आयुर्वेद संकाय के सभी अध्यापको की बैठक हुई

आयुर्वेद संकाय के सभी अध्यापको की बैठक हुई

वाराणसी।।आयुर्वेद संकाय के सभी अध्यापको की बैठक हुई जिसमे लगातार दैनिक समाचार पत्रों में छप रहे समाचार के बाबत चर्चा हुई जिसमे कहा जा रहा था कि आयुर्वेद को चिकित्सा विज्ञानं संस्थान से अलग कर दिया गया है सभा में प्रो एम् साहू, प्रो संगीता गहलोत, प्रो डी एन पाण्डेय, डॉ मनोज कुमार, प्रो सी एस पांडेय इत्यादि ने विषार व्यक्त किया तथा कहा के महामना की बगिया में आयुर्वेद की शिक्षा का यह इंटीग्रेटेड प्रणाली १९२२ से चल रही है तथा इसको बनाये रखना है

संकाय प्रमुख प्रोफेसर यामिनी भूषण त्रिपाठी जी ने बताया की उनकी माननीय कुलपति जी से इस संधर्भ में वृस्त्रित चर्चा हुई तथा उन्हों ने कहा की पीएमओ के सम्मुख प्रेजेंटेशन में संसथान के तीनो संकायों की संख्या तथा आवश्यकता सम्लित की गई है तथा आयुर्वेद संकाय को अलग रखने का कोई प्रस्ताव नहीं है. कुलपति जी ने बताया कि संसथान के रूप को किसी भी हल में परिवर्तित नहीं होने दिया जाएगा. उन्होंने इस बात पर चिंता भी जताई की कैसे गलत सुचना समाचार पत्रों में छापी प्रो त्रिपाठी ने संसथान के निदेशक प्रो वी के शुक्ला जी से भी मुलाकात की तथा उनके सुझाव के अनुसार अन्य सूचनाये भी उनके कार्यालय में उपलब्ध करा दी गयी जिसे उन्होंने प्रेजेंटेशन में समाहित करने का आदेश दिया जो पीएमओ के समक्ष प्रस्तुत किया जायेगा

प्रो त्रिपाठी ने सभी आध्यापको एवं छात्रों को आश्वस्थ किया की संकाय का किसी भी हाल में नुकसान नहीं होने दिया जाएगा आप ने बताया की अभी हाल में UGC ने संकाय के इतिहास में पहली बार 25 नए अध्यापको के पद सृजित किया है जिसपर नयी नयुक्ति करने का कार्य शुरू हो गया है आप ने बताया की इसके उपरांत की सीट भी अधिक करने की प्रक्रिया शुरू की जाएगी
Reactions:

टिप्पणी पोस्ट करें

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget