पूर्व विधायक ने जमुई सांसद पर फिर किया हमला

पूर्व विधायक ने जमुई सांसद पर फिर किया हमला

  • मांगा चार सालों का हिसाब 
  • पूर्व विधायक ने सांसद को हवा हवाई सांसद बताया 
  • बिहार के एनडीए सरकार के जदयू नेता है पूर्व विधायक 
अर्जुन अरनव
जमुई।। जमुई लोकसभा क्षेत्र के चकाई विधानसभा के पूर्व विधायक सह जनता दल यू के नेता सुमित कुमार सिंह ने शुक्रवार को जमुई सांसद पर हमला करते हुए उनके चार साल के कार्यकाल में क्षेत्र के हुए विकास का हिसाब मागां। उन्होंने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा है कि क्या जमुई के सांसद चिराग पासवान चार साल में एक योजना का शिलान्यास कर उदघाटन कर सके हैं? एक अदद योजना का ही जिक्र करें, छोड़िये सड़क-पुल, पुलिया, वह तो इनके बस का है भी नहीं। कोई सामुदायिक भवन भी बनवा पाए हैं क्या? 4 साल में क्या-क्या हुआ? उन्हें अपने चार साल के कार्यकाल में जमीन पर हासिल ठोस उपलब्धियों की सूची जारी करनी चाहिए। हवा-हवाई घोषणाओं और आंख में धूल झोंकने वाले उनके आश्वासनों एवं उनके 'पप्पूपन' के प्रमाण निर्मूल, महत्वहीन पत्रों के अलावा उनके खाते में कोई उपलब्धि है भी क्या?चार साल बाद जो सांसद अपने क्षेत्र में पूर्व से बन रही प्रधानमंत्री सड़क योजना की एक-दो सड़कों के अलावा कोई उदघाटन न कर पाए, उसे वास्तव में 'पप्पू' की संज्ञा देने की जरूरत है। जिन सड़कों का फीता काट उदघाटन का अवसर इन्हें मिला उसका शिलान्यास मैंने एवं तत्कालीन जिला परिषद अध्यक्ष या, पूर्ववर्ती सांसद ने किया था। उसका अधिकांश कार्य भी इनके सांसद बनने से पूर्व पूरा हो चुका था। सांसद बनने के बाद से कभी केंद्रीय विद्यालय, तो कभी किसी योजना के नाम पर सिर्फ झूठा, निराधार, झूठे प्रचार के लिए सिर्फ पत्राचार कर, मीडिया में प्रकाशित करवाकर लोगों को धोखा देते रहे। अब जमुई लोकसभा क्षेत्र को किसी ग्लैमरस हवाई उम्मीदवार के बजाय धरतीपुत्र की जरूरत है। जो यहां का सपूत हो, जिसका अपनी जमीन, अपनी मिट्टी से जुड़ाव हो, जो यहां रहेगा, यहां की पीड़ा को समझेगा तो उसकी जुबान जमुई का नाम होगा। जमुई का नाम लेने में जुबान लड़खड़ायेगा नहीं! संसद में कम-से-कम जमुई का नाम तो गूंजेगा, उसके लिए गिनती नहीं गिनना पड़ेगा कि चार साल में सिर्फ चार बार नाम लेगा। मैं अपने राष्ट्रीय अध्यक्ष माननीय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी एवं गठबंधन दलों के बड़े रहनुमाओं से गुजारिश करूंगा कि यहां किसी स्थानीय उम्मीदवार को तरजीह दिया जाय। जिसका इस मिट्टी से सरोकार हो।
Labels:

टिप्पणी पोस्ट करें

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget