मतदाओं को शराब-पैसा बांटने के मामले में सीएम शिवराज और विधायक विजयवर्गीय को नोटिस

सीएम शिवराज,मध्यप्रदेश


इंदौर।सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को मप्र विधानसभा चुनाव 2013 को लेकर कांग्रेस के अंतर सिंह दरबार द्वारा दायर एक याचिका पर मप्र के सीएम शिवराजसिंह चौहान, बीजेपी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय सहित अन्य से 4 सप्ताह में जवाब मांगा हैं।

दैनिक भाष्कर के अनुसार यह याचिका इंदौर के महू विस सीट से कांग्रेस के प्रत्याशी अंतरसिंह दरबार द्वारा दायर की गई थी। दरबार ने चुनाव के दौरान जनता को प्रलोभन दिए जाने के संबंध में सीएम और विजयवर्गीय सहित अन्य के खिलाफ मप्र हाईकोर्ट के इंदौर खंडपीठ में याचिका दायर की थी। 

हाईकोर्ट ने अंतरसिंह दरबार की याचिका पर फैसला सुनाते हुए कैलाश विजयवर्गीय की विधायकी बरकरार रहने के आदेश दिए थे। जिसके बाद दरबार सुप्रीम कोर्ट में हाईकोर्ट के फैसले को लेकर याचिका दायर की थी।

क्या है पूरा मामला

2013 मप्र के महू विस क्षेत्र से बीजेपी की ओर से चुनाव लड़ा था। उनके विपक्ष में में कांग्रेस ने अंतरसिंह दरबार को चुनाव मैदान में उतारा था। चुनाव में विजयवर्गीय की जीत हुई थी, जिसके बाद दरबार ने यह करते हुए इस जीत को 20 जनवरी 2014 को विजयवर्गीय के खिलाफ हाईकोर्ट में चुनौती दी थी कि सीएम और विजयवर्गीय ने वोटरों को चुनाव के दौरान प्रलोभन दिया था।

चार मुद्दों को लेकर दायर की थी याचिका


  • एक कार्यक्रम के दौरान विजयवर्गीय द्वारा मंच पर मेडल और ट्रॉफी बांटना।
  • पेंशनपुरा में चुनाव प्रचार के दौरान आरती के बाद महिलाओं को नोट बांटना।
  • चुनाव के दौरान वोटरों को शराब बांटना।
  • सीएम शिवराज सिंह चौहान द्वारा मंच से मेट्रो को महू तक लाने और गरीबों को पट्टे देने की घोषणा करना।
  • यह फैलसा दिया था होईकोर्ट ने

करीब साढ़े तीन साल चली सुनवाई में 100 से भी ज्यादा तारीख लगी, जिसमें 91 पेशियां हुईं, जहां याचिकाकर्ता ने 75 दस्तावेज सहित 5 सीडी कोर्ट में पेश की थी। नवंबर 2017 में कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए विजयर्गीय की विधायकी बरकरार रखी थी। कोर्ट ने कहा था कि याचिकाकर्ता द्वारा लगाए गए आरोप सिद्ध नहीं हो पाए। हाईकोर्ट से आए फैसले के बाद अंतरसिंह दरबार ने सुप्रीम कोर्ट की राह पकड़ी थी।

दरबार की ओर से 21 और विजयवर्गीय की ओर से 15 के हुए थे बयान

हाईकोर्ट में याचिका की सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ता अंतरसिंह दरबार की ओर से 21 गवाहों ने अपने बयान दर्ज करवाए थे, जबकि कैलाश विजयवर्गीय की ओर से 15 लोग पहुंचे थे।
Labels:
Reactions:

टिप्पणी पोस्ट करें

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget