#Rafale deal -प्रधानमंत्री ने भारत के साथ विश्वासघात किया है। - राहुल गांधी

#Rafale deal


रफ़ाएल लड़ाकू विमानों को लेकर भारत और फ़्रांस के बीच हुए समझौते पर फ़्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद के एक बयान के बाद हुए शुरू विवाद के बीच फ़्रांस के विदेश मंत्रालय ने एक बयान जारी किया है।

इस बयान में कहा गया है कि फ़्रांस की सरकार 'भारतीय पार्टनरों के चयन में किसी तरह शामिल नहीं' है।

जारी बयान के अनुसार "फ्रांस सरकार किसी भी तरह भारतीय साझेदार के चुनाव में शामिल नहीं है जिसका चयन फ्रेंच कंपनी ने किया है या कर रही है या करने वाली है। भारतीय ख़रीद प्रक्रिया के मुताबिक फ़्रांसीसी कंपनी को पूरी आजादी है कि वो जिस भी भारतीय साझेदार कंपनी को उपयुक्त समझे उसे चुने।फिर उन ऑफ़सेट प्रोजेक्ट की मंजूरी के लिए भारत सरकार के पास भेजे, जिसे वो भारत में अपने स्थानीय साझेदारों के साथ अमल में लाना चाहते हैं। ताकि वे इस समझौते की शर्तें पूरी कर सके।"

 पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद का कथित बयान

फ्रांसीसी मीडिया के मुताबिक पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद ने कथित तौर पर कहा है कि भारत सरकार ने 58,000 करोड़ रुपये के राफेल विमान सौदे में फ्रांस की विमान बनाने वाली कंपनी दसाल्ट एविएशन के ऑफसेट साझेदार के तौर पर रिलायंस डिफेंस का नाम प्रस्तावित किया था और ऐसे में फ्रांस के पास कोई विकल्प नहीं था।

फ्रांस्वा ओलांद के हवाले से किया गया यह दावा भारत सरकार के बयान  से उलट है। भारत सरकार कहती रही है कि फ़्रांसीसी कंपनी दसो एविएशन ने ख़ुद अनिल अंबानी की कंपनी रिलायंस डिफ़ेंस का चुनाव किया था।

प्रधानमंत्री ने भारत के साथ विश्वासघात किया है।-राहुल गांधी

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने आरोप लगाया, ‘‘प्रधानमंत्री ने बंद कमरे में राफेल सौदे को लेकर बातचीत की और इसे बदलवाया। फ्रांस्वा ओलांद का धन्यवाद कि अब हमें पता चला कि उन्होंने (मोदी) दिवालिया अनिल अंबानी को अरबों डॉलर का सौदा दिलवाया।’’ 

उन्होंने आगे कहा, ‘‘प्रधानमंत्री ने भारत के साथ विश्वासघात किया है। उन्होंने हमारे सैनिकों के लहू का अपमान किया है।’’
Labels:
Reactions:

टिप्पणी पोस्ट करें

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget