तीन डाक्टरों से रंगदारी मांगने वाला गिरफ्तार

तीन डाक्टरों से रंगदारी मांगने वाला गिरफ्तार

रांची(स्टेट हेड-मुकेश कुमार)।।पलामू और गढ़वा के तीन डाक्टरों से रंगदारी मांगने वाले अपराधी को पुलिस ने धर-दबोचा है। उसके पास से रंगदारी मांगने में प्रयुक्त मोबाईल और सीम बरामद कर लिये गये हैं। इस अकेले अपराधी ने अपने दुःसाहन की पराकाष्ठा को पार करते हुए न केवल हुसैनाबाद के चिकित्सक डा. एस.के. रवि और प्रभारी चिकित्सक डा. अनिल कुमार सिंह से रंगदारी की मांग की। बल्कि गढ़वा में पदस्थापित चिकित्सा पदाधिकारी कमलेश कुमार से भी रंगदारी मांगी। इसके अलावा जिले के मोहम्मदगंज के एक पुस्तक विक्रेता से भी यह अपराधी उग्रवादी संगठन जेजेएमपी के नाम पर लेवी की मांग कर रहा था।

पुलिस अधीक्षक इन्द्रजीत माहथा ने आज बताया कि गिरफ्तार अपराधी का नाम धर्मेन्द्र कुमार रवि उर्फ गुड्डू राम (21 वर्ष) है। वह जिले के ऊंटारी रोड के गा्रम भदुआ का निवासी है।उन्होंने बताया कि मामले की गंभीरता को देखते हुए अपराधी की गिरफ्तारी के लिए हुसैनाबाद अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी के नेतृत्व में एक टीम गठित की गयी और यह टीम कल इस अपराधी को गिरफ्तार करने में सफल हुई। श्री माहथा ने बताया कि धर्मेन्द्र बैंक में जाली हस्ताक्षर कर दूसरे के खाते से पैसा निकालने के आरोप में पहले भी जेल जा चुका है। 

ऐसे हुई गिरफ्तारी 

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि हुसैनाबाद क्षेत्र में एक बच्चा लापता है। पुलिस बच्चे की खोज में जुटी थी। अभिभावक द्वारा पूरे इलाके में बच्चे के खोने से संबंधित पोस्टर लगाये गये थे। जिस पर पांच मोबाईल नम्बर दर्ज थे। हैदरनगर रेलवे स्टेशन पर धर्मेन्द्र ने इस पोस्टर को देखा और पोस्टर में लिखे मोबाईल नम्बर पर फोन कर कहा कि बच्चा उसके पास है। 50 हजार रूपये देने पर ही बच्चा वापस दिया जायेगा। हालांकि बच्चा धर्मेन्द्र के पास नहीं था। लापता बच्चा सत्यम कुमार के पिता औरंगाबाद (बिहार) निवासी धनंजय कुमार सिंह पैसे देने को तैयार हो गये। धर्मेन्द्र ने पहले बच्चे के पिता को पैसा लेकर रांची बुलाया लेकिन पुलिस की सक्रियता से वह वहां पैसा नहीं ले सका। इसके बाद 19 जून को बच्चे के पिता को पैसा लेकर हैदरनगर रेलवे स्टेशन आने को कहा और चलती टेन से बहेरा गांव के पास पैसा फैंकने को कहा। बच्चे के पिता ने वैसा ही किया, लेकिन अपराधी पैसा ढ़ूढ़ने में विफल रहा। पुनः 21 जून को अपराधी ने पैसा लेकर जपला रेलवे स्टेशन आने को कहा। इस बार पुलिस ने एक पोटली में कागज का बंडल भरकर बच्चे के पिता को दिया। अपराधी के कहे अनुसार बच्चे के पिता फिर ट्रेन पर सवार हो गये और बताये स्थान पर कागजों के बंडल से भरी पोटली फेंक दी। पुलिस पहले से ही स्थानीय वेशभूषा में वहां मौजूद थी। जैसे ही अपराधी ने पोटली को उठाया, उसे गिरफ्तार कर लिया गया। 

पूर्व मुखिया की भूमिका संदेहास्पद 

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि पाोलडीह पंचायत के पूर्व मुखिया टुन्ना सिंह की भूमिका भी संदेहास्पद है। डा. अनिल सिंह ने सत्यापन के लिए अपराधि का नम्बर दुन्ना सिंह को दिया था। टुन्ना सिंह ने उस नम्बर पर फोन कर यह जानने का प्रयास तो किया कि वह कौन है, लेकिन बातचीत के क्रम में पूर्व मुखिया ने डा. एसके रवि का मोबाईल नम्बर अपराधी को उपलब्ध करा दिया। पुलिस पूर्व मुखिया की भूमिका की जांच कर रही है। 

प्रेस ब्रीफिंग के दौरान हुसैनाबाद एसडीपीओ मनोज कुमार महतो और हुसैनाबाद थाना प्रभारी रास बिहारी लाल भी मौजूद थे।
Reactions:

Post a Comment

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget