कश्मीर के पुलवामा में आतंकी हमले में शहीद हुए जवानों को श्रद्धांजलि एवं शोक सभा


अंकुर पटेल
विशेष संवाददाता
मुफ्ती-ए-शहर"मौलाना अब्दुल बातीन नोमानी"जी के आवाह्न पर जमियत उल अंसार,सर्वधर्म समभाव सद्भावना एवं साहित्यि भारती के संयोजकत्व में, कार्यालय जमीयत उल अंसार काश्मीर के पुलवामा में पाकिस्तान समर्थित आतंकी हमले में हुए शहीद जवानों के आत्मा की शांति एवं उनके परिवार को साहस एवं शक्ति प्रदान करने के लिए, सभी धर्मों के लोगों ने अपनी अपनी तरह से प्रार्थना,अरदास, एवं अल्ल्लाह से इबादत/दुआख्व़ानी की।

जिसमें प्रमुख रुप से गुरुद्वारा नीचीबाग के भाई धर्मवीर सिंह,चर्च कैंटोनमेंट के फादर चंद्रकांत, जमियत उल अंसार के अध्यक्ष इसरत उस्मानी,सर्वदलीय गौरक्षा मंच के शहर अध्यक्ष महेन्द्र विक्रम सिंह, साहित्यिक मंच उत्तर-प्रदेश के अध्यक्ष व उपाध्यक्ष कमलेश विष्णु "जिज्ञासु", इंद्रजीत तिवारी, जनकल्याण परिषद् के अध्यक्ष गंगा सहाय पाण्डेय, नेहरू पाण्डेय,डा ब्रजेंद्र नारायण द्वेदी "शैलेश" जी, संतोष कुमार'प्रीत'कवि रामनरेश"नरेश", अध्यक्ष राजेश मिश्रा उत्तर प्रदेश पत्रकार परिषद, अधिवक्ता अंकुर पटेल,अब्दुल रजा कमाली, कलीम, हाफ़िज़ मुम्मताज ने अपने अपने उद्गार व्यक्त किये, तथा सरकार से मांग की कि शहीदों के परिजनों को सरकारी नौकरी एवं आर्थिक सहायता प्रदान करें ।


सभा का समापन कमलेश विष्णु जिज्ञासु ने इन शब्दों के साथ किया
"आज मैं स्तब्ध हूं निः शब्द हूं,
क्या कहूं क्या ना कहूं यह समझ आता नहीं!
अंतरस्थ की व्यथा को व्यक्त करपाता नहीं,!
दर्दे दिल की व्यथा को व्यक्त करने के लिए शब्द मिलपाया नहीं

टिप्पणी पोस्ट करें

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget