उम्रदराज कलेक्टर देश के विकास में बाधक – पीएम मोदी


उर्जांचल टाइगर # नई दिल्ली।। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि बराबरी के लिए सभी जिलों का विकास होना जरुरी है।विकास के लिए युवा अफसरों को प्रोत्साहित करना होगा। विकास के लिए अफसर और जनप्रतिनिधि साथ आएं। संसद के केन्द्रीय कक्ष में विकास के लिए हम विषय पर आयोजित सांसदों एवं विधयाकों के सम्मलेन को संबोधित करते हुए मोदी ने सर्वागीर्ण विकास के सन्दर्भ में सामाजिक न्याय पर बात की। प्रधानमंत्री ने कहा कि जब सभी बच्चे स्कूल जाने लगेंगे और सभी मकानों को बिजली मिलने लगेगी,तभी यह सामाजिक न्याय कि दिशा में एक कदम होगा। इस पर जोर देते हुए कि विकास कि कमी के कारण बजट या संसाधन नहीं बल्कि शासन था,मोदी ने कहा कि विकास के लिए शुसान,योजनाओं के प्रभावी क्रियान्वन और पूर्ण ध्यान के साथ गतिविधियाँ चलाना आवश्यक है। प्रधानमंत्री ने कहा,एक वक्त था जब हार्डकोर राजनीति काम करती थी। आप सत्ता में हो या विपक्ष में,मतलब सिर्फ इस बात से है कि आप लोगों की मदद को आगे आते हैं या नहीं। मोदी ने सांसदों से कहा कि आपने कितने विरोध किए,आपने कितने मोर्चे निकाले और कितनी बार आप जेल गए संभवतः २० साल पहले आपके राजनितिक करियर में मायने रखता होगा,लेकिन अब बात बदल गयी है।

राज्य कैडर से पदोन्नति पाकर केन्द्रीय सेवा में आए अधिकारियो के स्थान पर नव-नियुक्त आईएएस अधिकारियों का संदर्भ देते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि इन जिलों में कुछ करने गुजरने कि इच्छा रखने वाले युवा अधिकारीयों को जिलाधिकारी बनाकर भेजा जाए।

प्रधानमन्त्री मोदी ने कहा कि किसी जिलाधिकारी कि औसत आयु सामान्य तौर पर २७-से-३० वर्ष होती है। ज्यादा आयु वर्ग के अधिकारियों कि और चिंताएं होती है,जैसे परिवार और करियर,और इन जिलों को ऐसी जगहों के रूप में नहीं देखा जाना चाहिए,जहां ऐसे लोगों कि ही नियुक्ति की जाए।
लेबल:
प्रतिक्रियाएँ:

एक टिप्पणी भेजें

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget