वाराणसी - आजाद के 112वी जयंती अधिवक्ताओ व वादकारियो ने धूमधाम से मनाई

वाराणसी,अमर शहीद चन्द्रशेखर आजाद

  • दस फीट उची व चार फुट उची आजाद की कट आउट लेकर निकाला कैण्डल मार्च
  • चन्द्रशेखर आजाद अमर रहे,जब तक सुरज चांद रहेगा आजाद आपका नाम रहेगा,आजाद आपकी यह कुर्बानी याद रखेगे हिन्दुस्तानी,भारतमाता की जय ,वन्दे मातरम के नारो से गुंजी कचहरी।

वाराणसी(उत्तर प्रदेश)।। बनारस कचहरी मे जिस बालक चन्द्रशेखर को पन्द्रह कोङे मारने का फरमान सुनाया गया था, उसी कचहरी में चन्द्रशेखर आजाद अमर के गगनभेदी नारो से गुंज उठा। 

मौका था अमर शहीद चन्द्रशेखर आजाद के 112वी जयंती का।बनारस बार के सभागार से चलकर अधिवक्ता गेट नम्बर तीन पर पहुचे ,उनके हाथो मे मोमबत्तिया थी ,बनारस बार के महामंत्री रजनीश मिश्रा,पुर्व महामंत्री नित्यानन्द राय ने आजाद दस फुट ऊचा ओर चार फुट चौङा कट आउट ले रखा था। गेट नम्बर तीन पर पहुच कर जुलुस सभा मे बदल गयी अधिवक्ता और वादकारीयो ने मोमबत्ती जलाकर और गुलाब की पंखुङिया अर्पित कर आजाद को याद किया। 

मोमबत्ती जलाने वालो मे बनारस बार अध्यक्ष नरेन्द्र वास्तव,महामंत्री रजनीश मिश्रा, पुर्व महामंत्री नित्यानन्द राय,विनोद शुक्ला,अरूण सिंह झप्पु,बृजेश मिश्रा,अजय बरनवाल,अखिलेश पांडेय,सत्येन्द्र सिन्हा,सुर्य प्रकाश, कन्हैलाल पटेल,हजारी बी पी शुक्ला,विनय नारायन चतुर्वेदी,, राजेश मिश्रा,विरेन्द्र सिंह,शिवम उपाध्याय, बद्री पाण्डेय, अंकुर पटेल, विपिन पाठक प्रमुख थे।

इस मौके पर नित्यानन्द राय के प्रस्ताव को सर्व सम्मत से पास कर दिया गया जिसमे केन्द्र सरकार व राज्य सरकार से मांग की गयी है। 
  1. बनारस कचहरी की जिस अदालत मे पन्द्रह कोङे मारने की सजा सुनायी गयी थी उस चिन्हित कर संरक्षित किया जाय।
  2. बनारस कचहरी से सेन्ट्रल जेल तक के मार्ग का नामकरण आजाद के नाम पर किया जाय।
  3. आजाद की कर्मभुमि रही बनारस मे एक घाट का निर्माण आजाद के नाम पर किया जाय। 

नित्यानन्द राय ने कहा की आजाद अपने संगठन की गुप्त बैठक घाटो पर अक्सर किया करते थे,बनारस बार के महामंत्री रजनीश मिश्रा ने कहा कि नित्यानन्द राय के प्रस्ताव को बनारस बार आगे बढायेगा।
Reactions:

टिप्पणी पोस्ट करें

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget