केरल - मछली बेचकर पढ़ाई कर रही हैं हन्नान हामिद,बाढ़ पीड़ितों को दी जीवन भर की कमाई

हन्नान हामिद,केरल बाढ़ पीड़ितों

 हन्नान हामिद
नई दिल्ली।।केरल में मछली बेचकर पढ़ाई का खर्च उठाने वाली 21 वर्षीय हन्नान हामिद एक बार फिर से सुर्खियों में हैं। उन्होंने केरल में बाढ़ पीडितों की सहायता के लिए अपना हाथ बढ़ाया है। सरकार और बॉलीवुड की दिग्गज हस्तियों से लेकर हर कोई बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए आगे आ रहा है और केरल सरकार के राहत कोष में पैसे दे रहा है।मछली बेचकर पढ़ाई और घर का खर्च उठाने वाली हनान ने बाढ़ रिलीफ फंड में डेढ़ लाख रुपए दिए हैं।

कॉलेज यूनीफॉर्म में मछली बेचने का वीडियो सामने आने के बाद हनान चर्चा में आई थी। सोशल मीडिया पर ट्रोल होने पर हन्नान को सरकार के साथ ही कई लोगों का साथ और आर्थिक मदद मिली थी। त्रिशूर की रहने वाली 21 वर्षीय हनान हामिद ने कहा, मुझे लोगों से जो मिला मैं वही वापस कर रही हूं। क्योंकि जिन लोगों ने मेरी मदद की वो आज बाढ़ की समस्या से जूझ रहे हैं। उनकी मदद के लिए मैं इतना कर सकती हूं। हनान हामिद तोडुपुज़ा के अल अज़हर कॉलेज के बीएससी थर्ड ईयर की छात्रा है। हनान कॉलेज के बाद मछली बेचकर अपनी पढ़ाई का खर्च उठाती है। साथ ही इसी कमाई से वो अपनी मां और भाई का खर्च भी उठाती है।

हन्नान ने बताया जुलाई में सोशल मीडिया पर ट्रोल होने के बाद से लोग उसकी मदद के लिए आगे आने लगे थे। ट्रोलिंग के दूसरे दिन से मेरे अकाउंट में 500 से लेकर 2000 रुपए तक आए। इस तरह पूरे डेढ़ लाख रुपए इकट्ठा हो गए। जिन लोगों ने मेरी मदद की अब वे लोग बहुत बड़े नुकसान का सामना कर रहे हैं, इसलिए मैं उनके पैसे वापस करना चाहती हूं। फिलहाल हनान बाढ़ प्रभावित क्षेत्र कोठामंगलम टाउन के एक अस्पताल में रह रही है। हनान की मां को रिश्तेदारों के घर पर रखा गया है जबकि हनान का भाई बोर्डिंग स्कूल में रह रहा है।

केरल में बीएससी फाईनल ईयर की छात्रा हनान हामिद ने डेढ़ लाख रुपये मुख्यमंत्री राहत कोष में जमा किये हैं। हनान अपनी पढ़ाई मछली बेचकर करती हैं। इसी पैसे से वो अपनी माँ और भाई का खर्चा भी चलाती हैं। आज उन्होंने मछली बेचने से हुई अपनी सारी कमाई बाढ़ पीड़ितों की मदत के लिए दान कर दी है। हनान इस काम को लेकर काफी चर्चा में हैं।

पर इससे पहले हनान तब चर्चा में आयी थीं जब उन्हें मछली बेचने के लिए ट्रोल किया गया था। लोगों को हन्नान की यह बात नागवार गुजरी थी कि वह स्कूल ड्रेस में मछली बेचती हैं। लोगों ने उन्हें ट्रोल करते हुए झूठा और कहानियां बनाने वाला कहा, उनकी सार्वजनिक तौर पर निंदा की और उन्हें गालियां दीं थीं।

बाद में केरल सरकार के केंद्रीय मंत्री अल्फोंस कन्नाथनम ने ट्रोल्स का कड़ा विरोध किया और बताया कि हन्नान का जीवन काफी संघर्षपूर्ण रहा है और वो बहुत मुश्किल से गुजर बसर करती हैं। उनके जीवन संघर्ष से जुड़ी बातें झूठ नहीं बल्कि सच हैं। उसी समय केरल में ऐसे बहुत से भले लोग सामने आये जिन्होंने हनान की खुलकर मदत की।

आज त्रिशूर की रहने वाली 21 वर्षीय हन्नान हामिद ने पैसे डोनेट वक्त कहा कि ” मुझे लोगों से जो मिला मैं वही वापस कर रही हूं। क्योंकि जिन लोगों ने मेरी मदद की वो आज बाढ़ की समस्या से जूझ रहे हैं। इसलिए उनकी मदद के लिए मैं इतना तो कर ही सकती हूं ”


इधर उत्तर भारत में हालत ये है कि बाढ़ पीड़ितों को लेकर समाज का एक वर्ग जश्न मना रहा है। पीड़ितों के बीच हिन्दू- मुसलमान और दलित सवर्ण का भेद कर रहा है। मदत करने की बजाय उत्तर-दक्षिण और भाजपा-गैरभाजपा शासित राज्य का बंटवारा करने की राजनीति कर रहा है।

ऐसे समय में हन्नान  जैसी लड़कियां हमारे निर्मम और अमानवीय होते जा रहे समाज में भलाई और मानवता की उम्मीद हैं। ऐसे इंसानों के दम पर ही इस समाज में अभी तक मानवता कायम है। हनान को दिल से सलाम! उनको भी सलाम जो इस नफरत के दौर में बगैर किसी भेदभाव के मदत के लिए आगे आ रहे हैं।
Reactions:

Post a Comment

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget