निजीकरण के विरोध में 27 मार्च को प्रदेश व्यापी पूर्ण कार्य बहिष्कार।

निजीकरण के विरोध में 27 मार्च को प्रदेश व्यापी पूर्ण कार्य बहिष्कार।


निजीकरण के विरोध में 27 मार्च को प्रदेश व्यापी पूर्ण कार्य बहिष्कार चल रहे आन्दोलन को भारी जन समर्थन मिला वाराणसी जनपद के सभी कार्यालयों व उपकेन्द्रों में पसरा सन्नाटा।
वाराणसी।।विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति उ0प्र0 के आºवान पर आज 27 मार्च 2018 को प्रदेश के सभी जनपदों सहित वाराणसी में भी सभी अधिकारियों एवं कर्मचारियों ने पूरी तरह से कार्य बहिष्कार किया, जिससे वाराणसी के सभी विद्युत उपकेन्द्रों एवं कार्यालयों में पूरी तरह से सियापा छाया रहा। कार्य बहिष्कार में शामिल सभी विद्युत कर्मियों ने प्रबन्ध निदेशक कार्यालय भिखारीपुर, हार्इडिल कालोनी परिसर में निजीकरण के खिलाफ जम कर नारेबाजी की और पूरे दिन कार्य बहिष्कार किया।

बैठक की अध्यक्षता कर रहे इं0 अरविन्द कुमार सिंह संघर्ष समिति ने बताया कि आन्दोलन को तेज करते हुए ऐलान किया है कि बिजली के निजीकरण के निर्णय के विरोध में 28 मार्च से अनिश्चितकालीन नियमानुसार कार्य आन्दोलन (Work to Rule) जिसके अन्तर्गत कार्यदिवस में सुबह 10 बजे से सांयकाल 05 बजे के बीच ही कार्य किया जायेगा, अवकाश के दिन में कोर्इ भी कर्मचारी कार्य नहीं करेगा। यदि उपभोक्ता की सप्लार्इ शाम 05 बजे के बाद या अवकाश के दिन अवरूद्ध होती है तो सप्लार्इ के मेन्टनेन्स का कार्य अगले कार्यदिवस में ही किया जायेगा। शाम 05 बजे के बाद अगले दिन सुबह 10 बजे तक और अवकाश के दिन मेन्टनेन्स या कार्यालय में कोर्इ कार्य नहीं होगा। समिति ने यह भी बताया कि प्रदेश भर में 28 मार्च, 2018 से 08 अप्रैल 2018 तक प्रतिदिन अपरान्ह 02 बजे से सांयकाल 05 बजे तक प्रबन्ध निदेशक कार्यालय पर विरोध सभाये चलती रहेगी एवं 9 अप्रैल 2018 को प्रात: 08 बजे से 12 अप्रैल 2018 को प्रात: 08 बजे तक 72 घण्टे तक पूर्ण कार्य बहिष्कार किया जायेगा। संघर्ष समिति के पदाधिकारियों ने यह चेतावनी दी कि यदि बिजली कर्मचारियों के शान्तिपूर्ण आन्दोलन का दमन करने हेतु किसी भी कर्मचारी का उत्पीड़न किया गया तो बिना कोर्इ नोटिस दिये अनिश्चित कालीन कार्य बहिष्कार प्रारम्भ कर दिया जायेगा। संघर्ष समिति ने आज यह भी घोषणा की कि यदि किसी भी कर्मचारी की गिरफ्तारी की गयी तो प्रत्येक जनपद व परियोजना पर बिजली कर्मचारी व अभियन्ता सामूहिक गिरफ्तारियाँ देना प्रारम्भ कर देंगे और जेल भरो आन्दोलन शुरू हो जायेगा। 


बिजली कर्मियों के निजीकरण के विरोध में चल रहे इस आन्दोलन को जनहित बताते हुए 
 (1) पूर्व सांसद डा0 राजेश मिश्रा 
(2) पूर्व विधायक श्री अजय राय
(3) श्री प्रजानाथ शर्मा गंगोत्री सेवा समिति
(4) विद्युत पेंशन परिषद के श्री ए0के0 सिंह,
(5) मंत्री अतीन गांगुली दशाश्वमेध व्यापार मण्डल के दिलीप तुल्स्यान
(6) जनकल्याण परिषद के प्रदेश अध्यक्ष गंगा सहाय पाण्डेय
(7) श्रमिक विकास संगठन आम आदमी पार्टी के अरूण तिवारी 
(8) माँ गंगा निषादराज सेवा समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष विनोद कुमार निषाद 
(9) बंगालीटोला व्यापार मंडल के विजय द्विवेदी ने विरोध सभा स्थल पर उपस्थित होकर अपना समर्थन दिया। 
(10) चन्द्रशेखर फाउण्डेशन के श्री हिमांशु सिंह ने चल रहे आंदोलन को लिखित समर्थन दिया।

बैठक की अध्यक्षता इं0 अरविन्द कुमार सिंह, तथा संचालन आर0के0 वाही ने किया।

बैठक में सर्वश्री र्इ0 ए0आर0 वर्मा, ए0के0 श्रीवास्तव, एस0एस0 शर्मा, एस0बी0 वर्मा, ए0के0 श्रीवास्तव (सभी मुख्य अभियन्ता), अनिल वर्मा, सुनील कुमार यादव, चन्द्रशेखर चौरसिया, केदार तिवारी, ए0पी0 श्रीवास्तव, राजेन्द्र सिंह, आर0पी0एस0 यादव, माया शंकर तिवारी, मदन श्रीवास्तव, अभिषेक श्रीवास्तव, ओ0पी0 भारद्वाज, आर0एस0 राय, आर0बी0 सिंह, जीउत लाल चौहान, तपन चटर्जी, ए0के श्रीवास्तव, शिवाजी सिंह, मनीष श्रीवास्तव, रमाशंकर पाल, विरेन्द्र सिंह, ओमकार सिंह, ए0पी0 शुक्ला, दलसिंगार यादव, शशिकिरण मौर्य, ए0के0 उपाध्याय, रत्नेश सेठ, शशि कुमार सिंह, सर्वेश कुमार यादव, आशीष अस्थाना, आर0डी0 सिंह, तपन हलदर, आर0 बी0 मिश्रा, अजय कुमार, रविन्द्र पासवान, अमित श्रीवास्तव, ए0के0 सिंह, काशी यादव, नीरज बिंद, ओमप्रकाश संतोष कुमार, अमितानन्द, विकास कुशवाहा, अंकुर पाण्डेय आदि अधिकारियों/कर्मचारियों ने संबोधित किया

एक टिप्पणी भेजें

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget