मुसलमान नहीं चाहिए कहने से हिंदुत्व नहीं रहेगा-मोहन भागवत

‘‘भविष्य का भारत..आरएसएस का दृष्टिकोण।’’


  • आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने कहा की संघ का मानना है कि संविधान की परिकल्पना के अनुसार सत्ता का केन्द्र होना चाहिए तथा यदि ऐसा नहीं है तो वह इसे गलत मानता है।
  • सम्मेलन के पहले दिन सोमवार को भागवत ने कहा कि आरएसएस प्रभुत्व नहीं चाहता तथा इसकी कोई परवाह नहीं है कि सत्ता में कौन आता है।


दिल्ली के विज्ञान भवन में आयोजित आरएसएस के तीन दिवसीय सम्मेलन ‘भविष्य का भारत..आरएसएस का दृष्टिकोण।’’ में दूसरे दिन भागवत ने इस टिप्पणी के जरिये आरएसएस के कामकाज और भाजपा के काम के बीच विभेद करने का प्रयास किया। भाजपा को वैचारिक तौर पर प्राय: संघ के साथ सम्बद्ध माना जाता है तथा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी सहित इसके कई शीर्ष नेताओं की आरएसएस पृष्टभूमि रही है।


उन्होंने भाजपा का नाम लिये बिना कहा कि ऐसी धारणा है कि आरएसएस किसी पार्टी विशेष के कामकाज में मुख्य भूमिका निभाता है क्योंकि उस संगठन में इसके बहुत सारे कार्यकर्ता हैं।

भागवत ने कहा, ‘‘हमने कभी स्वयंसेवक से किसी पार्टी विशेष के लिए काम करने को नहीं कहा। हमने उनसे राष्ट्रीय हित के लिए काम करने वालों का समर्थन करने को अवश्य कहा है। आरएसएस राजनीति से दूर रहता है किन्तु राष्ट्रीय हितों के मुद्दे पर उसका दृष्टिकोण है।’’

मुसलमान नहीं चाहिए कहने से हिंदुत्व नहीं रहेगा

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने हिंदुत्व के बारे में चर्चा करते हुए कहा कि वैदिक काल में हिंदू नाम का कोई धर्म नहीं था बल्कि सनातन धर्म हुआ करता था।

उनका कहना था कि आज जो कुछ हो रहा है वो धर्म नहीं है। "जिस दिन हम कहेंगे कि हमें मुसलमान नहीं चाहिए उस दिन हिंदुत्व नहीं रहेगा।"

उन्होंने शिक्षाविद्द सर सय्यद अहमद ख़ान का उद्धरण देते हुए कहा कि जब उन्होंने यानी ख़ान ने बैरिस्टर की पढ़ाई पूरी की तो लाहौर में आर्य समाज ने उनका अभिनंदन किया। आर्य समाज ने इसलिए अभिनन्दन किया था क्योंकि सर सय्यद अहमद ख़ान मुस्लिम समुदाय के पहले छात्र थे जिन्होंने बैरिस्टर बनने की पढ़ाई की थी।

भागवत बताते हैं, "उस समारोह में सर सय्यद अहमद ख़ान ने कहा कि मुझे दुःख है कि आप लोगों ने मुझे अपनों में शुमार नहीं किया।"

तीन दिवसीय सम्मेलन के तीसरे दिन यानी बुधवार को मोहन भागवत लोगों द्वारा पूछे गए सवालों का जवाब र देंगे। ये सवाल लिखित रूप से पूछे जा रहे हैं क्योंकि समारोह में आने वाले हर व्यक्ति को एक फ़ॉर्म दिया गया है जिसके ज़रिये वो अपने सवाल पूछ सकते हैं।
Labels:
Reactions:

Post a Comment

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget