गंगा कटान और उच्च शिक्षा को लेकर राज्यपाल से मिला प्रतिनिधिमंडल।

गंगा कटान और उच्च शिक्षा को लेकर राज्यपाल से मिला प्रतिनिधिमंडल।

अंजनी सिंह के नेतृत्व में विभिन्न समस्या को लेकर दिया पत्रक। 
धानापुर-चन्दौली।। जनपद सहित क्षेत्र के सबसे ज्वलंत मुद्दे को लेकर समाजसेवी अंजनी सिंह के नेतृत्व में ग्रामीणों का एक प्रतिनिधिमंडल गुरुवार को प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक से लखनऊ स्थित राजभवन में मुलाकात कर गंगा कटान और उच्च शिक्षा संबंधित मांग पत्र उन्हें सौंपा। राज्यपाल ने मांग पत्र को गंभीरता से लेते हुए संबंधित विभाग के जिम्मेदार को समुचित कार्यवाही करने का आदेश दिया। मांग पत्र में गंगा कटान से प्रभावित गांव सैफपुर, रामपुर दिया, हिँगुतर गढ़ ' नौघरा, रायपुर, नरौली, अमादपुर, बड़ौरा, कवलपुरा,प्रहलादपूर गुरैनी महुंजि प्रसाहता, तिरगावा बड़गावा बलूवा से कैली कुन्डा महरौरा तक गांव को बचाने के लिए सैफपूर नौघरा नरौली के बीच गंगा में पड़े भारी रेत के टीले को पूर्ण रूप से हटाने सैफपुर और कवालपुरा एवं गुरैनी के पास ठोकर और दीवाल बनाने की मांग किया। साथ ही गुरैनी पंप कैनाल जो कटान के चपेट में दम तोड़ रहा उसे बचाना। वही बन्धी प्रखंड द्वार प्रोजेक्ट तैयार के लिए डिटेल सर्वे हेतु विभाग को 21 लाख 95 हजार रुपये के मांग को स्वीकृत करने की मांग किया जिस पर राज्यपाल रामनाईक ने सिंचाई मंत्री को इस बाबत कार्यवाही करने का लिखित पत्र जारी किया। वहीं प्रतिनिधिमंडल ने शहीद हीरा सिंह राजकीय महाविद्यालय में एम एस सी की कक्षाएं शुरू कराने एवं महाविद्यालग में रिक्त पदों पर नियुक्ति की मांग पत्र भी सौंपा अंजनी सिंह ने पूरे जिले में किसी भी राजकीय महाविद्यालय में एम एस सी कि पढ़ाई न होने कि बात कही कहा कि शहीद हीरा सिंह महाविद्यालय मात्र इकलौता विद्यालय है जहां वर्ष 1999 से बी एस सी कि पढ़ाई हो रही है यंहा एम एस सी के लिये आधार भूत संरचना उपलब्ध है जिसे एम एस सी की मान्यता दिया जाय जिसपर राज्यपाल ने महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ के कुलपति को एम एस सी के मांगपत्र को स्वीकृत करने हेतु अग्रसारित किया। प्रतिनिधिमंडल में मुख्य रूप से अबुलकैश खान डब्बल, प्यारे यादव, बचाऊ सिंह, नवीन सिंह, प्रदीप, सलगु यादव रहे।

टिप्पणी पोस्ट करें

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget