प्रधानमंत्री मोदी ने नेशनल वॉर मेमोरियल राष्ट्र को किया समर्पित


25 फरवरी 2019 की तारीख, आज देश को पहला नेशनल वाॅर मेमोरियल (राष्ट्रीय युद्ध स्मारक) मिला है। जो देश के परमवीरों की शौर्यगाथाओं को संजोए हुए है।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को राजधानी दिल्ली में बने देश के पहले युद्ध स्मारक को राष्ट्र को समर्पित किया।

पहली बार 1960 में नेशनल वॉर मेमोरियल बनाने का प्रस्ताव सशस्त्र बलों ने दिया था। सरकारों की उदासीनता, ब्यूरोक्रेट्स और सेना के बीच गतिरोध से इसका निर्माण नहीं हो सका। मोदी सरकार ने अक्टूबर 2015 में इस स्मारक के निर्माण को मंजूरी दी थी।नेशलन वाॅर मेमोरियल का उद्घाटन 15 अगस्त 2018 को होना था,लेकिन किन्हीं कारणों से टाल दिया गया था।
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा,‘नया हिंदुस्तान, नया भारत,आज नई नीति और नई रीति के साथ आगे बढ़ रहा है. मजबूती के साथ विश्वपटल पर अपनी भूमिका तय कर रहा हैउसमें एक बड़ा योगदान आपके शौर्य,अनुशासन और समर्पण का है
देखिए,तस्वीरें देश के पहले #NationalWarMemorial 

इस स्मारक में आजादी के बाद देश के लिए अपनी जान कुर्बान करने वाले 26,000 जवानों के नाम अंकित हैं।शहीदों की याद में नेशनल वाॅर मेमोरियल को इंडिया गेट के पास ही 40 एकड़ के दायरे में बनाया गया है। इस मेमाोरियल को बनाने में 176 करोड़ की लागत लगी है।इस नेशनल वाॅर मेमोरियल में सेना,नौसेना और वायुसेना की 6 अहम लड़ाइयों का जिक्र है।


क्या ख़ास है वाॅर मेमोरियल में?
  • ये वाॅर मेमोरियल 1947-48, 1961 में गोवा मुक्ति आंदोलन,1962 में चीन से युद्ध,1965 में पाक से जंग, 1971 में बांग्लादेश निर्माण, 1987 में सियाचिन, 1987-88 में श्रीलंका और 1999 में कारगिल में शहीद होने वाले सैनिकों के सम्मान में इसे बनाया गया है। 
  • मेमोरियल के चारों ओर सफेद दूधिया लाइट लगाई गई हैं। 
  • नेशनल वाॅर मेमोरियल में चार चक्र बनाये गये हैं। 
  • सबसे अंदर अमर चक्र है जिसमें 15.5 मीटर ऊंचा स्मारक स्तंभ है, जहां अमर ज्योति जलेगी।
  • दूसरा वीरता चक्र है।सेना,वायु सेना और नौसेना के छह अहम युद्धों के बारे में बताया गया है।
  • तीसरा, त्याग च्रक है। इसमें उन 26,000 सैनिकों के नाम अंकित हैं, जिन्होंने देश के लिए अपनी जान दी।
  • चौथा सुरक्षा चक्र है। इसमें 695 पेड़ हैं जो देश की रक्षा में तैनात जवानों को दर्शाते हैं।
  • विजय चौक से इंडिया गेट और नेशनल वाॅर मेमोरियल दिखाई देता है।
  • 21 परमवीर चक्र विजेताओं को विशेष सम्मान, सभी के स्कल्पचर बनाया गया है। 
  • हर शाम मेमोरियल में सैन्य बैंड के साथ शहीदों को सलामी दी जायेगी।
Labels:
Reactions:

Post a Comment

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget