स्वास्थ्य मंत्रालय की लापरवाही से देश का पोलियो सुरक्षा चक्र गंभीर खतरे में !

पढ़िए क्या पोलियो फिर लौट सकता है?


सरकार कह रही है कि इससे कोई खतरा नहीं है।लेकिन इसके बाद स्वयं अभी केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने तीनों राज्यों में पोलियो टीकाकरण को स्थगित कर दिया है,जिससे सरकारी पोलियो टीकाकरण खुद लकवाग्रस्त हो गया है।

राहुल लाल

सरकार का सार्वभौमिक पोलियो टीकाकरण वैक्सीन में ही पूरी दुनिया से समाप्त हो चुके खतरनाक टाइप-2 वायरस मिलने की पुष्टि हुई है।दूसरे शब्दों में स्वयं सरकार के टीकाकरण में त्रुटियाँ ही पोलियो की देश में पुनर्वापसी कर सकती है।वर्ष 2016 में पूरे दुनिया सहित भारत में भी पोलियो के टाइप-2 वायरस के लिए वैक्सीन बंद कर दी गई थी,क्योंकि संपू्र्ण दुनिया से टाइप-2 पोलियो वायरस का उन्मूलन हो चुका था। लेकिन टाइप-1और टाइप-3 के लिए टीकाकरण जारी रखा गया,क्योंकि पाकिस्तान और अफगानिस्तान में अब भी टाइप-1और टाइप-3 पोलियो वायरस पाए जा रहे हैं।

भारत में सभी कंपनियों को 25 अप्रैल 2016 तक टाइप-2 पोलियो वायरस वाली वैक्सीन को नष्ट कर देना था।परंतु गाजियाबाद के एक कंपनी ने उक्त तिथि तक अपने टाइप-2 पोलियो वायरस वाले वैक्सीन को पहले बंद नहीं किया और अब तक सरकारी पोलियो टीकाकरण अभियान में प्रतिबंधित वैक्सीन की आपूर्ति करते रही।अब उस कंपनी के प्रतिबंधित टीके में टाइप-2 पोलियो वायरस मिलने से तीन राज्यों महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश तथा तेलंगाना में बच्चों पर पोलियो के खतरा में वृद्धि हो गई है तथा पोलियो सुरक्षा चक्र में गंभीर खतरा भी उत्पन्न हो गया है।इस संपूर्ण प्रक्रम में भारतीय स्वास्थ्य तंत्र की गंभीर खामियाँ स्पष्टतः दिख रही है।

यह संपूर्ण मामला काफी तकनीकी प्रवृति का है,जिसे मैंने विस्तार से समझाया है।पोलियो वायरस काफी संक्रमणशील है।ऐसे में पोलियो वैक्सीन में खतरनाक टाइप -2 के वाइल्ड वायरस उपस्थिति से उत्पन्न संकट को समझा जा सकता है।पोलियो में सरकार अत्यंत संवेदनशील पोलियो सर्विलांस की बात करती है।ऐसे में लगातार 2 वर्षों तक बच्चों को प्रतिबंधित वैक्सीन पिलाई गई और किसी को पता भी नहीं लगा।स्पष्ट है कि भारतीय सार्वभौमिक टीकाकरण कार्यक्रम गंभीर चुनौतियाँ से जूझ रहा है।स्वास्थ्य मंत्रालय पोलियो टीकाकरण में हुए इस भयानक लापरवाही को छुपाने के स्थान पर जिम्मेदार लोगों पर कठोर कार्यवाई करें तथा पोलियो सुरक्षा चक्र को पुनः मजबूत बनाएँ अन्यथा सरकारी टीकाकरण ही पोलियो को पुनः महामारी भी बना सकता है।

भारतीय स्वास्थ्य तंत्र के गंभीर खामियों के कारण पोलियो के सार्वभौमिक टीकाकरण कार्यक्रम को गंभीर झटका लगा है।सरकार के सार्वभौमिक पोलियो टीकाकरण के तहत बच्चों को पोलियो रोधी दवा अर्थात वैक्सीन की जो खुराक पिलाई जा रही थी,उसमें ही दुनिया भर से खत्म हो चुकी पोलियो का खतरनाक टाइप-2 वायरस मिलने की पुष्टि हुई है।अब तक कम से कम टाइप-2 वायरस से युक्त तीन बैच के 1.5 लाख शीशियों की पुष्टि हो चुकी है। आम जनता के स्वास्थ्य को लंबे समय से नुकसान पहुँचाने वाला 'पोलियो' एक बार फिर भारत में लौट सकता है।ज्ञात हो, विश्व स्वास्थ्य संगठन ने मार्च 2014 में भारत को औपचारिक रूप से पोलियो मुक्त घोषित किया था।

इस संपूर्ण मामले में चौकाने वाली बात यह है कि टाइप-2 वायरस वाली यह दवा बच्चों पिछले दो वर्षों से लगातार पिलाई जा रही थी।महाराष्ट्र, तेलंगाना और उत्तर प्रदेश में टाइप-2 पोलियो वायरस से युक्त दूषित"पोलियो बूँदें"बच्चों को पिलाई गई हैं।दरअसल,दिल्ली से समीप गाजियाबाद में स्थित मेडिकल कंपनी बायोमेड द्वारा बनाई गई ओरल पोलियो वैक्सीन या ओपीवी में टाइप -2 पोलियो वायरस पाए जाने की खबर से पोलियो की लौटने की संभावना जताई जा रही है।बायोमेड कंपनी सरकारी टीकाकरण अभियान के लिए पोलियो वैक्सीन की सप्लाई करती है।ये मामला तब सामने आया,जब उत्तर प्रदेश के कुछ बच्चों के मल में इस वायरस के लक्षण पाए गए।इस रिपोर्ट के बाद ओपीवी वैक्सीन के सैंपल को कसौली के सेंट्रल ड्रग लैबोरेटरी भेजा गया।इसी,जाँच में इस बात की पुष्टि हुई कि सैंपल में टाईप -2 पोलियो वायरस मौजूद हैं।

इस संपूर्ण मामले में हुई लापरवाही को समझने के लिए आवश्यक है कि हमलोग पोलियो टीकाकरण को समझें।पहले टाइप1,2 और 3 वायरस वाले पोलियो वैक्सीन इस्तेमाल में थे।लेकिन वैश्विक स्तर पर खतरनाक टाइप-2 वायरस के खात्मे के बाद टाइप 1और टाइप-3 वायरस वाले वैक्सीन का प्रयोग शुरू हुआ।वैश्विक स्तर पर खतरनाक टाइप-2 वायरस के आखिरी मामले को विश्व स्वास्थ्य संगठन ने उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में 1999 में दर्ज किया गया था।ऐसे में विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भारत सहित संपूर्ण दुनिया को टाइप- 2 पोलियो वायरस से मुक्त घोषित कर दिया।लेकिन अफगानिस्तान और पाकिस्तान में अब भी टाइप-1और टाइप-3 के रोगी पाए जाने के कारण भारतीय पोलियो टीकाकरण में टाइप-1 और टाइप-3 पोलियो वायरस के विरुद्ध प्रतिरोधी क्षमता उत्पन्न करने वाले पोलियो वैक्सीन प्रयोग किए जा रहे हैं,क्योंकि पोलियो वायरस अत्यंत संक्रामक प्रकृति के हैं।

टाइप-2 पोलियो वायरस के वैश्विक समाप्ति के बाद वैक्सीन बनाने वाली कंपनियों को वर्ष 2016 में भारत में आदेश दिया गया था कि 25 अप्रैल 2016 तक पोलियो टाइप-2 वायरस को नष्ट कर दिया जाए। बिल्कुल स्पष्ट निर्देश था कि जिस भी वैक्सीन में टाइप-2 वायरस हों,उस ओरल पोलियो वैक्सीन को नष्ट कर दिया जाए।ओरल पोलियो वैक्सीन से टाइप-2 घटक को हटाने का फैसला इसलिए किया गया था ताकि वैक्सीन से उत्पन्न होने वाले पोलियो वायरस से पोलियो होने के खतरा कम किया जा सकें।

संपूर्ण प्रकरण में गंभीर लापरवाहियाँ----

इस संपूर्ण प्रकरण में स्वास्थ्य मंत्रालय की कई खतरनाक लापरवाहियाँ लगातार सामने आ रही हैं।प्रथमतः जब 25 अप्रैल 2016 तक सभी दवाई कंपनियों को टाइप-2 पोलियो वायरस वाले वैक्सीन को नष्ट कर देना था,तब फिर गाजियाबाद के बायोमेड कंपनी ने इसको नष्ट क्यों नहीं किया?सभी कंपनियों को पोलियो सर्विलांस टीम के समक्ष दवाओं को नष्ट करने का सर्टिफिकेट लेना था।बायोमेड कंपनी ने टाइप -2 पोलियो वायरस वाली वैक्सीन को बिना समाप्त किए ही आखिर नष्ट करने वाले सर्टिफिकेट कैसे प्राप्त किए?अगर गलत ढंग से सर्टिफिकेट प्राप्त कर भी लिए तब भी 2 वर्षों तक बच्चों को प्रतिबंधित टीके की दवाई का लगातार सप्लाई क्यों की गई?

पोलियो मुक्त भारत पर खतरा क्यों?

ओपीवी में एक कमजोर वैक्सीन वायरस होता है,जिससे शरीर की प्रतिरक्षा प्रक्रिया(इम्यून रिस्पॉन्स) सक्रिय होती है।जब बच्चे को पोलियो टीके की खुराक दी जाती है,तब उसमें एंटीबॉडी निर्माण के साथ प्रतिरक्षा विकसित होती है।इसके साथ ही वायरस मल के साथ बाहर निकल जाता है।

WHO के मुताबिक जहाँ पर्याप्त साफ-सफाई न हो,वहाँ मल के जरिए बाहर आया ये वायरस फैल सकता है।ये वैक्सीन वायरस आनुवंशिक बदलाव के बाद लकवा मारने का कारण बन सकता है।इस टीके से उत्पन्न होकर फैलने वाला पोलियो वायरस या सीवीडीपीवी(cVDPV- circulating vaccine-derived polio virus) कहते हैं।वर्ष 2015 तक करीब 90 फीसदी सीवीडीपीवी के मामले पोलियो टीके की खुराक में इस्तेमाल टाइप-2 वायरस के कारण पाए गए थे।दूसरे शब्दों में कहें तो टाइप-2 पोलियो वायरस से यूँ भी पोलियो के फैलने का पैटर्न काफी ज्यादा है।जैसा हमलोग पहले ही जान चुके हैं कि ओरल पॉलियो वैक्सीन में कमजोर पोलियो वायरस का प्रयोग होता है।लेकिन गाजियाबाद के बायोमेड दवाई कंपनी के ओपीवी में वाइल्ड या सक्रिय टाइप-2 वायरस ही प्राप्त हुए है,जो अत्यंत खतरनाक है।

जब टाइप-2 का कमजोर पोलियो वायरस भी फिर से फैलने का क्षमता रखता था,तब फिर अब बायोमेड दवाई कंपनी के वैक्सीन से सीधे खतरनाक टाइप-2 वायरस से खतरे का अंदाजा लगाया जा सकता है।अब तीन राज्यों उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र और तेलंगाना में खतरे की घंटी बज गई है।

फिलहाल बायोमेड दवाई कंपनी के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली गई है और उसके मैनेजिंग डायरेक्टर को गिरफ्तार कर लिया गया है।इसके अलावा ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया ने अगले आदेश तक बायोमेड को किसी भी दवाई के निर्माण,बिक्री या वितरण पर रोक लगा दी है।

पोलियो वायरस के अत्यंत संक्रामक होने के कारण खतरा गंभीर----

पोलियो के संदर्भ में स्कैनिंग तीन चरणों में पूरा किया जाता है--प्रथम-टीकाकरण, द्वितीय-वायरस से प्रभावित बच्चों का परीक्षण और तीसरा-पोलियो सर्विलांस(पोलियो निगरानी)।अगर ये तीनों कसौटियां ठीक हैं,तो पूरे विश्वास से कह सकते हैं कि जोखिम कम होगा,क्योंकि पोलियो की निगरानी करने का तरीका उच्च मापदंड वाला है।लेकिन गाजियाबाद की बायोमेड कंपनी जिस तरह से लगातार दो वर्षों तक प्रतिबंधित वैक्सीन का सरकारी पोलियो टीकाकरण में प्रयोग करती रही ,उससे तय है कि व्यवस्था में निगरानी तंत्र काफी कमजोर हो चुका है।अगर 2000 में से एक बच्चा भी प्रभावित है,तो पोलियो सुरक्षा चक्र कमजोर हो जाता है और जोखिम पाँच फीसदी बढ़ जाता है या निगरानी के दौरान कोई बच्चा छूट जाता है,तो जोखिम ज्यादा बढ़ जाता है।ऐसे में इस बार के लापरवाही से पोलियो सुरक्षा चक्र कितना कमजोर हुआ होगा,उसका अनुमान लगाया जा सकता है।

जून 2016 में भी दक्षिणी राज्य तेलंगना में पोलियो का सक्रिय वायरस राज्य की राजधानी हैदराबाद में मिला था।इसके बाद स्थिति को नियंत्रण में करने के लिए केवल हैदराबाद में तीन लाख से ज्यादा बच्चों का अलग से टीकाकरण किया गया था।इस बार जिस तरह से भारत के तीन राज्यों में दो वर्षों से लापरवाही बरती गई, इससे सुरक्षा के लिए टीकाकरण कार्यक्रम के संपूर्ण सुरक्षा ढ़ाँचे पर पुनर्विचार की आवश्यकता है।

सरकार कह रही है कि इससे कोई खतरा नहीं है।लेकिन इसके बाद स्वयं अभी केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने तीनों राज्यों में पोलियो टीकाकरण को स्थगित कर दिया है,जिससे सरकारी पोलियो टीकाकरण खुद लकवाग्रस्त हो गया है।अब उन प्रभावित बच्चों को जिन्हें प्रतिबंधित वैक्सीन पिलाई गई है ,उनका ध्यान रखने की बात की जा रही है।लेकिन स्वयं स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार उन बच्चों के पहचान में काफी समस्याएँ आ रही हैं।

जहाँ पहले से ही देश के वर्ग विशेष में पोलियो टीका कार्यक्रम के प्रति संदेह रहे हैं,वैसे में इस घटना से पोलियो टीकाकरण कार्यक्रम के प्रति जनता में अविश्वास काफी बढ़ सकता है,जिसे शीघ्र दूर करने की आवश्यकता है।लेकिन पोलियो टीकाकरण कार्यक्रम में जिस प्रकार की असावधानियाँ लगातार दिख रही हैं,वह अत्यंत खतरनाक है।अभी सितंबर माह में ही पश्चिम बंगाल के हुगली जिले में बच्चों को पोलियो ड्रॉप्स के स्थान पर हेपेटाइटिस-बी के टीके के दवा पिला देने पर बीमार 114 बच्चों को अस्पताल में भर्ती कराया गया।आवश्यक है कि स्वास्थ्य मंत्रालय पोलियो टीकाकरण में हुए इस भयानक लापरवाही को छिपाने के स्थान पर जिम्मेदार लोगों पर कठोर कार्यवाई करे।

अब तक इस प्रकरण में केवल बायोमेड कंपनी के एमडी को गिरफ्तार किया गया है,लेकिन जिन लोगों ने कंपनी को गलत ढंग से टाइप-2 वायरस को नष्ट करने का प्रमाण पत्र दिया,उनपर भी कठोर कार्यवाई हो।स्वास्थ्य मंत्रालय ने इस संपूर्ण घटनाक्रम के बाद अब हर वैक्सीन में सभी तरह के वायरस की जांच के नियम बनाएँ हैं।अगर यही नियम शुरुआत से ही बना होता तो पोलियो सुरक्षा चक्र लगातार दो वर्षों से टूटता नहीं रहता।

Post a Comment

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget