नवागन्तुक जिलाधिकारी ने संभाली जिम्मेदारी, पहले दिन ही कलेक्ट्रेट को किया प्लास्टिक मुक्त

नवागन्तुक जिलाधिकारी ने संभाली जिम्मेदारी, पहले दिन ही कलेक्ट्रेट को किया प्लास्टिक मुक्त

वाराणसी।।नवागन्तुक जिलाधिकारी सुरेन्द्र सिंह ने मंगलवार को बाबा कालभैरव और श्री काशीविश्वनाथ मंदिर में दर्शन करने के बाद बुधवार को अपना कार्यभार संभाल लिया। कार्यभार सभालते ही सर्वप्रथम उन्होने कलेक्ट्रेट स्थित अपने संयुक्त कार्यालय का निरीक्षण किया। तत्पश्चात् रायफल क्लब सभागार में पत्रकारो से वार्ता के दौरान अपनी प्राथमिकता का उल्लेख करते हुए उन्होने शासन के जनकल्याणकारी योजनाओं का क्रियान्वयन पारदर्शिता एवं समयबद्वता के साथ सुनिश्चित कराये जाने का भरोसा दिया। प्रथम दिन ही कलेक्ट्रेट को प्लास्टिक मुक्त घोषित करते हुए उन्होने शीघ्र ही पूरे वाराणसी को प्लास्टिक एवं पॉलिथिन मुक्त किये जाने का भरोसा दिया। उन्होने विशेष रूप से जोर देते हुए कहॉ कि इस कार्य में जनपदवासियों का सहयोग भी लिया जायेगा। इस दौरान उन्होने विभिन्न विभागों के अधिकारियों एवं कर्मचारियों को सख्त हिदायत दी कि ऑफिस में डिस्पोज़ न होने वाली प्लास्टिक का उपयोग हर्गिज नहीं किया जाय। गौरतलब है कि जियोलॉजी विषय से एमएससी गोल्ड मेडलिस्ट नवागन्तुक जिलाधिकारी उत्तर प्रदेश के विशेष सचिव पर्यावरण के रूप में भी कार्य कर चुके हैं।
जनपद का बागडोर संभालते ही नवागन्तुक जिलाधिकारी सुरेन्द्र सिंह ने अपने काम करने के अंदाज़ से सभी को मोह लिया। शहर में चोक सीवर की समस्या के सवाल पर उन्होंने कहा कि हम जिस प्लास्टिक का इस्तेमाल अपनी आसानी के लिए कर रहे हैं, वही हमारे घरों की नालियों में से रोज निकल रही है। हम जब प्लास्टिक का उपयोग बंद कर देंगे। तो कई सारी समस्याओं से हमें निजात मिलेगी। जिलाधिकारी ने कहॉ कि वाराणसी एक अर्न्तराष्ट्रीय महत्त्व की नगरी है। ये प्रधानमंत्री का संसदीय क्षेत्र भी है। जो लोगों की अपेक्षाएं है और जो अर्न्तराष्ट्रीय स्तर के लोग यहाँ घूमने या दर्शन करने आ रहे हैं और उनकी जो अपेक्षाएं है कि उन्हें असुविधा न हो, इन सारी चींजों पर वाराणसी में वृहद रूप से कार्य किया जा रहा है। यहां केंद्र और राज्य सरकार की योजनाएं चल रही हैं और इसे स्मार्ट सिटी और अर्न्तराष्ट्रीय सेंटर के साथ-साथ शिक्षा का हब बनाया जा रहा है। हमारा लक्ष्य होगा की सभी योजनाओं को सही समय पर पूरा किया जा सके। ताकि हर किसी को अच्छी और बेहतर सुविधा दी जाए। वाराणसी में संचालित विकास परियोजनाओं के संबंध में उन्होने कहा कि हमारे और सरकारी अधिकारियों के बीच वन टू वन इंटरेक्शन होगा, ताकि हर समस्या का त्वरित निस्तारण हो। इससे यहां के विकास कार्याे को सही समय पर पूरा किया जा सकेगा। साथ ही किसी को कोई असुविधा न हो, हमारी प्राथमिकता में होगा। जिलाधिकारी ने स्पष्ट किया कि वाराणसी जिला प्रशासन अब सोशल मीडिया के जरिये सीधे पब्लिक से संवाद करेगा। इसके अलावा पत्रकारों और विभिन्न प्रोजेक्ट्स में काम कर रही कार्यदायी संस्थाओं से भी सीधा संवाद किया जाएगा। जिससे वास्तविक परेशानियों को समझा जा सके और उन्हें जल्द से जल्द दूर किया जाए। जिलाधिकारी ने बताया कि प्रधानमंत्री के स्वच्छ भारत अभियान को वाराणसी में और गति देने की जरूरत है। 

नवागन्तुक जिलाधिकारी सुरेन्द्र सिंह 2005 बैच के आई0ए0एस0 अधिकारी है। वे मुलतः मथुरा जिले के बलदेव विकास के निवासी है। इनका प्रारम्भिक कक्षा 8 तक की शिक्षा गॉव के ही प्राथमिक विधालय में हुआ। इसके बाद वे कक्षा 9-12 तक की शिक्षा दिल्ली तथा बी0एस0सी0 एवं जियोलॉजी एम0एस0सी0 जयपुर राजस्थान से किया। वे बीकानेर में ढाई वर्ष लेक्चरर के पद पर भी कार्य किया है। आईएएस बनने के बाद इन्होने मेरठ में प्रशिक्षु के रूप में कार्य करने के बाद फैजाबाद में एसडीएम, आगरा में मुख्य विकास अधिकारी तथा भदोही, बलरामपुर, फिरोजाबाद, मुजफ्फर नगर, प्रतापगढ़ एवं कानपुर में जिलाधिकारी के पद पर कार्यरत रहे। वाराणसी में जिलाधिकारी के रूप में कार्य किये जाने को अपना सौभाग्य बताते हुए चुनौतीपूर्ण बताया। उन्होने वाराणसी की यातायात व्यवस्था को स्थानीय प्रमुख समस्या बताते हुए शीघ्र समाधान का भी भरोसा दिया।
Reactions:

Post a Comment

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget