पासपोर्ट विवाद-ट्रोल्स को सुषमा स्वराज का जवाब, मैं कुछ ट्वीट्स से बहुत सम्मानित महसूस कर रही हूं।


नई दिल्ली। एक हिंदू - मुस्लिम दंपति को पासपोर्ट जारी करने को लेकर हुए विवाद में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को सोशल मिडिया पर एक्टिव अतिवादी गिरोह ने ट्विटर पर ट्रोल किया ,ट्रोल करते हुए उनके खिलाफ गाली - गलौज वाली भाषा का इस्तेमाल  किया गया।
रविवार को सुषमा स्वराज ने ऐसे कुछ ट्वीट्स को रीट्वीट किया जिनमें उन्हें अपशब्द कहे गए थे. इसके साथ ही सुषमा स्वराज ने जानकारी दी कि जिस समय पासपोर्ट को लेकर यह विवाद हुआ, उस दौरान वह देश से बाहर थीं।

विदेश मंत्री ने ट्वीट करके लिखा है, ''मैं 17 से 23 जून के बीच भारत से बाहर थी. मेरी ग़ैर-मौजूदगी में क्या हुआ मुझे नहीं मालूम। ख़ैर, मैं कुछ ट्वीट्स से बहुत सम्मानित महसूस कर रही हूं। मैं उन ट्वीट्स को आप सभी के साथ साझा कर रही हूं, इसलिए मैंने उन्हें लाइक किया है।''


सोशल मीडिया के एक हिस्से ने सुषमा और उनके मंत्रालय के खिलाफ मिश्र पर कार्रवाई करने के लिये हमला किया।

एक ट्वीट में कहा गया , ‘‘पक्षपातपूर्ण फैसला। #मैं विकास मिश्र का समर्थन करता हूं। मैडम आप पर शर्म आती है-- क्या यह आपकी इस्लामी किडनी का असर है।’’ हालांकि , मंत्री ने इन अप्रिय बातों को बहादुरी से स्वीकार किया और उनमें से कुछ ट्वीट को रिट्वीट किया। हालांकि , इन ट्वीटों में गाली - गलौज वाली भाषा का इस्तेमाल किया गया था और ये सांप्रदायिक प्रकृति के थे। 

कैप्टन सबरजीत ढिल्लन नाम से हेंडल ट्विटर कट्वीट में लिखा था, ''वह लगभग मरी हुई महिला हैं क्योंकि वह सिर्फ़ एक किडनी के सहारे जी रही हैं (वह भी किसी दूसरे से मांगी गई) और वह किसी भी समय काम करना बंद कर सकती है।''
कैप्टन सरबजीत ढिल्लन का यह ट्वीट असल में इससे पहले रुद्र शर्मा के एक ट्वीट का रिप्लाई था।रुद्र शर्मा के ट्वीट में लिखा गया था, ''यह महिला सुषमा स्वराज नरेंद्र मोदी को भी ट्विटर पर फ़ॉलो नहीं करती। यह अपनी एक सेक्युलर छवि बनाने की कोशिश कर रही है ताकि अगर साल 2019 के चुनाव में बीजेपी को बहुमत नहीं मिलता है तो ये कुछ नकली सेक्युलरों की मदद से देश की प्रधानमंत्री बन सके। विकास मिश्रा के ख़िलाफ़ कार्रवाई इसी एजेंडा का एक हिस्सा है।''

क्या था मामला 

तन्वी सेठ नामक महिला ने आरोप लगाया था कि लखनऊ पासपोर्ट कार्यालय में तैनात अधिकारी विकास मिश्र ने उनके साथ धर्म के आधार पर भेदभाव किया।आरोप लगाने के बाद विकास मिश्र का तबादला लखनऊ से गोरखपुर कर दिया गया था।

तन्वी के पति अनस सिद्दीकी ने मीडिया से कहा था कि उनसे धर्म बदलने और फेरे लेने के लिए कहा गया था।

तन्वी ने सुषमा स्वराज को टैग करते हुए ट्वीट किया, जिसके बाद पासपोर्ट कार्यालय ने त्वरित कार्रवाई करते हुए उन्हें पासपोर्ट जारी कर दिया।

विवादों में फंसे पासपोर्ट कार्यालय के अधिकारी विकास मिश्र ने इसके बाद अपनी सफ़ाई में मीडिया से कहा था, "मैंने तन्वी सेठ से निकाहनामे में दर्ज नाम सादिया अनस लिखवाने के लिए कहा था लेकिन उन्होंने इनकार कर दिया। हमें कड़ी जांच करनी होती है ताकि हम ये सुनिश्चित कर सकें कि कोई नाम बदलवाकर तो पासपोर्ट हासिल नहीं कर रहा है।"

सोशल मीडिया पर बेहद सक्रिय सुषमा स्वराज के फ़ेसबुक पेज से जहां क़रीब तीस लाख लोग जुड़े हैं वहीं ट्विटर पर उन्हें लगभग एक करोड़ 18 लाख लोग फॉलो करते हैं।

सुषमा स्वराज ट्विटर के ज़रिए आम लोगों की समस्या सुलझाने के लिए चर्चा में रही हैं। इस प्रयास के लिए उनकी सरहाना भी खूब होती रही है। परेशान लोग सुषमा को टैग करते हुए अपनी परेशानियों के बारे में लिखते हैं और वो अक्सर कार्रवाई भी करती हैं।
Reactions:

टिप्पणी पोस्ट करें

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget