूबरू हुए। बैठक में एनसीएल के अध्यक्ष-सह-प्रबंध निदेशक (सीएमडी) श्री पी.के. सिन्हा, निदेशक (कार्मिक) सुश्री शांतिलता साहू, निदेशक (तकनीकी संचालन) श्री गुणाधर पांडेय, निदेशक (वित्त) श्री पी.एस.आर.के. शास्त्री, निदेशक (तकनीकी/परियोजना एवं योजना) श्री पी.एम. प्रसाद, कंपनी के सभी कोयला क्षेत्रों के महाप्रबंधक तथा एनसीएल मुख्यालय के महाप्रबंधक व विभागाध्यक्ष उपस्थित थे।

एनसीएल दौरे के दूसरे दिन यानी शनिवार को श्री कुमार ने कंपनी के आला अधिकारियों के साथ जयंत कोयला क्षेत्र का निरीक्षण किया और कंपनी के मेगा कोयला क्षेत्र जयंत के कामकाज एवं उसकी विस्तार योजनाओं पर तफसील से जानकारी ली।
इसके पश्चात उन्होंने खड़िया क्षेत्र में नवनिर्मित कोल हैंडलिंग प्लांट (सीएचपी) विस्तार फेज –II को राष्ट्र को समर्पित कियाऔर सीएचपी की कार्यप्रणाली समझी। खड़िया की नई सीएचपी की वार्षिक कोयला प्रेषण क्षमता 06 मिलियन टन है और इससे माइनस 100 एमएम साइज में कोयले की क्रशिंग होगी, जो कोयले की गुणवत्ता के लिए निर्धारित साइज है। इस नई क्षमता के जुड़ने के साथ ही खड़िया क्षेत्र के सीएचपी की कुल वार्षिक क्षमता बढ़कर 10 मिलियन टन हो गई है।इस अवसर पर श्री कुमार ने अपने उद्बोधन में कहा कि एनसीएल कोल इंडिया लिमिटेड (सीआईएल) की सबसे प्रगतिशील कंपनी है और कंपनी की असीम क्षमताओं का जिक्र करते हुए उन्होंने उम्मीद जाहिर की कि अगले वित्त वर्ष में यह कंपनी 100 मिलियन टन कोयला उत्पादन एवं 105 मिलियन टन कोयला प्रेषण करेगी। एनसीएल के सीएमडी श्री पी.के. सिन्हा ने कहा कि खड़िया एनसीएल का ड्रीम प्रोजेक्ट है और आने वाले समय में यह एनसीएल के मेगा प्रोजेक्ट के रूप में अपनी जगह स्थापित करेगा। 

इसके पश्चात श्री कुमार ने कंपनी के निगाही क्षेत्र में डीएवी स्कूल की नवनिर्मित इमारत का शुभारंभ किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि बच्चों के आत्मनिर्माण में विद्यालय एवं शिक्षकों की महत्ता एवं पवित्रता अहम है और विद्यालय एक ऐसा पवित्र स्थान है, जहां एक साधारण बच्चा भी अपने व्यक्तित्व में असाधारण निखार ला सकता है। छात्र-छात्राओं को विशेष रूप से प्रेरित करते हुए उन्होंने कहा कि देश की सभी महान विभूतियों के व्यक्तित्व निर्माण में उनके विद्यालयों का अहम योगदान रहा है। उन्होंने कार्यक्रम के दौरान अद्भुत सांस्कृतिक प्रस्तुति देने वाले स्कूली बच्चों को इनाम दिए जाने की भी घोषणा की। एनसीएल सीएमडी श्री पी.के. सिन्हा ने इस इस अवसर पर एनसीएल द्वारा शिक्षा को बढ़ावा दिए जाने हेतु किए जा रहे प्रयासों के बारे में बताया। गौरतलब है कि विद्यालय के नए परिसर में 26 अध्ययन कक्ष, आधुनिक लैब, पुस्तकालय सहित कुल 40 कक्ष हैं और रेकॉर्ड 13 महीने में विद्यालय की नई इमारत का निर्माण हुआ है। 

एनसीएल कोयला क्षेत्रों के दौरे के दौरान आयोजित विभिन्न कार्यक्रमों में एनसीएल के विभिन्न कोयला क्षेत्रों के महाप्रबंधकगण, मुख्यालय के महाप्रबंधकगण एवं विभागाध्यक्ष, एनसीएल जेसीसी सदस्य श्री अशोक दूबे, श्री अरुण दूबे एवं सीएमओएआई के अध्यक्ष श्री तारकेश्वर प्रसाद एवं महासचिव श्री सर्वेश सिंह सहित बड़ी संख्या में अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित थे।
Reactions:

Post a Comment

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget