माटी मांगे खून...की कहानी अब नहीं दुहरायी जायेगी।

माटी मांगे खून...की कहानी अब नहीं दुहरायी जायेगी।

झाझा पुलिस ने गांव-गांव में जाकर भूमि मुद्दे को सुलझाने की पहल की। 
पटना(स्टेट हेड-मुकेश कुमार)।।सूबे के अति उग्रवाद प्रभावित जमुई जिले के झाझा पुलिस अनुमंडल क्षेत्र के ग्रामीण इलाकों में भूमि विवाद की समस्या विकराल रूप धारण कर चुकी है।गौरतलब है की माटी मांगे खून...के तर्ज पर यहां अनेकों हत्या हो चुकी हैं।सुहागिनों की मांग के सिंदूर धुलती रही,बच्चों के सिर से पिता,भाई,चाचा का साया छीनने का सिलसिला खासकर सोनो और चरकापत्थर थाना क्षेत्र के इलाकों में महिलाओं व बच्चों के करुण क्रंदन की चीत्कार मानवता को शर्मसार करती रही है।लहू के दाग को लहू से धोने का सिलसिला जब तक खत्म नहीं होगा,तब तक महाभारत की गाथा होती रहेगी।
इस ज्वलंत समस्या के निदान के लिए मंगलवार को झाझा पुलिस अनुमंडल के कर्तव्यनिष्ठ आरक्षी उपाधीक्षक, भास्कर रंजन ने चरकापत्थर थाना क्षेत्र के भेलवा मोहनपुर, दुधनिया, लालीलेवार आदि गांवों में शिविर लगाकर सामाजिक समरसता,भाईचारे को बनाये रखने के लिए भूमि समस्याओं के मुद्दे पर पुलिस-फ्रेंडली के रूप में वार्ता करके उसके निदान निकालने की सराहनीय पहल की।पुलिस के इस पहल से एक तरफ जहां स्थानीय ग्रामीणों में जागरूकता व नैतिकता का अहसास होते हुए दिखा,वही दूसरी ओर भूमि समस्या के निदान होने की आशा यहां के लोगो में जगी है।आरक्षी उपाधीक्षक, भास्कर रंजन ने उर्जान्चल टाईगर को बताया की सूबे के पुलिस महानिदेशक, के.एस. द्विवेदी व जिले के पुलिस अधीक्षक जे.जगन्नाथु रेड्डी के दिशा-निर्देश का अनुपालन करते हुए भूमि समस्या के निराकरण के लिए पुलिस ने पहल शुरू कर दी है। 
सुदूरवर्ती ग्रामीण इलाकों के ग्रामीणों में इस पहल का अच्छा खासा असर देखा जा रहा है।उन्होंने उम्मीद जतायी की आमजनों का सहयोग यदि प्राप्त होता रहा तो गरीब-गुरबे तबके के लोगों को ऐसी समस्याओं से त्वरित लाभ जरूर मिलेगा।क्योंकि सज्जनो के सम्मान और अपराध के शमन के लिए झाझा पुलिस अनुमंडल प्रशासन हमेशा से कृत संकल्पित रहा है। इस मौके पर उपर्युक्त थाना क्षेत्र के पुलिस अधिकारी, जन प्रतिनिधि सहित सैकड़ों ग्रामीण उपस्थित थे।

Post a Comment

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget