AIMS जैसा हो जाएगा BHU अस्पताल,करोड़ों गरीब मरीजों को मिलेगा मुफ्त इलाज़

BHU


अजीत नारायण सिंह 
ब्यूरो,वाराणसी,उर्जांचल टाइगर

बीते शनिवार को बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी (बीएचयू) का चिकित्सा विज्ञान संस्थान के केएन उडप्पा सभागार में केंद्रीय मानव संसाधन एवं विकास और स्वास्थ्य मंत्रालय के बीच समझौता पत्र हस्तांतरित किए गए। इसके बाद बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी (बीएचयू) का चिकित्सा विज्ञान संस्थान आधिकारिक रूप से स्वास्थ्य मंत्रालय के अधीन हो गया।

पूर्वांचल,बिहार, मध्य प्रदेश, झारखंड, पश्चिम बंगाल, ओडिसा सहित कई राज्यों की करीब 20 करोड़ आबादी को अब मुफ्त चिकित्सा सुविधा मिलेगा। साथ ही चिकित्सा क्षेत्र में बेहतर शोध एवं शिक्षा का विस्तार होगा।

बीएचयू अस्पताल में आने वाले दूरदराज से आने वाले गरीब मरीजों को मुफ्त में जांच व चिकित्सा सेवा मिले,यह शुरू से प्रधानमंत्री के प्राथमिकता में रही है। उन्हीं की पहल पर पिछले दो वर्षों से यह कवायद तेज हो गई। नवागत कुलपति प्रो. राकेश भटनागर ने भी इस ओर सकरात्मका और महत्वपूर्ण कदम आगे बढाए। इस सोंच को अमली जामा पहनाने के लिए पांच, आठ, 13 व 14 जून को बैठक हुई थी। इसके बाद 19 जून को दोनों मंत्रालयों के साथ ही बीएचयू और नीति आयोग की ओर से समझौते पर नई दिल्ली में हस्ताक्षर किया गया। जिसमें BHU से निदेशक प्रो. वीके शुक्ला व पूर्व चिकित्सा अधीक्षक डा. ओपी उपाध्याय भी शामिल हुए थे।
अपने उदबोधन में केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री श्री प्रकाश जावडे़कर ने कहा कि चिकित्सा विज्ञान संस्थान, अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान के रुप में उच्चीकृत करने का सपना गत दो वर्षो के प्रयास के बाद साकार हुआ है। उन्होंने कहा कि आई.एम.एस. एम्स बनेगा और बीएचयू का ही रहेगा। यह एम्स से थोड़ा बड़ा ही होगा। इस संस्थान को धन की कभी कमी नहीं आने दी जाएगी स्टाफ भी बढ़ेगा, संसाधन एवं सुविधाए भी बढ़ेगी। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी द्वारा किये गये विकास के कई कार्यों में से एम्स के समतुल्य उच्चीकृत किया जाना भी बड़ा कार्य है। इससे स्वास्थ्य सुबिधायें सुधरेंगी तथा गरीबों को इसका सीधा लाभ मिलेगा। 


केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री, श्री जे0पी0 नड्डा ने कहा कि अब विश्व पटल पर भारत की स्वास्थ्य सेवाओं को विश्व के बडे़ कार्यक्रमों के रुप में जाना जाता है। इसकी अवसंरचना की जिम्मेदारी स्वास्थ्य मंत्रालय की होगी जबकि पैरामीटर को सपोर्ट करने का कार्य मानव संसाधन विकास मंत्रालय का होगा। धन एवं अवसंरचनात्मक व्यवस्था की जायेगी। उन्होंने कहा कि आई.एम.एस. को एम्स बना दिया गया है। इससे जनसंख्या का बड़ा वर्ग लाभान्वित होगा। इस अवसर पर केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय के संयुक्त सचिव श्री गिरीश सी0 होसुर एवं स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव श्री सुनील शर्मा ने सहमति पत्र का आदान प्रदान किया।

देश का सिस्टम पूरी तरह से सिक्योर है-मनोज सिन्‍हा 

केंद्रीय संचार राज्‍य मंत्री (स्‍वतंत्र प्रभार) मनोज सिन्‍हा ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि आई.एम.एस. बी.एच.यू. एम्स के समतुल्य नहीं बल्कि उससे बेहतर बना कर मालवीय जी के सपनों को साकार करने का प्रयास किया जा रहा हैं। आए दिन विश्वविद्यालय चिकित्सालय में छात्र विवाद की स्थिति बना कर हंगामा खड़ाकर चिकित्सालय के कार्यो में बाधा बन जाते हैं उन्हें समझाना होगा कि उनके इस कार्य से दूर-दराज से आए मरीज एवं उनके परिजन को कितनी पीड़ा पहुचती हैं।

काशी हिन्दू विश्वविद्यालय चिकित्सा विज्ञान संस्थान को अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान के समतुल्य उच्चीकृत करने के परिप्रेक्ष्य मे भाग लेने के लिए वाराणसी के बाबतपुर एयरपोर्ट पहुंचे शनिवार को केंद्रीय संचार राज्‍य मंत्री (स्‍वतंत्र प्रभार) मनोज सिन्‍हा ने बताया कि आधार हेल्पलाइन का नंबर दिखने की रिपोर्ट्स पर यू.आई.डी.ए.आई. की ओर से शुक्रवार को बयान जारी हो गया है। मोबाइल यूजर्स की प्राइवेसी पर खतरा बताते हुए विपक्ष ने इसे सरकारी की ओर से ‘जासूसी’ बताया गया है। वहीं श्री सिन्‍हा ने विपक्ष के आरोपों को सिरे से नकार दिया है। वही यू.आई.डी.ए.आई. के मामले पर स्‍पष्‍ट किया कि गूगल की ओर से स्‍पष्‍टिकरण दिया गया है। उन्‍होंने बताया कि इस मामले में किसी भी टेलीकॉम प्रोवाइडर कंपनी का कोई रोल नहीं है। यू.आई.डी.ए.आई. ने भी स्पष्टीकरण दे दिया है।

केंद्रीय संचार राज्‍य मंत्री से जब पूछा गया कि विपक्ष आरोप लगा रहा है कि मोदी सरकार लोगों की जासूसी करा रही है तो उन्‍होंने कहा कि आपको चिंता करने की जरूरत नहीं है, देश का सिस्टम पूरी तरह से सिक्योर है किसी को भी चिंता करने की जरूरत नहीं है। 

कार्यक्रम में एम्स नई दिल्ली के निदेशक प्रो0 आर0 गुलेरिया भी मंचासीन थे। कार्यक्रम का संचालन प्रो0 संगीता पण्डित एवं धन्यवाद ज्ञापन मेडिसीन संकाय के डीन प्रो0 श्याम सुन्दर अग्रवाल ने किया।
Reactions:

Post a Comment

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget