शक्तिनगर सेंट जोसफ स्कूल की शिक्षिका द्वारा क्रूरता से की गई पिटाई का मामला थाने पहुचा

स्कूल प्रबंधन के हनक के आगे योगी की पुलिस बेबस?


के सी शर्मा 

शक्तिनगर(सोनभद्र)।एनटीपीसी शक्तिनगर परिसर में संचालित सेंट जोसफ स्कूल में आज कक्षा 7 के शुभम शर्मा नामक लगभग 13वर्षीय छात्र की उसके शिक्षिका द्वारा क्रूरता से पिटाई किये जाने का मामला प्रकाश में आया है।जिसकी लिखित शिकायत स्थानीय थाने में छात्र के पिता मुकेश शर्मा द्वारा की गई है।शिकायत पर पुलिस जांच पड़ताल में जुट गई हैं ।

थाने में पिता द्वारा दी गयी तहरीर में लिखा गया है की शिक्षिका प्रीति मुखर्जी(चटर्जी) ने मेरे निर्दोष बेटे को इतना निर्ममता और क्रूरता से मारा पीटा कि वह बुरी तरह डरा और सहमा हुआ है।उसे गाल और कान पर गम्भीर चोट आई है।उसको कान में दर्द हो रहा है ।जिसका उपचार कराया जा रहा है।गाल पर चोट के निसान साफ देखा जा रहा है।

स्कूल प्रबंधन के हनक के आगे योगी की पुलिस बेबस?
केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के नियमो के अनुसार बच्चो के साथ किसी भी तरह का शारीरिक या मानसिक दंड नही दिया जाना चाहिए ।

राईट टू एजुकेशन एक्ट के सेक्शन 17(1) के तहत यह स्पष्ट उल्लेख है कि शारीरिक और मानसिक प्रताड़ना मना है तथा (17)-(2)सेक्शन में ऐसा करने वाले शिक्षक और शिक्षिका को जेल एवं जुर्माने का प्रावधान हैं।क्यो कि इसे कानून में आपराधिक अपराध माना गया हैं।इसके अतिरिक्त जुनाईल जस्टिस्ट एक्ट 2000 के सेक्शन 23 में भी उपरोक्त सन्दर्भ में सजाय और जुर्माने दोनो का भी प्रावधान है।

इसके बाद भी स्थानीय थाने में अभी तक प्राथमिक दर्ज नही करना हैरत में डालने वाली बात है।वाह रे योगी सरकार और उसकी पुलिस तेरा मालिक भगवान ही है।समाचार लिखे जाने तक थाने में शिकायत कर्ता व पीड़ित को ही थाने में बुला कर बैठाया गया है।यह हनक है स्कूल के फादर का,जहां पुलिस भी कार्यवाही करने की नही जुटा पारही है हिम्मत ।

क्या है मामला 
सेंट जोसफ की शिक्षिका बच्चे के साथ मात्र एक छोटी सी गलती की बच्चे के द्वारा डस्टवीन में गंदे कागज के टुकड़े के फेकने के बजाए जल्दीबाजी में बाहर ही फेक दिया,जिसे देख उक्त शिक्षिका आपे से बाहर आगयी और बच्चे को बुला बुरी तरह निर्ममता से क्रूरता पूर्वक पिटाई करने लगी,जिससे बच्चे को गाल और कान में काफी चोटे आगयी।बच्चे का गाल सूज गया हैं और उसके कान में अंदरूनी काफी चोट आना बताया जा रहा है ।जिसका उपचार स्थानीय चिकित्सको द्वारा कराया जा रहा है।बच्चे की मां जब स्कूल में फादर से मिलने गयी तो फादर ने मिलने से मना कर दिया।

इसके बाद आक्रोषीत परिजन स्थानीय थाने में पहुचे ,जहा स्थानीय पुलिस ने दिगयी लिखित शिकायत पंजीकृत कर बच्चे की मेडिकल कराने के बजाय ,उसके परिजनों को यह कह पुलिस वापस घर भेज दी की मामले की जांच के बाद कार्यवाही होगी।

परिजनों सहित स्थानीय नागरिकों ने सोनभद्र के पुलिस अधीक्षक का इस ओर ध्यान आकृष्ट करते हुए स्थानीय थाने ने मुकदमा पंजीकृत कर शीघ्र आवश्यक कार्यवाही की मांग की है।
Labels:
Reactions:

Post a Comment

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget