सोनभद्र-अंग्रेजी स्कूली बच्चों को मालपुआ ,भूखे आदिवासी बच्चों को लाठी

सोनभद्र समाचार


  • राजकीय आश्रम पद्धति के भूखे बच्चों पर पुलिस ने बरसाई लाठी
  • पुलिस के इस रवैये से कई छात्रों के सिर में चोट आयी है।

नौशाद अन्सारी
ब्यूरो सोनभद्र, उर्जान्चल टाइगर 
सोनभद्र।अंग्रेजी स्कूली बच्चों को मालपुआ भूखे आदिवासी बच्चों को लाठी ने आज जिला प्रशासन एवं सरकार की कलई खोल दी।सोनभद्र में आज मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ दौरे के दौरान जहां एक तरफ प्राथमिक विद्यालय और आंगनबाड़ी केन्द्र का निरीक्षण कर शिक्षा की गुणवत्ता को परखेंगे तो वही दूसरी तरफ भ्र्ष्टाचार की भेंट चढ़ रही पंडित दीनदयाल उपाध्याय राजकीय आश्रम पद्धति के छात्रों ने ठेकेदार द्वारा मीनू के अनुसार खाना नही देने पर आज सुबह चोपन थाना क्षेत्र के ज्वारीडाड में वाराणसी शक्तिनगर मार्ग को जाम कर दिया। मौके पर पहुची पुलिस ने घण्टो छात्रों से मानमनौव्वल के बाद भी नतीजा न निकला तो पुलिस ने लाठी भांज कर जाम को खत्म कराया । 

पुलिस के इस रवैये से कई छात्रों के सिर में चोट आयी है इस दौरान छात्रों का कहना है कि वह मीनू के अनुसार खाना नही मिलने से दो दिन से खाना नही खाये है जिस पर चक्का जाम किया और पुलिस ने लाठी भांजा है जिसमे कई लड़को का सर फूटा है। ठेकेदार द्वारा मीनू के अनुसार खाना नही देने की बात आश्रम पद्धति विद्यालय के कर्मचारी स्वीकारते है जो बताते है कि बच्चो ने कल शाम से खाना नही खाया है।

गौर तलब है कि सूबे में भाजपा सरकार बनने के बाद पंडित दीनदयाल उपाध्याय शताब्दी वर्ष मनाया गया और कई भवन व योजनाओं का नाम बदलकर संचालित किया जा रहा है । सरकार द्वारा नाम बदलने से विद्यालयों की स्थिति में कोई सुधार नही हुआ है। आज सोनभद्र में मुख्यमंत्री के दौरे पर चोपन थाना इलाके के जवारीडाड में पंडित दीनदयाल उपाध्याय राजकीय आश्रम पद्धति विद्यालय के लगभग 350 छात्रों ने वाराणसी शक्तिनगर मार्ग को मीनू के अनुसार खाना नही मिलने पर सड़क को जाम कर दिया। पंडित दीनदयाल आश्रम पद्धति विद्यालय के बच्चों ने खाना न मिलने पर नाराज होकर हाथों में थाली लेकर वाराणसी शक्तिनगर राजमार्ग को जाम कर दिया और विरोध प्रदर्शन करने लगे। सूचना के बाद मौके पर चोपन पुलिस पहुचकर छात्रों को समझाने का प्रयास किया लेकिन छात्र मानने को तैयार नही हुए तो लाठीचार्ज करके जाम को खत्म कराया। 

वही प्रदर्शन कर रहे छात्रों ने आरोप लगाते हुये कहा के विद्यालय में खाना नही मिल रहा है और अध्यापक छात्रों से गाली गलौज भी करते है । पुलिस ने लाठी चार्ज कर दिया है जिसमे कई लडको के सिर में चोट आई है। कई लड़के तो दो दिन से खाना नही खाये है।वही आश्रम पद्धति विद्यालय में मीनू के अनुसार खाना नही मिलने की बात वहाँ कर्मचारी भी स्वीकारते है । उनका कहना है कि ठेकेदार द्वारा खाना नही देने पर जाम लगाए है जो कल शाम से खाना नही खाये है। बताते चलें कि पहली बार ऐसा नहीं हुआ है इसके पहले भी कई बार जवारीडाड आश्रम पद्धति के बच्चों ने खराब भोजन को लेकर बाल्टी और थाली लेकर सड़कों पर प्रदर्शन किया है इसके बावजूद भी व्यवस्था सुधरने का नाम नहीं ले रही है ।

यह आदिवासी बच्चे दूर दराज से पढ़ने के लिये आये हुए हैं और आश्रम पद्धति विद्यालय पर ही रहकर अपनी पढ़ाई पूरी करते हैं लेकिन जब उनको अच्छे भोजन की व्यवस्था नहीं हो पाएगी तो आखिर में बच्ची क्या करेंगे। ऐसे में जिला प्रशासन की जिम्मेदारी बनती है कि जो भी दोषी व्यक्ति हो उनके खिलाफ कठोर से कठोर कार्रवाई करते हुए बच्चों को उचित भोजन की व्यवस्था कराई जाए ताकि बच्चे मन लगाकर पढ़ाई करें और देश के भविष्य निर्माण में अपना सहयोग करें।
Labels:
Reactions:

Post a Comment

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget