जानिए,क्या है वायरल हो रही स्टैच्यू ऑफ यूनिटी की तस्वीर का सच

सरदार वल्लभ भाई पटेल की 182 मीटर ऊंची प्रतिमा ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ का उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 31अक्टूबर 2018 को करने वाले हैं।


डिजिटल टीम (UTNN)।।अहमदाबाद में नर्मदा नदी के किनारे‘लौह पुरुष’ सरदार वल्लभ भाई पटेल की 182 मीटर ऊंची प्रतिमा ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ का उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 31अक्टूबर 2018 को करने वाले हैं।  

इस प्रतिमा पर राजनीति होती रही है। पहले इस पर 'मेड इन चाइना' का ठप्पा लगा, तो अब मोदी सरकार पर हमला करते हुए एक तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। इस तस्वीर में स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के पास एक गरीब महिला अपने बच्चों साथ खाना खाती नजर आ रही है।

कुणाल सहगल (Twitter)  पर लिखा के  इस तस्वीर को देखने के बाद बोलती बंद 
पंकज नाम के ट्विटर हेंडल ने लिखा  स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के पीछे आदिवासियों की वास्तविकता’।


सच्चाई क्या है ?

दरअसल यह फेक तस्वीर दो फ़ोटो को मिलाकर बनाया गया है,ऐसा फोटोशॉप सॉफ्टवेर से किया गया है।सड़क पर अपने बच्चों के साथ खाना खाती महिला की तस्वीर को स्टैच्यू ऑफ यूनिटी की तस्वीर में फोटोशॉप कर मर्ज कर दिया गया है।
2010 में न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के अमित दवे ने वायरल तस्वीर में इस्तेमाल किया गया महिला और बच्चों की तस्वीर को अहमदाबाद में क्लिक किया था।

Reactions:

टिप्पणी पोस्ट करें

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget