चलो चलें माज़ी की ओर

चलो चलें माज़ी की ओर



सगीर ए खाकसार
वरिष्ठ पत्रकार,उर्जांचल टाइगर

इटवा,सिद्धार्थ नगर,12 अगस्त।"देश की आज़ादी व तरक़्क़ी में शैखुल हिन्द मौलाना महमुदुल हसन देवबंदी का योगदान "विषयक संगोष्ठी का आयोजन आज इटवा में किया गया।संगोष्ठी में उपस्थित वक्ताओं ने शेखुल हिन्द के व्यक्तित्व व कृतित्व पर प्रकाश डालते हुए उन्हें महान स्वतंत्रता सेनानी बताया।गोष्ठी का आयोजन रफ्तार वेलफेयर सोसाइटी के दुआरा किया गया था।जिसके संयोजक काज़ी इमरान लतीफ रहे।अध्यक्षता मौलाना मोहम्मद आसिफ कासमी आज़मी ने तथा संचालन वरिष्ठ पत्रकार सगीर ए खाकसार ने किया।

पूर्व विधान सभा अध्यक्ष माता प्रसाद पांडेय ने बतौर मुख्य अतिथि अपने संबोधन में कहा कि मौलाना साहिब को अंग्रेजों ने तरह तरह की यातनाएं दीं लेकिन वो आज़ादी की लड़ाई हेतु आजीवन संघर्ष करते रहे।श्री पांडेय ने कहा कि रेशमी रुमाल तहरीक की शुरुआत 1916 में मौलाना साहिब ने की थी।मौलाना की शिक्षाओं और संघर्षो से हम सबको सबक लेनी चाहिए।

बतौर विशिष्ट अतिथि मोहम्मद जमील सिद्दीकी ने कहा कि मौलाना ने 1905 में ही योजना बना कर आज़ादी की लड़ाई शुरू कर दी थी।वो देवबंद के पहले छात्र थे बाद में प्रधानचार्य भी हुए।उन्होंने अपने साथियों और शिष्यों को जोड़कर आज़ादी की लड़ाई लड़ी।श्री सिद्दीकी ने कहा कि देश की आज़ादी में मुस्लिम उलेमाओं का अहम रोल रहा है।अंग्रेजों ने आज़ादी लड़ाई में शामिल हज़ारों उलेमाओं को फांसी पर लटका दिया था।

रफी मेमोरियल इंटर कालेज के प्रधानाचार्य अहमद फरीद अब्बासी ने कहा कि वो एकता के सिद्धांत के पक्षधर थे।उनका जन्म 1851 में बरेली में एक इल्मी खानदान में हुआ था।उन्होंने 1878 में अंजुमन समरतुत तरतीब का गठन किया।1909 जमीयतुल अंसार की बुनियाद डाली।1916 में तहरीक ए रेशमी रुमाल के ज़रिए अंग्रेजों के दांत खट्टे कर दिए। 

पत्रकार सगीर ए खाकसार ने कहा कि मौलाना साहिब को जेल में आग की सलाखों से दागा जाता था।बहुत दर्दनाक यातनाएं दी जाती थीं।अंग्रेज़ उनसे कहते थे कि अंग्रेज़ी सरकार की हिमायत में फतवा देदो ,तो तुम्हे हम आजाद करदेंगें।लेकिन वो अंग्रेजों के सामने नहीं झुके करीब तीन साल 19 दिन की काला पानी की सज़ा काटी।जब वो जेल से रिहा हुए तो गांधी जी ने उनका स्वागत किया।

संयोजक क़ाज़ी इमरान लतीफ ने आये हुए आगंतुकों का धन्यबाद ज्ञापित किया।गोष्ठी को जमील खान,जावेद हयात,मौलाना शब्बीर मदनी,तनवीर कासमी,नसीम जाहिद,इसरार फारूकी, डॉ प्रकाश श्रीवास्तव,आदि ने भी संबोधित किया।शिक्षा के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान हेतु मौलाना शब्बीर मदनी को सम्मनित भी किया गया।इस मौके पर क़ाज़ी फरीद, डॉ जमाल कुद्दुसी, साजिद मालिक,सुहेल वहीद,आदि की उपस्थित उल्लेखनीय रही।
Labels:
Reactions:

Post a Comment

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget