हज के मुकद्दस सफ़र पर रवाना हुए जायरीन

हज


धानापुर-चन्दौली। हज इस्लाम के अहम फ़रीज़े में से एक है। इस्लाम धर्म के मानने वाले हर साल ईदुल अजहा (बकरीद) के मौक़े हज अदा करने मदीना के सफर पर जाते हैं। रविवार को कस्बा से हज यात्रा पर जाने वाले हाजियों का एक दल रवाना हुआ। इस दौरान बड़ी संख्या में लोगों ने पहुंच कर उन्हें विदा किया। यहां पहुंचे लोगों ने जब हज पर जाने वालों से मुलाकात कर अपने कहे सुने की माफी मांगी तो माहौल भावुक हो उठा, लोग जायरीनों से हाथ मिलाकर अपने लिए दुआ के लिए गुजारिश की साथ ही अपने लिए हज की दुआ की गुजारिश की। माहौल नारे तकबीर अल्लाह हुअकबर, हज बैतुल्लाह मुबारक हो, अल मदीना चल मदीना, असज नहीं तो कल मदीना जैसे नारों से गुंजायमान हो उठा।

जायरीनों में कस्बा निवासी सरफराज खान उनकी पत्नी दिलशाद बेगम, मास्टर इबरार खान उनकी पत्नी आबिद बेगम, बाजार निवासी एहसान अंसारी उनकी माता हमीरा बेगम हज के मुक़दस्स सफर के लिए रवाना हुए। 


इस दौरान लोगों ने एक तरह खुद के लिए दुआ की दरख्वात की तो दूसरी तरफ मुल्क की खुशहाली के लिए जायरीनों से दुआ की अपील किया। इस दौरान हाजी मकसूद खान, हाजी जब्बार खान, हाजी कुर्बान, नौशाद खान, शाह आलम, सरफराज खान, शहरे आलम, जिला पंचायत सदस्य राजेश यादव, प्राधान पति गुड्डू यादव, अशफाक खान, मंजूर खान, आतिफ खान ज़िद्दी, इम्तियाज अहमद, इरफान, रियाज खान सहित भारी संख्या में लोग मौजूद रहे।
Reactions:

टिप्पणी पोस्ट करें

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget