निजीकरण के विरोध में विद्युत कर्मियों का जागरूकता रैली।

निजीकरण के विरोध में विद्युत कर्मियों का जागरूकता रैली।



निजीकरण के विरोध में विद्युत कर्मियों का जागरूकता रैली।
वाराणसी।।  विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति के आवाहन पर दिनांक 19 मार्च, 2018 से चल रहा विरोध प्रदर्शन आज भी जारी रहा। निजीकरण के विरोध में विद्युत कर्मियों ने जागरूकता रैली निकली जो प्रबन्ध निदेशक कार्यालय भिखारीपुर से ककरमत्ता, मण्डुआडीह स्टेशन, महमूरगंज तिराहा, सिगरा चौराहा, साजन सिनेमा, मलदहिया चौराहा, लहुराबीर, नर्इसड़क, गोदौलिया, सोनारपुरा होते हुए बी0एच0यू0 परिसर के समक्ष मा0 पं0 मदन मोहन मालवीय के प्रतिमा के समीप समाप्त हुआ। रैली में सैकड़ो कर्मचारियों ने बार्इक पर सवार हो कर हाथो में लाल झण्डा एवं जनता, किसानो, मजदूरों को निजीकरण से होने वाली हानियों से सम्बन्धित तख्ती लिये भाग लिया। लगभग 300 से ज्यादा मोटर सार्इकिलो पर बिजली कर्मी लाल झण्डा बान्धे निजीकरण के विरोध में तख्ती लिये चल रहे थे, तख्ती पर कुछ प्रमुख स्लोगन लिखे थे जिनमें प्रमुख थे ‘‘जनता व किसानों को सस्ती बिजली दो गरीबो को न्याय दो, निजीकरण सुधार नहीं जनता से छलावा है, विरोध सभा में वक्ताओं ने बताया कि सरकारी विभागों के उपर लगभग रू0 10700 करोड़ का बकाया है। जिसके लिए संघर्ष समिति ने यह निर्णय लिया है कि सरकारी विभागों का विद्युत विच्छेदन कर बकाया राजस्व की वसूली की जाय। 

जिसके तहत प्रथम चरण में लखनऊ स्थित सरकारी गेस्ट हाउस का आज विद्युत विच्छेदन किया गया है। नेताओं ने सरकार से माँग किया कि सरकारी विभागों पर बकाये का भुगतान करें। सरकारी भुगतान प्राप्त होने से कार्पोरेशन की प्रति यूनिट राजस्व की वसूली दर बढ़ जायेगी। जिससे उपभोक्ताओं को बेहतर विद्युत आपूर्ति एवं आगामी समय में विद्युत दरे भी निश्चित रूप से कम होगी और गरीब जनता को सस्ती बिजली उपलब्ध होगी तथा साथ ही विद्युत विभाग घाटे से भी उबरेगा।

बिजली कर्मियों के निजीकरण के विरोध में चल रहे इस आन्दोलन को जनहित बताते हुए निम्न पदाधिकारियों ने अपने विचार व्यक्त किये।

माँ गंगा निषादराज सेवा समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष विनोद कुमार निषाद, महामंत्री प्रमोद मॉझी, सुनील कश्यप।

दशाश्वमेध व्यापार मण्डल के अध्यक्ष दीलीप तुल्स्यान, उपाध्यक्ष मन्नु जैसवानी, मंत्री विनोद यादव।

बंगालीटोला व्यापार मंडल के विजय द्विवेदी ने विरोध सभा स्थल पर उपस्थित होकर अपना समर्थन दिया। उन्होने यह भी बताया कि इस निजीकरण से निश्चित तौर पर आम जनता और किसानों को मँहगी बिजली का दंश झेलना पडेगा।

विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति द्वारा चलाये जा रहे आन्दोलन को उत्तर प्रदेश राज्य विद्युत परिषद लेखा कर्मचारी संघ ने अपना पूर्ण समर्थन देते हुए इसमें शामिल होने की घोषणा की।

बैठक की अध्यक्षता इं0 माया शंकर तिवारी, तथा संचालन आर0के0 वाही ने किया। बैठक में सर्वश्री र्इ0 ए0आर0 वर्मा, सुनील कुमार यादव, चन्द्रशेखर चौरसीया, डी0के0डी0 द्विवेदी, आर0बी0 सिंह, अंकुर पाण्डेय, ए0के श्रीवास्तव, नीरज पाण्डेय, मनीष श्रीवास्तव, जीउत लाल, ए0पी0 श्रीवास्तव, राजेन्द्र सिंह, मदन श्रीवास्तव, अभिषेक श्रीवास्तव, ओ0पी0 भारद्वाज, दलसिंगार यादव, शशीकिरण मौर्य, ए0के0 उपाध्याय, जगदीश पटेल, रत्नेश सेठ, चन्द्रजीत कुमार, आशीष अस्थाना, आर0डी0 सिंह, बी0डी0 सिंह, वी0पी0 ंिसंह, राम कुमार, निर्भय कुमार सिंह, आर0के0 यादव, दीपक सिंह, अरूण कुमार यादव, मनोज गुप्ता, तपन हलदर, आर0 बी0 मिश्रा, अजय कुमार, संजय तिवारी, सर्वेश शुक्ला, ए0के0 सिंह, नीरज बिंद, ओमप्रकाश संतोष कुमार, अमितानन्द, विकाश कुमार आदि अधिकारियों/कर्मचारियों ने संबोधित किया।

Post a Comment

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget