वह कौन डकैत है जो,अपने 700 साथियों के साथ पाक से जंग लड़ने को तैयार हैं।

हम गांव और जिले के बागी रहे पर देश के बागी कभी नहीं हुए।


पुलवामा में सीआरपीएफ पर हुए आतंकी हमले के बाद देश की जनता में आक्रोश और जनता केंद्र सरकार से पाक के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग कर रही है। इसी बीच एक दौर में बीहड़ों में कुख्यात रहे पूर्व डाकू मलखान सिंह ने कहा है कि वह अपने 700 साथियों के साथ पाक से जंग लड़ने को तैयार हैं। पूर्व दस्यु सरगना ने कहा कि मध्य प्रदेश में 700 बागी (डाकू) बचे हैं, जिनके साथ वह सीमा पर मरने के लिए तैयार हैं।

मीडिया से बात करते हुए मलखान ने कहा कि यदि सरकार हमें अनुमति दे तो हम बिना शर्त, बिना वेतन के अपने देश के लिए बार्डर पर मरने को तैयार हैं। एक समय बीहड़ में कुख्यात रहे मलखान सिंह ने कहा कि हमसे लिखवा लिया जाए कि हम मारे जाएं तो कोई जुर्म नहीं। बचा हुआ जीवन हम लगाने को तैयार हैं। अगर इसमें पीछे हट जाए तो नाम मलखान सिंह नहीं है। 
हमने 15 साल कथा नहीं बाची है।माँ भवानी की कृपा रही तो, हमारा कुछ नहीं बिगड़ेगा। हाँ पाकिस्तान को धुल जरुर चटा देंगे।
कौन है मलखान सिंह 

मलखान सिंह पहले एक कुख्यात डाकू थे। साल 1982 में उन्होंने आत्मसमर्पण कर दिया था। तब मध्यप्रदेश में अर्जुन सिंह की सरकार थी। केंद्र में इंदिरा गांधी सत्ता में थी। इंदिरा गांधी के आवाहन पर ही उन्होंने आत्मसमर्पण किया था।
अपने इतिहास के बारे में बताते हुए मलखान ने कहा कि हम देश के महात्माओ की तरह नहीं है। हमारा इतिहास बहुत मजबूत रहा है। हम साधुओ की तरह कुकर्म कर के जेल में नहीं पड़े है कोई बता दे हमारा इतिहास अगर कहीं से भी इस तरह का रहा हो।हम गांव और जिले के बागी रहे पर देश के बागी कभी नहीं हुए।
Reactions:

टिप्पणी पोस्ट करें

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget