स्वतंत्रता दिवस की सार्थकता

Independence2018,स्वतंत्रता दिवस विशेष,



कवि राजेश पुरोहित


भारत को ब्रिटिश सरकार से छुटकारा दिलाने के लिए कई क्रांतिकारियों ने अपने प्राण न्योछावर कर दिए तब जाकर हमारा देश आजाद हुआ। 1857 के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम में तांत्या तोपे, झांसी की रानी लक्ष्मी बाई ने अपने प्राणों की बाज़ी लगा दी थी। आज़ादी की लड़ाई देश के इतिहास का अहम हिस्सा है। 15 अगस्त 1947 को भारत आज़ाद हुआ। सरदार भगत सिंह,चन्द्रशेखर आज़ाद, सुभाषचन्द्र बोस,मंगल पांडे,अशफाक उल्ला खां ,लाला लाजपतराय ,विपिन चन्द्र पाल,बाल गंगाधर तिलक जैसे वीरों ने अंग्रेजी सरकार के छक्के छुड़ा दिए थे। उन्होंने स्वतंत्रता के लिए अपनी जिंदगी कुर्बान कर दी। 

15 अगस्त को हम सब भारतीयों का कर्तव्य है कि हम उन अमर शहीदों के बारे में विद्यालयों महाविद्यालयों में अधिक से अधिक जानकारी दे। सैंकड़ों फांसी के फंदे पर झूल गए उनकी जानकारी दें। कईं क्रांतिकारियों देश भक्तों ने काले पानी की सजा भुगती। बहुत से क्रांतिकारियों ने अंग्रेजों की यातनाएं सही लाठियाँ खाई। बडे बर्बरता से अंग्रेज पेश आते थे वह अपमान सहा। शोषण,अत्याचार सहे सिर्फ भारत को गुलामी से आज़ाद कराने के लिए । आइए हम उन वीर शहीदों के बारे में जन जन को बताएं। 

आज़ादी के लिए आम जनता ने उस समय अपने निजी स्वार्थों के त्याग किया। महात्मा गांधी के साथ आज़ादी की लड़ाई में लग गए। 

अहिंसा के बल पर गांधी जी ने आज़ादी दिला दी। 

दे दी हमें आज़ादी खड्ग बिना ढाल। 

साबरमती के संत तूने कर दिया कमाल।। 

गोरे भी गाँधीजी से बहुत प्रभावित हुए। असहयोग आंदोलन,दांडी मार्च ये सब गाँधीजी ने किए। सभी को न्याय दिलाया। 

गांधी जी एक प्यारा गीत बोलते थे जो दिव्य संदेश देता है। 

वैष्णव जन तो तेने कहिए 

जो पीर पराई जाने रे.... 

गाँधीजी ने परहित करना सिखाया। हमेशा दुसरो की पहले सोचो। दुसरो को सुख दो तभी तुम सुखी रहोगे। आज हम दूसरों की नहीं खुद की भलाई में लगे हैं। ये अंधी दौड़ है। 

आज़ादी के इतने साल बाद भी हम गरीबी बेरोजगारी आर्थिक पिछड़ापन बेकारी के साथ ही भुखमरी जैसी समस्याओं से दुखी है। इन सबसे छुटकारा पाने के लिए एक दूसरे की गुलामी कर रहे हैं। आज आतंक की समस्या। मजहबी जंग आदिे देश की प्रमुख समस्या है। 

वन्दे मातरम,भारत माता की जय,जय हिन्द ये नारे क्रांतिकारियों के साथ हर पल रहते थे। 

कर चले हम फिदा जाने तन साथियों 

अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों 

आज़ाद भारत मे डॉक्टर कलाम ने हमें विकसित देश बनाने के लिए जो विजन दिया है उसी अनुसार काम मे लग जाएं तभी हमारा स्वाधीनता दिवस मनाने की सार्थकता है।

Post a Comment

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget