मध्य प्रदेश अपरहण और हत्या मामले में 6 गिरफ्तार,कमलनाथ ने बच्चों के पिता से की बात,दिया बड़ा आश्वासन


मध्य प्रदेश सतना जिले के तेल कारोबारी के जुड़वां बच्चों की हत्या के बाद लोगों में आक्रोश है। 12 फरवरी को अगवा किए गए दो जुड़वां बच्चों श्रेयांश और प्रियांश की शनिवार को हत्या कर दी गई। दोनों के शव उत्तरप्रदेश के बांदा में नदी के पास मिले। बताया जा रहा है कि अपहरणकर्ताओं ने 20 लाख की फिरौती मिलने के बाद भी बच्चों की हत्या कर दी।
मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि मैंने बच्चों के पिता से बात की है, इस घटना के पीछे किसकी साजिश है इसका पर्दाफाश जल्द हो जाएगा। जिस गाड़ी से किडनैप किया गया था उस पर किसका झंडा लगा था इन सबकी जांच चल रही है। विपक्ष डरा हुआ है क्योंकि उनके लोग इसमें शामिल हैं।
दोनों बच्चों की उम्र 5 साल थी। वे छुट्टी के बाद चित्रकूट के स्कूल से सतना वापस आ रहे थे। उस दौरान बदमाशों ने स्कूल बस से अगवा कर लिया। पूरी वारदात बस में लगे सीसीटीवी में रिकॉर्ड हुई थी। फुटेज में बदमाश रिवॉल्वर दिखाकर बच्चों का अपहरण करते नजर आए थे। पुलिस के मुताबिक- बदमाशों ने पहले बंदूक दिखाकर बस को रुकवाया और फिर दोनों बच्चों को बस से उठाकर ले गए। बच्चे चित्रकूट के सद्गुरु ट्रस्ट के एसपीएस स्कूल में पढ़ते थे।

बच्चों की निर्मम हत्या के बाद सूबे में सियासत भी शुरू हो गई। बीजेपी ने इस घटना का हवाला देकर मुख्यमंत्री से इस्तीफ़ा की मांग किया, तो वहीं कांग्रेस सरकार के मंत्री ने उत्तर प्रदेश बांदा में बच्चों की हत्या का हवाला देकर मुख्यमंत्री योगी से इस्तीफे की मांग कर डाली।
मध्य प्रदेश के सतना में हुई किडनैपिंग के मामले में मंत्री शर्मा ने यूपी सरकार को ज़िम्मेदार ठहराते हुए कहा कि 'घटना के लिए उत्तर प्रदेश सरकार दोषी है क्योंकि हत्या उत्तर प्रदेश में हुई और इस तरह के गिरोह उत्तर प्रदेश से संचालित होते हैं, इसलिए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी को इस्तीफा देना चाहिए'
पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कमलनाथ सरकार को कटघरे में खड़ा किया है। शिवराज ने कहा 'कांग्रेस ने दो महीने में प्रदेश को शांति के टापू से अपराध का महाद्वीप बना दिया है। बाहरी लोग मंत्रियों को डांट रहे हैं, प्रशासनिक निर्णयों में खुलेआम हस्तक्षेप किया जा रहा है। मिस्टर बंटाधार रिटर्न्स हो रहा है।'

पुलिस ने 50 हजार का इनाम देने का ऐलान किया था

घटना के अगले ही दिन पुलिस ने आरोपियों का सुराग देने वाले को 50 हजार का इनाम देने का ऐलान किया था। इस मामले में कुछ संदिग्धों को हिरासत में लिया गया है।

शहर में धारा 144 लागू

दोनों बच्चों के शव मिलने के बाद इलाके में आक्रोश फैल गया है। हजारों लोग सड़कों पर उतर आए हैं और उन्होंने सड़क जाम कर किडनैपर्स की गिरफ्तारी की मांग की है। बेकाबू होती भीड़ पर पुलिस को आंसू गैस के गोले भी दागने पड़े। प्रदर्शनकारियों ने उस स्कूल पर भी पत्थर बरसाए जहां वे दोनों बच्चे पढ़ते थे। तनाव बढ़ता देख इलाके में धारा 144 लागू कर दिया गया है

जरुर पढ़िए,और बात सच्ची लगे तो शेयर कीजिए 

Reactions:

Post a Comment

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget