निजीकरण के विरोध में 27 मार्च को प्रदेश व्यापी कार्य बहिष्कार।

निजीकरण के विरोध में 27 मार्च को प्रदेश व्यापी कार्य बहिष्कार।

वाराणसी।।श्री आर0के0 वाही, बिद्युत मजूदर पंचायत ने बताया कि विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति उ0प्र0 के आºवान पर 27 मार्च 2018 को प्रदेश के सभी ऊर्जा निगमों के तमाम विद्युत कर्मचारी व अभियन्ता पूरे दिन कार्य बहिष्कार करेंगे। संघर्ष समिति पावर कारपोरेशन प्रबन्धन पर हठधर्मिता का आरोप लगाते हुए कहा है कि प्रबन्धन व सरकार बिजली के निजीकरण को लेकर अनावश्यक टकराव का वातावरण बना रही है। संघर्ष समिति ने चेतावनी दी है कि कार्यबहिष्कार के दौरान यदि किसी भी कर्मचारी का कोर्इ उत्पीड़न किया गया तो तमाम कर्मचारी व अभियन्ता बिना और कोर्इ नोटिस दिये उसी समय अनिश्चितकालीन कार्य बहिष्कार प्रारम्भ करने हेतु बाध्य होंगे, जिसकी सारी जिम्मेदारी सरकार की होगी।

संयुक्त संघर्ष समिति ने बताया कि 27 मार्च 2018 को कार्य बहिष्कार से विद्युत उत्पादन गृहों पर 765/400 के0वी0 विद्युत उपकेन्द्रों तथा प्रणाली नियंत्रण की पाली में काम करने वाले कर्मचारियों व अभियन्ताओं को कार्य बहिष्कार कार्यक्रम से अलग रखा गया है, जिससे बिजली का ग्रिड पूरी तरह से ठप्प न हो। संघर्ष समिति ने यह भी कहा है कि यदि सरकार अपना हठवादी रवैया नहीं छोड़ती तो आन्दोलन और तीव्र किया जायेगा। जिससे होने वाले परिणामों की जिम्मेदारी सरकार की होगी। संघर्ष समिति ने कहा कि लखनऊ, वाराणसी, गोरखपुर, मेरठ और मुरादाबाद शहरों में विद्युत वितरण कम्पनियां मुनाफा कमा रही हैं। जबकि आगरा में निजीकरण के बाद 08 वर्षो में पावर कारपोरेशन को करोड़ों का नुकसान हो चुका है। कितनी विडम्बना है कि उ0प्र0 सरकार ने मुनाफा कमाने वाले शहरों का आगरा की तरह निजीकरण करने का निर्णय लिया है, जहां निजीकरण के चलते पावर कारपोरेशन को 100 अरब का चूना लग चुका है। संघर्ष समिति ने निर्णय लिया है कि व्यापक जनहित में निजीकरण के विरूद्ध किये जा रहे संघर्ष को आम जनता के बीच ले जाया जायेगा और जनता को निजीकरण की हानि के सच से अवगत कराया जायेगा।

बिजली कर्मियों के निजीकरण के विरोध में चल रहे इस आन्दोलन को जनहित बताते हुए
(1) जनकल्याण परिषद के प्रदेश अध्यक्ष गंगा सहाय पाण्डेय, 
(2) श्रमिक विकास संगठन आम आदमी पार्टी के अरूण तिवारी, विजय नाथ पाण्डेय, प्रमोद पाण्डेय, पप्पू सिंह
(3) पूर्वांन्चल विद्युत संविदा मजदूर संघ के विरेन्द्र सिंह, दिनेश कुमार ने विरोध सभा स्थल पर उपस्थित होकर अपना समर्थन दिया।
उन्होने यह भी बताया कि इस निजीकरण से निश्चित तौर पर आम जनता और किसानों को मँहगी बिजली का दंश झेलना पडेगा। 

विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति द्वारा चलाये जा रहे आन्दोलन को उत्तर प्रदेश राज्य विद्युत परिषद लेखा कर्मचारी संघ के केन्द्रीय कमेटी ने भी अपना पूर्ण समर्थन देते हुए कल के प्रदेश व्यापी पूर्ण कार्य बहिष्कार में शामिल होने की घोषणा की।

बैठक की अध्यक्षता इं0 माया शंकर तिवारी, तथा संचालन आर0के0 वाही ने किया।

बैठक में सर्वश्री र्इ0 मनोज अग्रवाल, सुनील कुमार यादव, चन्द्रशेखर चौरसीया, केदार तिवारी, ए0पी0 श्रीवास्तव, राजेन्द्र सिंह, मदन श्रीवास्तव, अभिषेक श्रीवास्तव, ओ0पी0 भारद्वाज, आर0एस0 राय, आर0बी0 सिंह, तपन चटर्जी, ए0के श्रीवास्तव, नीरज पाण्डेय, मनीष श्रीवास्तव, रमाशंकर पाल, जीउत लाल, दलसिंगार यादव, शशीकिरण मौर्य, ए0के0 उपाध्याय, जगदीश पटेल, रत्नेश सेठ, चन्द्रजीत कुमार, आशीष अस्थाना, आर0डी0 सिंह, बी0डी0 सिंह, वी0पी0 सिंह, मनीष झाँ, निर्भय कुमार सिंह, सुनिल कुमार, सुमन कुमार, अरूण कुमार यादव, मनोज गुप्ता, तपन हलदर, आर0 बी0 मिश्रा, अजय कुमार, रविन्द्र पासवान, अमित श्रीवास्तव, ए0के0 सिंह, नीरज बिंद, ओमप्रकाश संतोष कुमार, अमितानन्द, विकास कुश्वाहा, अंकुर पाण्डेय आदि अधिकारियों/कर्मचारियों ने संबोधित किया।

Post a Comment

डिजिटल मध्य प्रदेश

डिजिटल मध्य प्रदेश

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget