गंगा कटान रोकने के लिए सिंचाई विभाग ने गठित किया कमेटी

गंगा कटान रोकने के लिए सिंचाई विभाग ने गठित किया कमेटी


  • कमेटी को सप्ताह भर में विस्तृत आख्या देनी है। 
  • राष्ट्रसेवी अंजनी सिंह का प्रयास लाया रंग, 19 दिन तक बैठे थे धरना पर। 
धानापुर-चन्दौली।। क्षेत्र में बाढ़ की विनाशलीला से परेशान किसानों के लिए गंगा कटान की समस्या से निजात पाने हल्की उम्मीद जगी है। ऐसा मुमकिन हो पाया है राष्ट्रसेवी अंजनी सिंह के नेतृत्व में गुरैनी पम्प कैनाल पर दिए गए 19 दिनों की अनवरत धरना के उपरांत। तब जा कर शासन की तंद्रा टूटी है और गंगा कटान से लोगों को मुक्ति दिलाने के लिए उच्चस्तरीय कमेटी का गठन हो गया है, जिसे एक हफ्ते में अपनी रिपोर्ट शासन को सौपनी है। 

विदित हो कि सालों से हो रहे गंगा कटान ने धानापुर एवं चहनियां विकास खण्ड के दर्जनों गाँवों के किसानों की हजारों एकड़ खेती की फसल प्रति वर्ष आने वाले बाढ़ में समाहित करती रही है। हालात तो अब ये हैं कि गंगा किनारे के गाँव वालों की बस्तियों पर कटान का काला साया मंडरा रहा है। यूँ तो कई बार विभिन्न दल के नेताओं ने गंगा कटान से मुक्ति दिलाने की बात कर वोट हासिल किया मगर कटान रोकने की बात आई तो नतीजा सिफर ही रहा। गंगा कटान से उपजी विनाशलीला से विचलित होकर धानापुर विकास खण्ड के खड़ान निवासी राष्ट्रसेवी एवं पूर्व सैनिक अंजनी सिंह ने किसान यूनियन के बैनर तले गुरैनी पम्प नहर पर 31 दिसंबर को किसानों संग अनिश्चितकालीन धरना पर बैठ गए। तमाम कवायद के बाद 18 जनवरी को मुख्य अभियंता सोन जियाउल हक के आश्वासन पर 19 दिन बाद इस चेतावनी के साथ की अगर गंगा कटान रोकने की दिशा में कार्यवाही नहीं हुई तो पुनः अनिश्चितकालीन धरना प्रारम्भ होगा, इस आशय के साथ अंजनी सिंह ने मंगप पत्र दिया और धरना समाप्त हुआ। इसी क्रम में शासन ने अंजनी सिंह के मांगपत्र को ध्यान में रख कर गंगा कटान रोकने हेतु वृहद परियोजना बनाने के लिए दो सदस्यीय कमेटी का गठन किया है, कमेटी के अध्यक्ष के तौर पर मुख्य अभियंता मध्य स्तर-1, सिंचाई एवं जल संसाधन विभग लखनऊ तथा मुख्य अभियंता बाणसागर स्तर-2, सिंचाई एवं जल संसाधन विभाग इलाहाबाद को कमेटी का सदस्य बनाया गया है। उन्हें निर्देशित किया गया है कि वो अपनी विस्तृत आख्या एक सप्ताह के भीतर प्रमुख अभियंता एवं विभागाध्यक्ष को सौंपे। इस आशय का पत्र अंजनी सिंह को मुख्य अभियंता सिंचाई विभाग द्वारा प्रेषित किया गया है। पत्र में कहा गया है कि अधिकारी द्वय सप्ताह भर के अंदर प्रभावित गुरैनी पम्प नहर तथा पम्प नहर के अपस्ट्रीम एवं डाउनस्ट्रीम गुरैनी, कुंडा खुर्द से लेकर कवलपुरा के बीच बाढ़ से सुरक्षा हेतु वृहद परियोजना बना कर शासन को प्रेषित किया जाए। 

शासन के इस पहल से क्षेत्रीय लोगों में खुशी है। अंजनी सिंह इसके लिए विभागीय अधिकारियों को धन्यवाद का पात्र बताते हैं। वो कहते हैं कि शासन की तंद्रा लंबे अरसे बाद ही टूटी तो। लोगों में गंगा कटान से मुक्ति की आस तो जगी। अंजनी सिंह कहते हैं कि क्षेत्रीय सांसद और विधायक को चाहिए कि इस विकराल जन समस्या पर केंद्र व प्रदेश सरकार से वार्ता कर उक्त परियोजना के लिए धन अवमुक्त कर तत्काल लोगों को गंगा कटान की समस्या से राहत दिलाएं।
Reactions:

Post a Comment

डिजिटल मध्य प्रदेश

डिजिटल मध्य प्रदेश

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget