कांग्रेस,भाजपा के किस आइडियोलॉजी का विरोध करती है?

अवाम के जरुरी मुद्दे,गरीबी-बेरोजगारी,आवास - जैसे सिरियस मुद्दों की बात कौन करेगा?


मध्य प्रदेश की कांग्रेस सरकार ने शासन द्वारा नियंत्रित मंदिरों के पुजारियों का मानदेय तीन गुना बढ़ाकर 3 हजार रुपये कर देने की घोषणा की है। इसके साथ ही प्रदेश सरकार ऐसे मंदिरों की आर्थिक सहायता भी करेगी जो अपनी भूमि पर गोवंश की देखभाल करेंगे। अध्यात्म विभाग के कैबिनेट मंत्री ने बताया कि प्रदेश के 25 हजार से अधिक पुजारी लाभान्वित होंगे। 

प्रदेश के नए बने अध्यात्म विभाग के कैबिनेट मंत्री पीसी शर्मा ने जानकारी देते हुए कहा, ‘शासन नियंत्रित ऐसे मंदिर जिनके पास कोई भूमि नहीं है, उनके ऐसे पुजारियों को पूर्व में एक हजार रुपये का मानदेय मिलता था। इसे बढ़ाकर अब एक जनवरी से 3 हजार रुपये प्रतिमाह कर दिया गया है। इसी प्रकार पांच एकड़ तक भूमि वाले मंदिर के पुजारियों का मानदेय 700 रुपये से बढ़ाकर 2,100 रुपए तथा 10 एकड़ भूमि वाले मंदिरों के पुजारियों का मानदेय 520 रुपए से बढ़ाकर 1560 रुपये प्रतिमाह किया गया है।’ 
अपना हिन्दू मुस्लिम वाला बैलेन्स बनाते हुए मंत्री जी नें आगे बताया कि इसी तरह से वक्फ बोर्ड के तहत आने वाले मस्जिदों के मुस्लिम मौलवियों के मानदेय में भी वृद्धि की जाएगी।
ऐसी घोषणाओं और योजनाओं के पीछे की सच्चाई(वोट बैंक की राजनीती) किसी से भी छुपी नहीं।बावजूद इसके इस तरह की राजनीती क्यों परवान चढ़ रही है यह सबसे अहम सवाल है? दरअसल विकास की राजनीती थोडा मुश्किल है और सता के लिए कठिन डगर क्योंकि विकास हवा हवाई नहीं हो सकता जो सिर्फ लफ्फाज़ी से लोगों को समझाया जा सके उसके लिए तथ्य की आवश्यकता होती हो। अब सियासत ने अपने लिए आसान राह जिसमें विकास को दरकिनार कर मंदिर मस्जिद,गाय,गोबर, पाकिस्तान और राष्ट्रवाद या देशद्रोही जैसे भवनात्म वादों नारों और चिल्ला-चोट को चुन लिया है।
काँग्रेस जो हिन्दू-मुस्लिम वाली राजनीति का आरोप भाजपा पर लगाती रही है,अब भाजपा के नक्शेकदम पर चलने लगी है,ऐसे में कांग्रेस को यह सोचना चाहिए के आखिर वह भाजपा के किस आइडियोलॉजी का विरोध करती है?
देश के दोनों प्रमुख राजनितिक पार्टी सत्ता पाने के लिए आसान राह चुन लेगी तो अवाम के जरुरी मुद्दे,गरीबी-बेरोजगारी,आवास - जैसे सिरियस मुद्दों की बात कौन करेगा?
प्रतिक्रियाएँ:

एक टिप्पणी भेजें

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget