#Varanasi #UP वाराणसी -ऐश्वर्या अपार्टमेंट के छठे मंजिल के फ्लैट में लगी आग,एक कि मौत।

वाराणसी, ऐश्वर्या अपार्टमेंट, प्रथम दृष्टया सबसे बड़ी लापरवाही अपार्टमेंट प्रबंधन की सामने आई है !


जित नारायण सिंह
वाराणसी महमूरगंज सिगरा स्थित विराट ऐश्वर्या अपार्टमेंट के आठवें तल पर संजीव तुलसियान अपने परिवार के साथ रहते हैं, बीती शाम लगभग पांच बजे अचानक लगी आग से अफरा तफरी मच गई। 

प्राप्त जानकारी के अनुसार वाराणसी के महमूरगंज स्थित विराट ऐश्वर्या अपार्टमेंट के छठी मंजिल स्थित फ्लैट में मंगलवार की शाम आग लग गई। आग लगने के कारण फ्लैट में सोये कक्षा 10 के छात्र ध्रुव तुलस्यान (15) की मौत हो गई और उसकी छोटी बहन मान्या (9) को बचा लिया गया। इस दौरान अपार्टमेंट में रहने वालों में अफरातफरी मच गया। दमकल की सात गाड़ियों ने कड़ी मशक्कत के बाद एक घंटे में आग पर काबू पाया। आग लगने की वजह प्रथम दृष्टया शार्ट सर्किट बताई गई है। वहीं, आग लगने के कारण फ्लैट का सारा सामान जल कर राख हो गया। 

बताया गया की, महमूरगंज इलाके के विराट एश्वर्या अपार्टमेंट के टॉप फ्लोर पर मौजूद संजीव तुलस्यान के फ्लैट में आग लग गई। आग लगने के बाद फ्लैट में मौजूद उनका बड़ा बेटा ध्रुव तुलस्यान और बेटी दोनों फंस गए आग इतनी भयंकर थी कि अंदर पुलिस और फायर ब्रिगेड के जवान नहीं पहुंच पा रहे थे काफी मशक्कत के बाद आग को कंट्रोल करके फायर ब्रिगेड के जवान अंदर घुसे तो अंदर फंसे दोनों बेहोश पड़े थे। बड़े बेटे ध्रुव की हालत गंभीर होने पर उसे अस्पताल भेजा गया, जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। 

संजीव एक मसाला कंपनी के मालिक हैं फ्लैट में संजीव की बेटी बाहर टीवी देख रही थी और ध्रुव अपने पालतू कुत्ते के साथ अंदर कमरे में सो रहा था, तभी अचानक आग लग गई आग बढ़ने से फ्लैट का दरवाजा पूरी तरह ब्लॉक हो गए, जिसकी वजह से खिड़की के रास्ते ध्रुव की बहन को बाहर रेस्क्यू कर निकाला गया, लेकिन ध्रुव और उसके कुत्ते को नहीं बचाया जा सका। 

राहत और बचाव कार्य के बीच मान्या को पहले निकाला गया वहीं ध्रुव को थोड़ी देर बाद निकाल कर समीप स्थित निजी अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। डॉक्टरों के अनुसार ध्रुव की मौत दम घुटने से हुई है। पड़ोसियों की सूचना पर घर पहुंचे ध्रुव के पिता और मां का रो-रोकर बुरा हाल था। परिजनों के आग्रह पर पुलिस ने पंचनामा कर शव उन्हें सुपुर्द कर दिया। 

इस पूरी घटना में प्रथम दृष्टया सबसे बड़ी लापरवाही अपार्टमेंट प्रबंधन की सामने आई है क्योंकि यहां पर मौजूद फायर फाइटिंग के सभी इक्यूपमेंट फायर पंप, एक्सटिंग्युशर समेत अन्य सभी चीजें खराब पड़ी थी।

सी.एफ.ओ. अपने बयान में बताया कि आग बुझाने मे दमकल की 7 गाड़ियों की मदद से ही आग पर काबू पाया गया।
बचाव कार्य मे मुख्य भूमिका निभाने वाले मंडुआडीह थानाध्यक्ष संजय त्रिपाठी सबसे पहले मय फोर्स उपस्थित हुए और जान पर खेलते हुए जिस कमरे में आग लगी थी,उसके  पीछे वाले कमरे से मूर्क्षित पड़े ध्रुव तुलसियान को बाहर निकाल कर नाजुक हालत मे नजदीकी अस्पताल में भर्ती कराया, कुछ देर बाद उनकी भी तबीयत बिगड़ने पर उन्हें भी उपचार हेतु भर्ती कराया गया।
रेस्क्यू के लिए पहुंचे पार्षद पति मुन्नू लाल बिंद ने बताया कि जब वह लोग यहां रेस्क्यू के लिए पहुंचे तो अपार्टमेंट में मौजूद फायर फाइटिंग के सभी संसाधन ढूंढ़ रहे थे, लेकिन किसी को कुछ मिला ही नहीं। इसकी वजह से आग को समय पर काबू नहीं किया जा सका फिलहाल इस पूरे घटनाक्रम में अभी आधिकारिक रूप से कोई कुछ नहीं बोल रहा है, लेकिन दबी जुबान से फायर ब्रिगेड के अधिकारी भी अपार्टमेंट के लोगों की गलती मान रहे हैं।
ख़बर/लेख अच्छा लगे तो शेयर जरुर कीजिए। ख़बर पर आप अपनी सहमती और असहमती प्रतिक्रिया के रूप में कोमेंट बॉक्स में दे सकते हैं। आप हमें सहयोग भी कर सकते हैं,समाचार,विज्ञापन,लेख या आर्थिक रूप से भी। PAYTM NO. 7805875468 या लिंक पर क्लिक करके।

Post a Comment

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget